दुनिया

मोदी के मित्र ट्रम्प का अब तक का सबसे बड़ा अपमान : रिपोर्ट

अमेरिकी राष्ट्रपति और भारत के प्रधानमंत्री मोदी की दोस्ती की मिसालें दी जाती हैं, भारतीय टीवी चैनलों पर कुछ समय पहले तक ‘मोदी-ट्रम्प’ की बल्ले बल्ले होती थी, अमेरिका का रानगरंग कार्यक्रम हो गुजरात में ट्रम्प का ज़ोरदार स्वागत, मोदी और ट्रम्प की जोड़ी छायी रहती थी, फिलहाल ट्रम्प अमेरिका में चुनाव हार चुके हैं और भारत में उनके मित्र मोदी किसानों के मामले को लेकर निशाने पर हैं

अमरीकी कॉन्ग्रेस की अध्यक्ष नेन्सी पेलोसी ने राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रम्प का अपमान करते हुए कहा है कि वह ट्रम्प को वाइट हाउस से झोटा पकड़ कर बाहर निकालने का वक़्त गिन रही हैं।

पॉलिटिको के मुताबिक़, नैन्सी पेलोसी ने अपने अधीन टीम से कहाः मैं घंटे गिन रही हूं कि वह कब जाएगा। मैं उसका झोटा, उसके “लिटिल हैंड्स” और पैर से घसीट कर निकालने की योजना बना रही हूं।

जहाँ चुने गए राष्ट्रपति बाइडेन अमरीकियों से एकता और हमदर्दी से काम लेने की सिफ़ारिश कर रहे हैं, लगता है सप्ताहांत तक राष्ट्रपति के लिए पेलोसी के मन में इस तरह की टिप्पणी नहीं थी जब डेमोक्रैट्स कोविड-19 रिलीफ़ बिल से पहले रणनीति बना रहे थे।

अब जो ताज़ा धमाका है वह ट्रम्प और पेलोसी के बीच जारी लड़ाई का हिस्सा है। रिपोर्ट के मुताबिक़, दोनों के बीच अक्तूबर 2019 में हुयी बैठक के वक़्त से बात नहीं हुयी है, जिसमें ट्रम्प ने पेलोसी को तीसरे दर्जे की राजनेता कहा था और पेलोसी ने पत्रकारों से कहा था कि उन्हें ट्रम्प के दिमाग़ सही रहने की दुआ करनी होगी।

ग़ौरतलब है कि लिटिल हैंडस से अंग्रेज़ी में मर्द के गुप्तांग की साइज़ का मतलव निकालते हैं।


ट्रम्प का अंजाम, सद्दाम से बेहतर नहीं होगाः रूहानी

राष्ट्रपति रूहानी ने कहा है कि इराक़ के पूर्व तानाशाह सद्दाम ने ईरान पर सामरिक युद्ध और अमरीका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प ने ईरान पर आर्थिक युद्ध थोपा है और ट्रम्प का अंजाम भी सद्दाम से बेहतर नहीं होगा।

डाॅक्टर हसन रूहानी ने बुधवार को मंत्रीमंडल की बैठक में इराक़ की बासी सरकार द्वारा इस्लामी गणतंत्र ईरान पर थोपे गए युद्ध की तरफ़ इशारा करते हुए कहा कि ईरानी जनता ने थोपे गए सामरिक युद्ध में एक दूसरे के कंधे से कंधा मिला कर, पूरी एकजुटता के साथ एक आवाज़ हो कर सद्दाम को पराजित कर दिया था। उन्होंने इस बात का उल्लेख करते हुए कि सद्दाम को फांसी पर लटकाया गया था, कहा कि ईरानी राष्ट्र ने अपने प्रतिरोध से उन लोगों की साज़िशों को नाकाम बना दिया जो घमंड के साथ ईरान की पराजय का इंतेज़ार कर रहे थे।

राष्ट्रपति हसन रूहानी ने अंतर्राष्ट्रीय संगठनों में अमरीका की पराजयों की तरफ़ इशारा करते हुए कहा कि अमरीकी जब भी संयुक्त राष्ट्र संघ और अंतर्राष्ट्रीय संगठनों में ईरान के ख़िलाफ़ खड़े हुए, उनके पारंपरिक दोस्तों ने भी उनका साथ नहीं दिया और यूरोप ने भी उनकी बात नहीं मानी। राष्ट्रपति ने कोरोना के बारे में कुछ संचार माध्यमों की चिंताओं की तरफ़ इशारा करते हुए कहा कि हमें भविष्य में कोरोना के बारे में कोई चिंता नहीं है और इस वायरस की वैक्सीन की तैयारी में हम दुनिया के अन्य देशों के साथ ही आगे बढ़ रहे हैं। डाॅक्टर रूहानी ने कहा कि पिछले हफ़्तों में कोरोना की तीसरी लहर को नियंत्रित किया गया और मरने वालों की संख्या में 50 प्रतिशत तक की कमी आई है। उन्होंने कहा कि हम जनता को शुभ सूचना देते हैं कि कोरोना की वैक्सीन विदेश से भी मंगाई जाएगी और जल्द ही देश में भी तैयार होने लगेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *