दुनिया

अब सन् 2036 तक राष्ट्रपति के पद पर बने रह सकते हैं पुतिन

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन ने एक नए क़ानून पर हस्ताक्षर किये हैं जिसके हिसाब से वे 2036 तक रूस के राष्ट्रपति पद पर बने रह सकते हैं।

रॉएटर्ज़ के अनुसार पुतिन ने सोमवार को जिस नए क़ानून पर दस्तख़त किये हैं, वह उनको इस बात की अनुमति देता है कि वे 15 वर्षों तक राष्ट्रपति पद की कुर्सी पर विराजमान रह सकते हैं।

रूस के राष्ट्रपति ने जिस नए क़ानून पर हस्ताक्षर किये हैं उसके अनुसार विदेशी नागरिकता रखने वाला कोई भी नागरिक रूस में राष्ट्रपति के पद को प्राप्त नहीं कर पाएगा। रूस की संसद में यह क़ानून पिछले महीने पास हुआ है।

इस नए क़ानून के अनुसार राष्ट्रपति और उनके परिवार के सदस्यों को आजीवन क़ानूनी कार्यवाही से सुरक्षित रखा गया है। राष्ट्रपति कार्यालय छोड़ने के बाद जहां राष्ट्रपति को पूरा क़ानूनी संरक्षण हासिल होगा वहीं पर वे पुलिस की तलाशी या पुलिस कार्यवाही और गिरफ़्तारी से भी सुरक्षित होंगे।

याद रहे कि 67 वर्षीय व्लादिमिर पुतिन पिछले 20 वर्षों से रूस में राष्ट्राध्यक्ष के पदों पर बने रहे हैं और वर्तमान समय में वे वहां के राष्ट्रपति हैं जबकि वे रूस के प्रधानमंत्री के पद पर भी रह चुके हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *