देश

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने रामदेव की दवा पर कड़ी आपत्ति जतायी, कहा अगर रामदेव की कोरोनिल से कोरोना का इलाज हो जाएगा तो सरकार वैक्सीनेशन पर 35 हज़ार करोड़ क्यों ख़र्च कर रही है!

बाबा रामदेव ने शुक्रवार को कोरोनावायरस की आयुर्वेदिक दवा का ऐलान किया, और दवा के रिसर्च पेपर की बुक लॉन्च की. ऐलान के वक्त केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन तथा केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी उनके साथ मौजूद थे. बाबा रामदेव ने छत्रपति शिवाजी महाराज की जयंती को ऐतिहासिक दिन बताते हुए कहा कि आयुर्वेद के बारे में रिसर्च को लेकर लोगों में शंकाएं बनी रहती हैं, लेकिन हमने शंका के सभी बादलों को छांटकर रिसर्च और एविडेंस के आधार पर ही दवा तैयार की है.

नितिन गडकरी ने कहा कि मुझे खुशी है कि योग आयुर्वेद में रिसर्च के लिए बाबाजी और आचार्य जी ने बहुत बड़े अनुसंधान संस्थान की स्थापना की है. योग और आयुर्वेद पूरे विश्व को दिशा दे सकता है. हिंदुस्तान में रहकर ये बात शायद न समझे, लेकिन जर्मनी में जाएंगे तो समझेंगे. रिसर्च बहुत आवश्यक होती है. बाबाजी को हम योग और आयुर्वेद के ब्रांड एम्बैसडर के रूप में देखते हैं. चमत्कार के बिना कोई नमस्कार नहीं करता, लोगों को अनुभव हुआ तो उन्होंने स्वीकार किया.अभी तक विश्वास के आधार आयुर्वेद में दवा देते थे. लेकिन अब रिसर्च और एविडेंस के ज़रिए इसकी प्रमाणिकता बढ़ती है.

इस अनुसंधान और वैज्ञानिक रूप सर काम करने के लिए बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण को बधाई. दोबारा रिसर्च के साथ सामने आने पर लोगों का भरोसा इस पर बढ़ेगा.


रामदेव ने कोरोना की दवाई के रिसर्च पेपर पेश किए, जानें बड़ी बातें

– आज ऐतिहासिक दिन है, छत्रपति शिवाजी महाराज की जयंती है

– एविडेंस और रिसर्च के आधार पर हमने कोरोना की दवाई बनाई है.

– मॉडर्न मेडिकल साइंस के नियम फॉलो किए हैं, रिसर्च पेपर पब्लिश भी हो चुके हैं, और कुछ पाइपलाइन में भी हैं.

– जब हमने पहले लॉन्च किया था, तो सवाल उठाए गए थे.

– अब शक के बादल हमने छांट दिए हैं, और रिसर्च के साथ सामने आए हैं.

– दरअसल, आयुर्वेद के बारे में लोगों को रिसर्च को लेकर शंका बनी रहती है.

– बाबा रामदेव, नितिन गडकरी और डॉ हर्ष वर्धन ने कोरोना के लिए बनी दवाई के रिसर्च पेपर की बुक लांच की.

Archana Singh
@BPPDELNP
नकली बाबा यानी असली लाला #Ramdev से यही उम्मीद थी?
corona-19 की असली दबा 2028 से पहले नही आयेगी 2021 से 2029 तक का सफर बहुत ही दर्दनाक होने बाला हैं अपने धैर्य को मत खोने दीजिये अब ऐसा ही होगा जो धरती पे पहले कभी नही हुआ थासब कुछ पहली बार होगा?रामदेव दवा धोखा है?

Kajal Rajput
@Kajalrajput2184
इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने बाबा रामदेव की दवा पर कड़ी आपत्ति जताते हुए कहा है कि अगर रामदेव की कोरोनिल से कोरोना का इलाज हो जाएगा तो सरकार सरकार वैक्सीनेशन पर 35 हज़ार करोड़ क्यों ख़र्च कर रही है

Kajal Rajput
@Kajalrajput2184
@Kajalrajput2184
साथ ही केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन के पतंजलि की कोरोनिल का समर्थन करने पर इंडियन मेडिकल एसोसिएशन को ऐतराज जाताया है
IMA ने कहा कि देश के स्वास्थ्य मंत्री की उपस्थिति में बनाई गई एक अवैज्ञानिक दवा का गलत और मनगढ़ंत तरीके से फैलाना जिसे बाद में WHO ने खारिज कर दिया


Tejashwi Yadav
@BJPLeDubegi
भारत के सबसे धोखेबाज ब्रांड पतंजलि की कोरोनिल कोरोना की दवा नहीं हैं! डब्ल्यूएचओ समेत तमाम संगठन कह चुके हैं कि यह कोरोना कि दवा नहीं हैं. झूठे और मक्कार लाला रामदेव की कोरोनिल लौटाकर ठगों को माकूल जवाब दें! #return_coronil


Jogendra Kumar
@Jogendr53772534
हिंदुस्तान को मोदी ने ऐसा बना दिया खुद तो झूठ बोलते हैं लोगों को झूठ बोला नहीं सिखा दिया बाबा रामदेव नितिन गडकरी डॉक्टर हर्षवर्धन सरकार की बिना परमिशन के बाबा रामदेव कई दवा का प्रचार करते हैं अब सरकार की तरफ से लौट आता है कि हमने बाबा रामदेव को दवा की परमिशन नहीं दी

Dr. Udit Raj
@Dr_Uditraj
रजत शर्मा के ट्वीटर हैंडल के ख़िलाफ़ कार्यवाही होनी चाहिए।झूँठ बोला कि रामदेव के कोरोनिल को WHO से मान्यता मिल गई है।इस नक़ली दवा खाने से कितने बीमार और मर सकते थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *