इतिहास

महान मुग़ल बादशाह औरंगजेब ने बचपन में ही किया था अपनी बहादुरी का प्रदर्शन : औरंगजेब के विजयी अभियान!

 

औरंगजेब (Aurangzeb), जिसका पूरा नाम अबुल मुजफ्फर मुहिनुदीन मुहम्मद औरंगजेब आलमगीर था , मुगल साम्राज्य का छठा और अंतिम प्रभावी शासक था उसने 1658 से लेकर अपनी 1707 में अपनी मौत तक हिंदुस्तान के बड़े हिस्से पर 49 वर्ष तक शासन किया था | औरंगजेब (Aurangzeb) ने अपने शासनकाल में मुगल साम्राज्य का सर्वाधिक विस्तार किया था |

उसने अपने जीवन में 3.2 मिलियन वर्ग किमी के हिस्से के 100-150 मिलियन लोगो पर शासन किया था | औरंगजेब को अपनी धार्मिक असहिष्णुता वाली नीतियों के कारण विद्रोहों का सामना करना पड़ा , जो उसकी मौत के बाद इतना बढ़ गया कि धीरे धीरे मुगल साम्राज्य का पतन हो गया | आइये आपको आज औरंगजेब (Aurangzeb) की सम्पूर्ण जीवनी से रुबुरु करवाते है |

बचपन में ही किया अपनी बहादुरी का प्रदर्शन

औरंगजेब (Aurangzeb) का जन्म 4 नवम्बर 1618 में गुजरात के दाहोद जिले में हुआ | वो शाहजहा की छठी सन्तान और तीसरा पुत्र था | उनके पिता उस समय गुजरात के शाषक थे | 1626 में उनके पिता शाहजहा के असफल विद्रोह के कारण ,औरंगजेब और उनके भाई दारा शिकोह को उनके दादाजी जहांगीर ने लाहोर दरबार में बंधक बना लिया था | 26 फरवरी 1628 में शाहजहाँ को अधिकारिक तौर पर मुगल बादशाह घोषित किया गया और औरंगजेब फिर से अपने माता पिता के पास आगरा किले में लौट गया |

औरंगजेब (Aurangzeb) ने आगरा में ही अरबी और पारसी भाषा में औपचारिक शिक्षा ली | उसे धर्मिक शिक्षा और इतिहास के अध्ययन के लिए प्रतिदिन 500 रूपये का भत्ता दिया जाता था | 28 मई 1633 को औरंगजेब मौत के मुह से निकलकर आया जब एक शक्तिशाली युद्ध हाथी मुगल शाही पडाव से भगदड़ मचाते हुए उनके पास आ गया | उसने हाथी की तरफ एक भाला फेंका और खुद को कुचलने से बचाया | औरंगजेब की इस बहादुरी पर उसके पिता ने उसको बहादुर का ख़िताब दिया और उसे सोने में तोला | इसके साथ ही उसको 2 लाख रूपये तक की उपहार दिए गये |

औरंगजेब के विजयी अभियान

15 दिसम्बर 1634 में औरंगजेब (Aurangzeb) को पहली बार कमान दी गयी जिसमे उसे 10,000 घोड़े and 4000 सिपाही दिए गये | उसे पहली बार शाही विशेषाधिकार देते हुए लाल तम्बू का उपयोग करने की अनुमति दी गयी | तत्पश्चात् औरंगजेब को सेना के नाममात्र प्रभारी के रूप में ओरछा के विद्रोही शाषक झुझार सिंह के खिलाफ बुंदेलखंड भेजा गया | झुझार सिंह ने शाहजहाँ के नियमो के विरुद्ध दुसरे राज्यों पर आक्रमण की चुनौती दी थी | व्यवस्था के अनुसार औरंगजेब को युद्ध से दूर पीछे रखा गया और मुगल सेना के एकत्रित होने पर उसके सेनापतियो की सलाह ली और ओरछा की घेराबंदी की | यह सैन्य अभियान सफल रहा और झुझार सिंह को सत्ता से हटा दिया गया |

औरंगजेब (Aurangzeb) को 1636 में दक्कन का वायसराय नियुक्त किया गया | शाहजहाँ के जागीरदारों को निज़ाम शाही राजकुमार मुर्तजा शाह III ने तबाह कर दिया था और अब वो अहमदनगर के खतरनाक विस्तार में लगा हुआ था | शाहजहा ने औरंगजेब को इस सैन्य अभियान के लिए भेजा और उसने 1636 ने निजाम शाही वंश को समाप्त कर दिया | 1637 में औरंगजेब ने दिलरस बानू बेगम से निकाह किया जो उसके पहली और प्रमुख बीबी थी | वो एक दासी हिराबाई के प्रति भी आसक्त था लेकिन जवानी में उसकी मौत ने उसे दुखी कर दिया | उसी साल औरंगजेब ने आसानी से एक छोटे राजपूत साम्राज्य बागलना भी हडप लिया था |

1644 में औरंगजेब (Aurangzeb) की बहन जहानारा एक हादसे में बुरी तरह जल गयी | इस घटना ने परिवार को सदमे में ला दिया |औरंगजेब ने इस कठिन घड़ी में आगरा ना लौटने के कारण अपने पिता को नाराज कर दिया | औरंगजेब इस घटना के तीन सप्ताह बाद आगरा आया | शाहजहा ने अपनी बेटी के स्वास्थ्य ठीक होने तक सेवा की और हजारो जागीरदार उनको ढाढस बंधाने आये | शाहजहा ने जब औरंगजेब को आंतरिक महल परिसर में सैन्य पोशाक में आते देखा तो क्रोधित होकर उसे तुरंत दक्कन के वायसराय के पद से बर्खास्त कर दिया| औरंगजेब को मुगल बादशाह के सारे अधिकार छीन लिए गये |

1645 में उसका सात महीनों तक दरबार में प्रवेश वर्जित कर दिया और उसने मुगल सेनापतियो को अपना दुखड़ा सुनाया | उसके बाद सेनापतियो की सिफारिश पर औरंगजेब को गुजरात का शाषक नियुक्त किया गया जहा उसने सुव्यवस्थित शाषन किया और स्थिरता लाया | 1647 में शाहजहा ने उसे गुजरात से बल्ख का शाषक नियुक्त किया जहा पर उसका छोटा बेटा मुराद बक्श अप्रभावी साबित हुआ था | वो इलाका उज्बेक और तुर्कमों जनजातियो के हमले में था | सर्दियों की शुरुवात में औरंगजेब और उसके पिता को उज्बेको के साथ एक अंसतोषजनक संधि करनी पड़ी |अब आगे औरंगजेब को मुल्तान और सिंध का शासक नियुक्त कर दिया | उसके प्रयासों से 1649 और 1652 में कंधार में सफाविद को हटा दिया |

औरंगजेब (Aurangzeb) का सत्ता के लिए संघर्ष

1657 के अंत में शाहजहा बीमार पड़ गया | उसकी प्यारी पत्नी मुमताज महल भी 1631 में मर चुकी थी और शाहजहा उसके गम को कभी भुला नही पाया था | उसकी हालत अब धीर धीरे ज्यादा बिगड़ रही थी जिसके कारण उसके चारो बेटे मयूर सिंहासन की जंग के लिए लड़ने को तैयार हो गये | शाहजहा को अपने बड़े बेटे दारा शिकोह से बेहद लगाव था लेकिन ज्यादातर मुस्लिम उसे सांसारिक और अधार्मिक मानते थे |
शाहजहा का दूसरा बेटा शुजा आरामपसंद था और उसने बंगाल का शासक का पद लेकर खुबसुरत औरतो और शराब का मुख्य केंद्र बना दिया था | औरंगजेब अपने दुसरे भाइयो के विपरीत मुस्लिमो के प्रति ज्यादा समर्पित था इसलिए वो ध्रार्मिक विश्वसनीयता के आधार पर अपना सिक्का चलाना चाहता था | औरंगजेब ने चालाकी से अपने छोटे भाई मुराद को अपनी तरफ यह कहकर मिला लिया था कि दारा और शुजा को अपने रास्ते से हटाने के बाद वो मुगल सल्तनत की गडी मुराद को सौंप देगा |

औरंगजेब (Aurangzeb) ने मुराद को ओर ज्यादा विश्वास ड़ालते हुए खुद के शासन के लिए इनकार करते हुए हज के लिए मक्का जाने की बात कही | मुराद को औरंगजेब पर पूरा भरोसा हो गया था इसलिए 1658 में मुराद और औरंगजेब की सयुंक्त सेना ने राजधानी की ओर उत्तर में कुच किया | शाहजहा की तबियत में अब सुधार हो रहा था | दारा को सिंहासन का दावेदार था पीछे हट गया | तीनो भाइयो ने यह मानने से इंकार कर दिया कि शाहजहा की तबियत ठीक है इसलिए वो आगरा में अपने पिता से मिलने आये , जहा उन्होंने दारा की सेना को पराजित कर दिया |

दारा उत्तर की ओर भागा लेकिन एक बलूच सरदार ने पहले उसे शरण देने का वादा कर उसके साथ विश्वासघात करते हुए औरंगजेब की सेना को सौंप दिया | दारा को 1659 में बंदी बनाकर अपमान करते हुए आगरा लाया गया | आगरा में औरंगजेब ने दारा पर इस्लाम धर्म का विरोध करने के विरोध में अपने मंत्रियों को भी अपने साथ मिलाकर मृत्युदंड की सजा दी | औरंगजेब ने अपने ही भाई दारा का सर कलंक कर अपने पिता को उसका सर भेजा |

उधर शुजा बर्मा भगा गया और उसको भी वहा पकडकर मौत के घाट उतार दिया | इसी दौरान 1661 में उसने मुराद को भी हत्या के आरोप में मार दिया | अपने सभी प्रतिद्वन्दी भाइयो को रास्ते से हटाकर अब नये मुगल बादशाह ने अपने पिता शाहजहा को आगरा के किले में गृहबंदी बना लिया | शाहजहा 8 वर्ष तक आगरा के उसे किले में बंदी बनकर रहा रु 1666 में उसकी मौत हो गयी | आगरा के किले से वो अपना अधिकतर समय खिड़की से ताजमहल को निहारते हुए खुद अपनी प्यारी पत्नी के पास चला गया |

औरंगजेब का शासनकाल

औरंगजेब (Aurangzeb) का 48 साल का शासन यो तो मुगल साम्राज्य का स्वर्ण काल माना जाता है लेकिन उसके शासन में उसकी नीतियों के कारण उसको अनेक विद्रोहों का सामना करना पड़ा था | हालांकि मुगल बादशाह अकबर से लेकर शाहजहा ने धार्मिक सहिष्णुता में एक उल्लेखनीय कार्य किया था लेकिन इसके विपरीत औरंगजेब ने उनकी नीतियों का उल्टा काम किया |

औरंगजेब (Aurangzeb) एक बहुत कट्टर शासक था जिसने इस्लाम का कट्टरपंथी संस्करण अपने नाम कर दिया | उसने 1668 में संगीत और अन्य कलाओं पर प्रतिबन्ध लगा दिया |हिन्दू और मुस्लिम दोनों को गाने और वाध्य यंत्र बजाने पर प्रतिबद्ध लगा दिया था | औरंगजेब ने दरबार में संगीत पर पाबंदी लगा दी तथा सरकारी संगीतज्ञो को अवकाश दे दिया | भारतीय शास्त्रीय संगीत पर फारसी में सबसे अधिक पुस्तके औरंगजेब के शासनकाल में लिखी गयी | औरंगजेब स्वयं वीणा बजाने में दक्ष था |

औरंगजेब (Aurangzeb) के खिलाफ हुए मुख्य विद्रोह
1659 में शिवाजी ने औरंगजेब के युद्ध अभियानों के दौरान मुगल सूबेदार शाहिस्ता खान पर अचानक हमला कर दिया | शिवाजी और उनकी सेना ने दक्कन ,जंजिरा और सुरत पर आक्रमण कर दिया और इन इलाको पर अपना कब्ज़ा कर लिया | 1689 में औरंगजेब की सेना ने शिवाजी के पुत्र संभाजी को बंदी बना लिया और उसकी हत्या कर दी लेकिन मराठो ने अपनी लड़ाई जारी रखी , जिसके कारण मुगल साम्राज्य में गिरावट आ रही थी |
1669 में मथुरा के पास भरतपुर के हिन्दू जाट कृषको ने जजिया कर के विरोध में विद्रोह किया | एक विद्रोही भूमिमालिक गोकुल ने विद्रोह का नेतृत्व किया | 1670 में मुगल सेना ने 20,000 जाटो को वश में कर उनके नेता गोकुल की हत्या कर दी | बाद में इन्ही जाटो ने भरतपुर प्रदेश की स्थापना की |
1670 में नवे सिख गुरु तेगबहादुर ने धर्म परिवर्तन के मुद्दे पर औरंगजेब का विरोध किया | इसी कारण सिक्ख गुरु के बढ़ते प्रभाव से भयभीत होकर औरंगजेब ने 1670 में गुरु तेग बहादुर की हत्या करवा दी | इसके बाद दसवे सिक्ख गुरु गुरु गोविन्द सिंह ने खालसा का निर्माण कर अपना शक्ति प्रदर्शन किया था |
1671 में सरायघट की लड़ाई में अहोम साम्राज्य ने मुगल साम्राज्य के खिलाफ युद्ध छेड़ दिया | मुगल सेना का नेतृत्व कर रहे मीर जुमला और शाहिस्ता खान ने आक्रमण किया लेकिन अहोम राजाओ ने उन्हें पराजीत कर दिया |
1672 में सतनामी सम्प्रदाय के लोगो ने भीरभान के नेतृत्व में नारनौल पर कब्जा करने के लिए दिल्ली के निकट विद्रोह कर दिया लेकिन औरंगजेब की सेना ने इस विद्रोह को कुचल दिया |
1679 में राठोड वंश के सेनापति वीर दुर्गादास राठोड ने विद्रोह किया जब औरंगजेब ने युवा राठोड राजकुमार को राजा बनने की अनुमति नही दी | इस कारण राजपूत शासको ने भयंकर आक्रोश छा गया और राजपुताना के खिलाफ अनेक विद्रोह हुए |
बुंदेला राजपूत वंश में महाराजा छत्रसाल एक महान योद्धा थे जिन्होंने मुगल बादशाह औरंगजेब के खिलाफ लड़ाई लदी और बुंदेलखंड में अपना साम्राज्य स्थापित किया |

औरंगजेब की मौत के साथ मुगल साम्राज्य का हुआ पतन

20 फरवरी 1707 को 88 वर्ष की उम्र में खुलदाबाद में औरंगजेब की मौत हो गयी | उसने एक ऐसा साम्राज्य अपने पीछे छोड़ा तो बुरी तरह से बिखर चूका था और विद्रोहों से घिर चूका था | उसके बेटे बहादुर शाह प्रथम के शासन में उसका शासन धीर धीरे आगे तो बढ़ता रहा लेकिन कम होता गया , जो अंतत: 1858 में अंतिम मुगल बादशाह बहादुर शाह जफर द्वीतीय के निर्वासन के साथ खत्म हो गया और अंग्रेजो ने भारत पर राज किया | बादशाह Aurangzeb औरंगजेब को अंतिम “ग्रेट मुगल” माना जाता है | हालांकि उसकी बेरहमी और असहिष्णुता वाली नीतियों के कारण ही महान मुगल साम्राज्य कमजोर हुआ था और पतन की ओर पहुचा था |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *