Uncategorized

भारत पहुंचे अमेरिकी विदेशमंत्री एंटनी ब्लिंकेन : भारत में मानवाधिकार की स्थिति पर चर्चा करेंगे, उठा सकते हैं सीएए का मुद्दा!

अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकेन मंगलवार से भारत के अपने पहले आधिकारिक दौरे पर होंगे। उन्होंने कहा है कि चीन के अलावा भारत में मानवाधिकार की स्थिति पर भी चर्चा करेंगे।

प्राप्त रिपोर्ट के मुताबिक़, अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकेन मंगलवार को भारत पहुंच रहे हैं। दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र की उनकी बतौर विदेश मंत्री यह पहली यात्रा होगी। बुधवार को वह भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री डॉक्टर एस जयशंकर से मिलेंगे। अमेरिकी विदेश मंत्री की यह यात्रा अहम मानी जा रही है क्योंकि बाइडन सरकार ने चीन के ख़िलाफ़ सख़्त रुख अपनाया है और चीन की बढ़ती ताक़त के ख़िलाफ़ भारत उसका बड़ा सहयोगी हो सकता है। ब्लिंकेन के एजेंडे में हिंद-प्रशांत क्षेत्र की भू-राजनीति के अलावा साझा सुरक्षा हित, लोकतांत्रिक मूल्य और जलवायु संकट भी होगा। अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने कहा है कि वह भारतीय अधिकारियों के साथ कोरोना वायरस महामारी पर भी चर्चा करने वाले हैं।

इस बीच अमेरिकी विदेश मंत्री ने भारत में मानवाधिकार को लेकर चिंता जताई है और कहा है कि वह अपनी यात्रा पर भारत में मानवाधिकारो का मुद्दा ज़रूर उठाएंगे। अमेरिकी विदेश मंत्रालय में दक्षिण और मध्य एशिया मामलों के प्रभारी कार्यवाहक सह सचिव डीन थॉम्पसन से पत्रकारों ने पूछा कि मोदी की हिंदू राष्ट्रवादी पार्टी ने नागरिकता क़ानून लागू किया है जिसे आलोचक मुसलमानों के साथ भेदभाव करने वाला बताते हैं, तो ऐसे में मानवाधिकारों का मुद्दा कितना ज़रूरी होगा? इसके जवाब में थॉम्पसन ने कहा, “इसे ज़रूर उठाया जाएगा।” उन्होंने कहा, “हम यह बातचीत जारी रखेंगे क्योंकि हम इस बात में पूरा विश्वास रखते हैं कि मतभेदों से ज़्याजदा हमारे मूल्यों में समानताएं हैं।” वहीं जानकारों का मानना है कि अमेरिका द्वारा लगातार भारत में मानवाधिकार को लेकर जताई जा रही चिंता से मोदी सरकार भी चिंता में नज़र आने लगी है और यही कारण है हालिया कुछ समय में भारत में सीएए और एनआरसी का मुद्दा मुख्य मुद्दों से पीछे रह गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *