देश

जितिन के शंख बजाने का प्रसाद अब बीजेपी को मिलेगा…अब कोई भी इस बात को समझ सकता है!

NDTV India
===========
Prime Time With Ravish Kumar
June 9, 2021

यह सही है कि इस साल जैसा ऑक्सीजन (Oxygen Shortage) की सप्लाई का संकट पहले कभी नहीं हुआ लेकिन यह भी सही है कि इसी सरकार के कार्यकाल में भारत के तीन राज्यों में ऑक्सीजन का संकट हुआ था. हमने उन दुर्घटनाओं से क्या सीखा. ऑक्सीजन की सप्लाई चेन को पहले से कितना बेहतर बनाया यह सब पूछना बेकार है क्योंकि ढंग से एक जगह से कोई जवाब नहीं मिलता है. पिछली बार जब कोरोना की वैश्विक महामारी आई तब कई देशों में वेंटिलेटर की मांग बढ़ने लगी. वेंटिलेटर का हिसाब इस तरह से लगाया जाने लगा कि कार कंपनियां भी वेंटिलेटर बनाने लगीं. अब कोई भी इस बात को समझ सकता है कि जब वेंटिलेटर लगेगा तो ऑक्सीजन की सप्लाई भी करनी होगी और तब ऑक्सीजन की मांग बढ़ेगी. तब जवाब तो देना चाहिए कि उस समय जो भी हिसाब किया गया होगा उसके आधार पर आक्सीजन की सप्लाई चेन को ठीक करने का क्या बंदोबस्त किया गया?

+91 94318 78264

प्रधानमंत्री के भाषण के (झूठ) अंश:
🔺कोरोना काल में “प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना में 80 करोड़ भारत वासियों को अन्न दिया गया” इसका मतलब है की भारत की आधे से ज्यादा जनसँख्या को अन्न मिल रहा है। ये कोरोना काल का सबसे बढ़ा झूठ है।

🔺मोदी जी कह रहे थे की भारत में 2014 से पहले वेक्सीन कवरेज नहीं था, पहले अगर कोरोना आता तो दशकों लग जाते। जबकि पल्स पोलियो अभियान के तहत बिना अच्छी सुविधा, बिना तकनीक, बिना अच्छे ट्रांसपोर्ट पूरे देश में एक साथ अभियान चलता था। आज इतनी टेक्नोलॉजी और संसाधनों के बाद भी देश व्यापी वेक्सिनेशन ड्राइव नहीं कर पा रहे हैं?

🔺मोदी जी ने कहा की देश के वैज्ञानिकों ने शोध करके वेक्सीन डेवलप की जिसमें उन्होंने सहायता की जबकि सच ये है की सीरम इंस्टीट्यूट और भारत बायोटेक फार्मूला के लिये मुनाफा शेयरिंग करेंगे। रूस की स्पुतनिक वेक्सीन को सबसे अंत में तवज्जो दी गयी जबकि रूस फ्री में फार्मूला शेयर करने को शुरू से राजी थी।

🔺मोदी जी ने ये नहीं बताया की विश्व की 60% वेक्सीन अकेले भारत में उत्पादित हो रही है। लेकिन यहाँ के नागरिकों को उपलब्ध नहीं है क्योंकि सरकार ने विदेशों को इसका निर्यात खोल दिया था।

🔺आज भी राज्य सरकारों को वेक्सीन नहीं दी गयी है बल्कि 18+ उम्र वर्ग के लिए वेक्सिनेशन खोलने के बाद भी स्लॉट नहीं मिल रहा था। आप किसी भी बड़े प्राइवेट हॉस्पिटल में जाकर वेक्सीन ले सकते हैं लेकिन सरकारी अस्पतालों में उपलब्ध नहीं है। मोदी जी ने इस बारे में कोई बयान नहीं दिया।

🔺मोदी जी ने 4 बार जोर देकर कहा की सभी को फ्री में वेक्सीन लगेगी लेकिन जब सरकारी अस्पतालों में वेक्सीन अवेलिबल नहीं होगी और प्राइवेट हॉस्पिटल में उपलब्ध होगी तो पब्लिक मज़बूरी में ही पैसे देकर लगवायेगी न।

🔺मोदी जी कह रहे की ऑक्सीजन की जरुरत 100 सालों में सबसे ज्यादा हुयी लेकिन ये नहीं बताया की इसके प्रोडक्शन के लिए क्या कदम उठाया ? क्या नए प्लांट बनाने, लगाने को टेक्स फ्री किया गया ? मतलब सरकार ने ऑक्सीजन कमी पूर्ति के लिए क्या किया ?

आजका पूरा सम्बोधन सिर्फ अपनी फटी हुयी लोकप्रियता की चादर में पंचर लगाने का प्रयास था जो सफल भी नहीं हुआ।

#कालचक्र
+91 94318 78264

मोदीजी ने वैकसीन और कोरोना से जुड़े मैडिसिन पर जो GST 12 % लगता है उस को कम क्यो नही किया या उसे GST फ़्री क्यो नही किया?आपदा मे भी कमाई?
केंद्र के पास राज्यो का हजारो करोड़ रुपये है जो सालो से पड़ा है वह इस आपदा मे राज्यो को क्यो नही देते?
पैट्रोल/डीजल को GST से क्यो नही जोडते?
मोदी जी ने आज प्रेस कॉन्फरेंस क्यो नही किया?

पर्दे के पीछे छिप कर फेकते है??
+91 94318 78264
जब सुप्रीम कोर्ट से “सुप्रीम” फटकार लगी और 35 हज़ार करोड़ का हिसाब माँगा तो मजबूरी में आनन- फानन में प्रधानमंत्री जी ने फ़्री वैक्सीन देने का जुमला मार गए। PM फंड का हिसाब कहाँ है? लाखो लोग ऑक्सीजन के अभाव में मरे है, जो लाश गंगा किनारे कुत्ते नोच कर खाये उसका जवाब कौन देगा?

santosh gupta
@BhootSantosh
मोदीजी के पास कोविड से लड़ने का पूरा सिस्टम था~ नीति आयोग था, दर्जनों टास्क फोर्स थे, 35 हजार करोड़ का बजट और टीका खरीदने के लिए कूटनीतिक ताकत थी.!

फिर राज्यों पर जिम्मेदारी डालने का क्या औचित्य था.? राज्य-केन्द्र के खेल में जिन्होंने अपने जान गंवाई… उनकी जिम्मेदारी कौन लेगा.?

वैरागी बाँवरा
@bavra_vairagi
सपेरे मदारियों का देश है सन्तोष जी
कई वर्षो बाद मदारीयों की ङुगङुगी सपेरों की बीन का आवाज सुनाई देने लगी
हरहर महादेव

Chitra Tripathi
@chitraaum
UP में 11% ब्राह्मण वोटर हैं.BJP में इस वर्ग के बड़े चेहरे की कमी है. @JitinPrasada डेढ़-दो साल से ब्राह्मणों को एकजुट करने की कोशिश में लगे रहे. ब्राह्मण-दलित-मुस्लिम गठजोड़ से कांग्रेस UP में अच्छा करने की उम्मीद कर रही थी,मगर जितिन के शंख बजाने का प्रसाद अब बीजेपी को मिलेगा.

डिस्क्लेमर : ट्वीट्स, इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार, जानकारियां लेखक के निजी विचार हैं. लेख सोशल मीडिया फेसबुक/व्हाट्सप्प पर वायरल है, इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति तीसरी जंग हिंदी उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार तीसरी जंग हिंदी के नहीं हैं, तथा तीसरी जंग हिंदी उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *