देश

मंगोलपुरी के गां* कटुओ आओ, तुम्हारी माँ का भोस**…@DelhiPolice की मौजूदगी में मंगोलपुरी में ये गुंडे मुसलमानों को गालियां दे रहे हैं : वीडियो

 

 

भारत में मुस्लमान सबसे कमज़ोर वर्ग बन चुका है, कोई भी कभी भी मुसलमानों के खिलाफ किसी भी तरह की कार्यवाही कर सकता है, घर में घुस का उसकी हत्या की जा सकती है, आते जाते रास्ते में, ट्रैन में, बस में घेर कर मारा पीटा जा सकता है और सब करने वाले विशेष संगठन के साथ साथ सरकारों में बैठे सत्ताधारियों के समर्थक होते हैं, उन्हें ऊपर से नीचे तक हर लेवल पर संरक्षण मिला रहता है, पुलिस, जांच एजेंसियां, ख़ुफ़िया विभाग इनकी तरफ से आँखें बंद कर रखती हैं अगर मामला थोड़ा बहुत चर्चा में आता भी है तो दिन दो दिन बाद थाने, अदालत के माध्यम से निपटा लिया जाता है, मस्जिद पर कब्ज़ा करना हो, मस्जिद को ढहना हो, मुसलमानों को गलियां देना हो, उनके मज़हब को बुरा कहना हो, इन विशेष संगठन और सरकारों के संरक्षण प्राप्त आतंकवादियों के लिए कोई समस्या नहीं होती

Jagjit Singh
🙏🙏🙏🙏🙏🙏
_एक बार एक व्यक्ति ने आमिल से पूछा ॽ ख़ुदा के आगे हम क्यु सर झुकाते हैं
तो आमिल ने बड़ा प्यारा ज़बाब दिया
हमारी चिंताएं हमारे मस्तिष्क में निवास करती हैं जब हम ख़ुदा के आगे सिर झुकाकर बार बार सज़दा अदा करते हैं तो वो सारी चिंताएं हमारे मस्तिष्क से ख़ुदा के हजूर में पहुंच जाती हैं और हम चिंताओं से मुक्त हो जाते है

सुलतान सलाहउद्दीन अय्यूबी के दिल में उम्मते मुस्लिमा के लिए तड़प। 👇
सुलतान सलाहउद्दीन अय्यूबी ने शद्दाद से कहा मेरा असल गम यह है कि में हुक्मरा बनके मिस्र नहीं आया । अगर मुझे हुकूमत करने का नशा होता तो मिस्र की मोजूदा फिजा मेरे लिये साजगार थी । जिन्हें सिर्फ अमारत की गद्दी से प्यार होता है वह साजिशी जहन के हाकिमो को ज्यादा पसंद करते हैं । वह कोम को कुछ दिये बगैर लोगों को दिलकश मगर झूठे रंगों की तस्वीरें दिखाते रहते हैं । अपने जाती अमले में शैतानी खस्लत के अफराद को रखते हैं । वह अपने मातहेत हाकिमों को शहज़ादों का दर्जा दिये रखते हैं और खुद शहंशाह बन जाते हैं । में कहता हूं मुझ से यह गद्दी ले लो लेकिन मेरे रास्ते में कोई रूकावट खड़ी न करना । में जो मक़सद लेकर घर से निकला हूं वह मुझे पूरा कर लेने दो । नूरूद्दीन जंगी ने हज़ारों जवानों की कुर्बानी देकर और दरिया – ए – नील को अरब के मुजाहिदों के खून से सुर्ख करके शाम और मिस्र का इत्तिहाद कायम किया है । मुझे इस मुत्तहिद सल्तनत को वुसअत देनी है । सूडान को मिस्र में शामिल करना है । फलस्तीन को सलीबियों से छुड़ाना है । सलीबियों को यूरोप के वसत में ले जाकर किसी गौशे में घुटनों बिठाना है और मुझे यह फतूहात अपनी हुक्मरानी के लिये नहीं अल्लाह की हुक्मरानी के लिये हासिल करनी है मगर मिस्र मेरे लिये दलदल बन गया है । वह कौन सा गोशा है जहां साज़िश , बगावत और गद्दारी नहीं –

Wasim Akram Tyagi
@WasimAkramTyagi
जब सिस्टम बीमार हो जाता है तो तब ऐसे गुंडे दंगाई आतंकी उस देश का मुकद्दर बन जाते हैं। @DelhiPolice
की मौजूदगी में मंगोलपुरी में ये गुंडे मुसलमानों को गालियां दे रहे हैं, ना क़ानून का डर, न पुलिस की परवाह, मैं पूछना चाहता हूं @HMOIndia
@UNinIndia
@PMOIndia
से कि क्या एक्शन लेंगे?

Dilip Mandal
@Profdilipmandal
दिन लोगों ने कोरोनील को WHO सर्टिफ़ाइड बताया था, ट्विटर उनके ट्वीट डिलीट कर रहा है। विदेशों में मेडिकल फ़्रॉड को बहुत बड़ा अपराध माना जाता है। कई लोगों ने अपने ट्वीट खुद डिलीट किए हैं। यह बहुत गंभीर मसला है। दवा पर विश्वास या अविश्वास का मतलब ज़िंदगी और मौत है। #ArrestRamdev

Archana Singh
@BPPDELNP
#SC #ST #OBC के लोग जेलों में इसलिए बंद है क्योंकि न्याय करने वाले जजों में 90% ब्राह्मण है…. ??
ज्यूडिशियली पर कब्जा करना है तो #SC #ST #OBC के लोग अपने ही लोगो को चुने !
वोट तुम्हारा और राज इनका —
नही चलेगा – नही चलेगा

डिस्क्लेमर : इस आलेख ट्वीट्स/पोस्ट में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. लेख सोशल मीडिया फेसबुक पर वायरल है, इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति तीसरी जंग हिंदी उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार तीसरी जंग हिंदी के नहीं हैं, तथा तीसरी जंग हिंदी उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *