सेहत

ब्रिटेन में मिला अबतक का सबसे अलग P1 का E484K वैरिएंट, कौन सी दवा लगवायें लोग हैरान : रिपोर्ट

कोरोना वायरस के मिल रहे अलग-अलग वैरिएंट ने लोगों को परेशान करके रख दिया है। ब्रिटेन और दक्षिण अफ्रीका में मिल चुके स्ट्रेन से अभी लोगों को छुटकारा भी नहीं मिला था कि अब ब्राजील में भी वायरस के दो नए वैरिएंट सामने आ गए हैं। इतना ही नहीं, ये दोनों वैरिएंट ब्रिटेन तक भी पहुंच गए हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, ब्रिटेन में इन दोनों वैरिएंट से छह लोग संक्रमित हो चुके हैं। इनमें से तीन मरीज इंग्लैंड में और तीन स्कॉटलैंड में मिले हैं। ब्रिटेन की सरकार और स्थानीय प्रशासन अब उन लोगों की तलाश में जुट गया है, जो इन संक्रमित लोगों के संपर्क में आए थे।

ब्राजील के इन दोनों वैरिएंट का नाम P1 और P2 है। कोरोना का P1 वैरिएंट सबसे पहले जापान में मिला था। इस साल जनवरी में जब कोरोना के मामले अचानक तेजी से बढ़ने लगे और साथ ही जो लोग संक्रमण से ठीक हो चुके थे, वो भी दोबारा संक्रमित होने लगे, तो इसकी जांच की गई। इस दौरान पता चला कि P1 वैरिएंट ही ब्राजील में बदलकर P2 बन चुका है और यह तेजी से फैल रहा है। 

ब्रिटेन के न्यू एंड इमर्जिंग रेस्पिरेटरी वायरस थ्रेट्स एडवाइजरी ग्रुप (Nervtag) ने P1 वैरिएंट को ‘चिंता का विषय’ बताया है। केंट वैरिएंट B118 की तरह ही यह अधिक संक्रामक है और यह एंटीबॉडी से बचने में भी सक्षम हो सकता है। दूसरे शब्दों में कहें तो कोरोना वायरस के खिलाफ तैयार किए गए टीके इसके खिलाफ अच्छी तरह से काम नहीं कर सकते हैं। 

न्यू एंड इमर्जिंग रेस्पिरेटरी वायरस थ्रेट्स एडवाइजरी ग्रुप के मुताबिक, इस P1 वैरिएंट में 17 खास तरह के अमीनो एसिड परिवर्तन हुए हैं, तीन जेनेटिक मटेरियल खत्म हुए हैं और चार म्यूटेशन हुए हैं। सभी वैरिएंट्स में कई म्यूटेशन हुए हैं। मुख्य चिंता यह है कि P1 में तीन वैरिएंट K417T, E484K और N501Y हैं जो चिंता पैदा कर रहे हैं। 

P1 का E484K वैरिएंट सबसे ज्यादा चिंताजनक है। यह दक्षिण अफ्रीका में मिले संक्रामक स्ट्रेन में भी है। इसके अलावा केंट वैरिएंट ने भी खुद को E484K में बदल लिया है, जिसकी वजह से वह और भी ज्यादा खतरनाक हो गया है और वैक्सीन से भी बच सकता है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *