देश

तरक़्क़ी की राह पर तेज़ी से बढ़ रहे बांग्लादेश में मोदी के पहुँचने के बाद हर तरफ़ ख़ून ही ख़ून, आग ही आग : विशेष, तस्वीरें और वीडियो

बांग्लादेश में मोदी की यात्रा के विरोध में हुए देश व्यापी विरोध, प्रदर्शनों में जानकारी के अनुसार तीन छात्रों को मौत हो गयी है और अनेक ज़ख़्मी हुए हैं, भारत के प्रधानमंत्री अपनी दो दिन की बांग्लादेश की यात्रा पर हैं जहाँ उनके पहुँचने के बाद प्रदर्शन जारी हैं, दिन में हुई हिंसा के बाद रात के समय भी अनेक जगहों पर प्रदर्शन जारी हैं, छात्र और धार्मिक संगठनों के हज़ारों लोग सड़कों पर टॉच जला कर रैलियां निकाल रहे हैं,

भारत के प्रधानमंत्री का जहाँ बांग्लादेश की सरकार ने आदर सत्कार किया है वहीँ आम जनता का गुस्सा बांग्लादेश की हुकूमत और मोदी के खिलाफ फूट पड़ा है जिसके बाद पूरे बांग्लादेश में मोदी के खिलाफ प्रदर्शन हो रहे हैं, बांग्लादेश के विभिन्न इलाकों में आगज़नी, पत्थरबाज़ी की घटनाएं हुई हैं, इस समय बांग्लादेश में ख़ून ही ख़ून और आग ही आग है, पुलिस की गोली से चार लोगों के मरने के बाद वहां हालात संगीन हो गए हैं

कोरोना के बाद भारत के प्रधानमंत्री मोदी पहली विदेश यात्रा पर पडोसी देश बंगलादेश पहुंचे हैं, बांग्लादेश के लिए 26 मार्च बहुत अहम् दिन है, ये वो दिन है जब भारत के प्रयासों से बांग्लादेश पाकिस्तान से अलग हो कर एक आज़ाद देश बना था, मोदी ने बंगलादेश में बोलते हुए कहा है कि बांग्लादेश की आज़ादी के आंदोलन के समय उन्होंने जेल काटी थी, आज का बांग्लादेश एक समय भारत के ही भाग था और आरएसएस के अखंड भारत मिशन में बांग्लादेश टारगेट पर है जिसे फिर से भारत में मिलाना है

भारतीय प्रधानमंत्री मोदी की बांग्लादेश यात्रा के समय बांग्लादेश में बड़े स्तर पर विरोध प्रदर्शन देखने को मिले हैं, ढाका के अंदर तो युद्ध के से हालात देखने को मिले हैं वहीँ बांग्लादेश के कई संगठनों ने सड़क पर गाय को ज़बह किया और उसके व्यंजन बना कर सर्वजयानिक जगहों पर लोगों को परोसे

भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी बांग्लादेश यात्रा के दौरान मतुआ समुदाय के संस्थापक हरिचांद ठाकुर की जन्मस्थली जाएंगे। वैसे भारतीय मीडिया मोदी की बांग्लादेश यात्रा में जिस चीज़ पर ज़्यादा फोकस कर रही है वह है हरिचांद ठाकुर की जन्मस्थली को पर उनका जाना। इसके पीछे का कारण यह बताया जाता है कि, क्योंकि बंगाल में मतुआ समुदाय एक बड़ा वोट बैंक है और 70 विधानसभा सीटों पर उनके वोटों का प्रभाव है इसलिए मोदी अपनी यात्रा में और ठीक पहले

At least 4 killed in Bangladesh during protests against Modi’s visit

COX’S BAZAR: At least four people were killed in the Bangladeshi city of Chittagong on Friday after police fired at protesters during a demonstration against a visit by Indian Prime Minister Narendra Modi, police officials said.

“We had to fire tear gas and rubber bullets to disperse them as they entered a police station and carried out extensive vandalism,” Rafiqul Islam, the police official told Reuters, referring to protesters.

Modi arrived in the capital Dhaka for a two-day visit to celebrate the 50th anniversary of Bangladesh’s independence.

The protesters in Chittagong were from the Hefazat-e-Islam Bangladesh, an Islamist group opposed to the visit of Modi, who critics say has been pushing a Hindu-first agenda in India.

Mohammad Alauddin, another police official in Chittagong, said that eight people were brought to a hospital in the city with gunshot wounds, of which four succumbed to their injuries.

Protests also flared in the capital Dhaka, where dozens of people, including two journalists, were injured in clashes with police, witnesses said.

Basherkella – বাঁশেরকেল্লা
@basherkella
People blazed mural of #sheikhmujib in protest of killing of #Muslims amid protest against #Modi in #Chattogram.
#ModiInBangladesh #IndependenceDay #Bangladesh

Fuad Ahmed
@FuadAhm75680971
Replying to
@AJEnglish
This is the condition of the people of Bangladesh due to the arrival of the Prime Minister of India Narendra Modi in Bangladesh and the police force of Bangladesh is firing on the people of Bangladesh

Naina Raathore
@NainaRaathore
Modi says he fought for the independence of Bangladesh and was even sent to jail. But wasn’t India fighting a war with Pakistan to liberate Bangladesh? So where did he go to jail? Was he in Pakistan?
Pleading face

Hang on! I thought around that time he was in Himalayas?
Thinking face
Lies after lies!

गुरुजी
@GURUJI_123
मोदीजी ने बांग्लादेश की आजादी में महत्वपूर्ण संघर्ष किया था। इस दौरान वो अपना मन पसंदीदा काम(बेंचने का) करते थे। जब भारतीय सेना गोली चलाती थी तो मोदी जी खोखा चुनकर बेंचने का काम करते थे जिससे देश की अर्थव्यवस्था मजबूत होती थी।

Piyush Goyal
@PiyushGoyal
भारत-बांग्लादेश संबंधों के 50 वर्ष के अवसर पर, मैं बांग्लादेश के 50 Entrepreneurs को भारत आमंत्रित करना चाहूंगा।

वह भारत आएं, हमारे स्टार्टअप और Innovation Eco-system से जुड़ें। हम भी उन से सीखेंगे और उन्हें भी सीखने का अवसर मिलेगा : PM @NarendraModi
जी

I.P. Singh
@IPSinghSp
लगभग 17 हज़ार करोड़ की क़ीमत के दो विमान लेकर फ़कीर उड़ रहा है और कोरोना के नाम पर इक्साइज़ ड्यूटी बढ़ा कर जनता की चमड़ी उधेड़ रहा है।

सैकड़ों करोड़ की नयी संसद बनेगी पर रोजगार देने के पैसे नहीं है सरकार के पास।

जनता की आँखें अब खुल चुकी हैं।

ANI_HindiNews
@AHindinews
मेरी उम्र 20-22 साल रही होगी जब मैंने और मेरे कई साथियों ने बांग्लादेश के लोगों की आजादी के लिए सत्याग्रह किया था… बांग्लादेश की आजादी के लिए संघर्ष में शामिल होना, मेरे जीवन के भी पहले आंदोलनों में से एक था: PM मोदी


Sanjay Yadav
@sanjuydv
सर, दस्तावेज़ों में आपकी जन्मतिथि 1950 है अन्यथा तो भारत की आज़ादी में भी आपका महत्वपूर्ण योगदान रहा है। हो सकता है पूर्वजन्म में 1857 की क्रांति में भी भाग लिया हो। सर, आपकी महानता पर शक करने वाले मूर्ख है। निसंदेह, हमें आप पर गर्व है।


🅐 ᴍɪsʜʀᴀ
Flag of India
@BharatHamara_
कोई बोल रहा था कि ‘हल्दीघाटी’ के युद्ध में मोदी जी ने जो योगदान किया था उसको अब तक दुनिया के सामने नहीं लाये इसलिये ‘महाराणा प्रताप जी’..

और, ‘सिविल वार’ में अपने योगदान को अब तक छिपाये रखे हैं इसके लिये ‘अब्राहन लिंकन’ .. भी..

दोनों मोदी जी से बहुत नाराज हैं..
Thinking face

Nurul kabir
@nurulkabirinfo
The Shameless #IndianprimeMinister #NarendraModi 80% of people in Bangladesh oppose Modi. In that place, Modi has #shamelessly visited Bangladesh

indian ಜೊಯ್ Ravishankar , JOY group
@JOYravishankar
Fearing that Narendra Modi would be born in 1950, British left India in 1947. #feku
#ShameOnYou’

Samiullah Khan
@SamiullahKhan__
. if #feku Narendra Modi in Turkey:
I along with maulana shaukat ali jauhar and gandhi did satyagraha for Ottoman Empire & I had been arrested for the Caliph Movement (Tahreek E Khilafat) in 1919.

pics source : twitter

डिस्क्लेमर : इस आलेख/twitts में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. लेख सोशल मीडिया फेसबुक पर वायरल है, इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति तीसरी जंग हिंदी उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार तीसरी जंग हिंदी के नहीं हैं, तथा तीसरी जंग हिंदी उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *