सेहत

मैं और मेरी पत्नी हफ्ते में एक बार सेक्स करते हैं, मेरी पत्नी का मानना है कि हमारी फ्रिक्वेंसी बहुत कम है!

बात जब सेक्स से जुड़ी समस्याओं के बारे में हो तो पुरुष अक्सर इससे बचते हैं. डॉक्टर को अपनी परेशानी बताने से कतराते हैं. लेकिन डॉक्टर हमेशा सेक्सुअल हेल्थ को गंभीरता से लेने की सलाह देते हैं, क्योंकि असल में इसका हमारी मेंटल और फिजिकल हेल्थ से सीधा कनेक्शन होता है.

सेक्स के जाने-माने विशेषज्ञों का कहना है कि इसका इलाज तभी संभव है जब पुरुषों में सेक्सुअल हेल्थ से संबंधी विकार को समय रहते डिटेक्ट कर लिया जाए. एक एंड्रोलॉजिस्ट सेक्सुअल संबंधी रोगों का पता लगाकर उसका बेहतर इलाज कर सकता है.

एंड्रोलॉजिस्ट एक ऐसा क्वालीफाइड यूरोलॉजिस्ट होता है जो पुरुषों में इनफर्टिलिटी और सेक्सुअल हेल्थ से जुड़ी गंभीरता को समझ सकता है. एक्सपर्ट कहते हैं कि यदि किसी इंसान को सेक्सुअल हेल्थ से जुड़ी चार प्रकार की समस्याएं महसूस हो रही हैं तो उन्हें तुरंत एक एंड्रोलॉजिस्ट से संपर्क करना चाहिए.

शीघ्रपतन – यदि सेक्सुअल एक्टिविटी के बाद आपका शीघ्रपतन हो हो रहा है तो आप प्रीमैच्योर एजकुलेशन से पीड़ित हो सकते हैं. ये समस्या अक्सर कम उम्र के नौजवानों में देखी जा सकती है. हालांकि ये दिक्कत किसी भी उम्र के इंसान के साथ हो सकती है.

यूरो-एंड्रोलॉजिस्ट्स का कहना है कि प्रीमैच्योर एजाकुलेशन ज्यादा उम्र के लोगों में इरेक्टाइल डिसफंक्शन का वॉर्निंग साइन भी हो सकता है. ये लोगों में एन्जाइटी डिसॉर्डर की चेतावनी का भी कार्य कर सकता है.

सेक्सुअल डिजायर में कमी – सेक्सुअल डिजायर में कमी का मतलब सेक्स को लेकर आपकी इच्छा कम हो चुकी है. ये दिक्कत पुरुषों के हार्मोन टेस्टोस्टेरॉन के लेवल में कमी से जुड़ी है. दरअसल शरीर में टेस्टोस्टेरॉन का संबंध हमारी सेक्स ड्राइव, स्पर्म प्रोडक्शन, मांसपेशी, बाल और हड्डियां से जुड़ा होता है.

डॉक्टर्स कहते हैं कि लो टेस्टोस्टेरॉन इंसान की बॉडी और मूड को प्रभावित कर सकते हैं. डिप्रेशन, एन्जाइटी या रिलेशनशिप में कठिनाइयां सेक्सुअल डिजायर में कमी का कारण हो सकती हैं. इसके अलावा डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर समेत एंटीडिप्रेसन्ट जैसे तमाम तरह के इलाज भी इसे बढ़ावा दे सकते हैं.

इनफर्टिलिटी – इनफर्टिलिटी (बांझपन) में मेल फैक्टर तकरीबन 40 से 50 प्रतिशत तक योगदान देता है. कंसीव (गर्भधारण) कराने में अयोग्य रहने के कई प्रमुख कारण हो सकते हैं. असंतुलित हार्मोन्स, वेरिकोसेले और सेक्सुअल डिसफंक्शन समेत कई कारणों से पुरुष इनफर्टिलिटी का शिकार हो सकते हैं.

इरेक्टाइल डिसफंक्शन – यदि आपको इरेक्शन प्राप्त करने या उसे मेंटेन रखने में कठिनाई होती है जो शारीरिक संबंध स्थापित करने के लिए जरूरी है तो आप इरेक्टाइल डिसफंक्शन (ईडी) से पीड़ित हो सकते हैं. ऐसी समस्या तब होती है जब इंसान के गुप्तांग तक खून का संचार सही नहीं होता है.

कई मामलों में ये समस्या फिजिकल कंडीशन, वस्क्यूलर डिसीज, थाइरॉयड बिगड़ने, डायबिटीज और हाइपरटेंशन से जुड़ी हो सकती है. डॉक्टर कहते हैं कि ये समस्या एन्जाइटी, स्ट्रेस और डिप्रेशन जैसी कई साइकोलॉजिकल कंडीशन से भी जुड़ी हो सकती हैं.

‘सेक्स पर भारतीय बात नहीं करते- इसलिए मैं उनकी मदद करती हूँ’

भारत के ज़्यादातर स्कूल सेक्स के बारे में नहीं पढ़ाते. तो, सेक्स और रिश्तों के बारे में बच्चों को समझाने की ज़िम्मेदारी उनके माँ-बाप पर आ जाती है.

सेक्स कोच पल्लवी बर्नवाल ने बीबीसी की मेघा मोहन से कहा कि अक्सर माँ-बाप को ही ये नहीं पता होता कि वो बच्चों को सेक्स के बारे में क्या बताएं.

पीछे मुड़कर देखती हूँ तो मेरी पारंपरिक भारतीय परवरिश ने असल में वो ज़मीन तैयार कर दी थी कि मैं आख़िर में सेक्स कोच बन जाऊं.’

मेरे ऊपर इससे जुड़ा सबसे पहला असर तो मेरे अपने माँ-बाप के रिश्तों का पड़ा था. हालांकि, तब मुझे इस बात का अहसास नहीं हुआ था.

मेरे माँ-बाप की शादी को लेकर बरसों तक अफ़वाहें फैलती रही थीं. जब मैं क़रीब आठ बरस की थी, तब से ही मुझे अजीब-ओ-ग़रीब सवालों का सामना करना पड़ता था.

दावतों में अगर मैं अपने परिवार से कुछ देर के लिए भी दूर हो जाती थी, तो बहुत सी औरतें मुझे घेरकर मेरे माँ-बाप के रिश्ते के बारे में सवालों की बौछार कर देती थीं.

‘क्या तुम्हारे मम्मी-पापा अभी भी एक ही कमरे में सोते हैं?’

‘क्या तुमने दोनों के बीच लड़ाई होते सुनी है?’

‘क्या तुम्हारे घर में कोई और आदमी आता जाता है?’

मैं टेबल के पास खड़ी चम्मच से आइसक्रीम निकालने ही वाली होती थी, या फिर मैं खेलने के लिए बगीचे में दूसरे बच्चों को तलाश ही रही होती थी कि अचानक से महिलाओं की भीड़ मुझे घेर लेती.

इससे पहले कि मैं उन्हें पहचान पाती या कुछ समझ पाती, वो मुझसे ऐसे ऐसे सवाल करने शुरू कर देती थीं, जो न मुझे समझ में आते थे और न ही मुझे ये पता होता था कि उसका सही जवाब क्या दूं.

बरसों बाद, मेरा अपना तलाक़ होने के बाद, मेरी माँ ने मुझे पूरी कहानी सुनाई. मेरे माँ-बाप की शादी के शुरुआती दिनों में ही, मेरे और मेरे भाई के पैदा होने से पहले ही, मेरी माँ को एक आदमी के प्रति ज़बरदस्त आकर्षण महसूस हुआ था.

बाद में ये लगाव शारीरिक संबंध में तब्दील हो गया. लेकिन, कुछ हफ़्तों के भीतर ही वो अपराधबोध की शिकार हो गईं और उन्होंने वो रिश्ता ख़त्म कर दिया. लेकिन, भारत के समाज में आप पर लोगों की निगाहें होती हैं. फिर वो आपके बारे में बातें करने लगते हैं. आख़िर में, ये बातें मेरे पिता के कानों तक पहुंच गईं.

दस साल बीतने और दो बच्चे होने के बाद जाकर मेरे पिता ये हिम्मत जुटा पाए कि वो मेरी माँ से उस रिश्ते के बारे में पूछ सकें.

उन्होंने वादा किया कि माँ का जवाब कुछ भी हो, उसका असर दोनों के रिश्ते पर नहीं पड़ेगा. लेकिन, बरसों से दबे छुपे लफ़्ज़ों में वो जो बातें सुनते आए थे, उसका सच उन्हें जानना था.

माँ ने उन्हें सब कुछ बता दिया. माँ ने बताया कि, वो रिश्ता सेक्स के लिए कम और नज़दीकी का ज़्यादा था. वो संबंध तब बना था, जब उनके बच्चे नहीं हुए थे. शादी के बाद रिश्ते में मज़बूती आने में अभी वक़्त था.

लेकिन, जैसे ही मेरी माँ ने बोलना बंद किया, तो, उन्होंने महसूस किया कि कमरे में एक सर्द अहसास पसर गया है. मेरे पिता ने एकदम से ख़ामोशी अख़्तियार कर ली. जो बातें वो बरसों से सुनते आए थे. जिस बात की उन्हें आशंका थी. आख़िर वो सच साबित हुई और दोनों के बीच भरोसा एकदम से टूट गया. उसके बाद दोनों का रिश्ता तेज़ी से और बिगड़ता ही गया.

इससे मुझे साफ़ पता चल गया कि जब हम जब सेक्स और नज़दीकी के बारे में साफ़ग़ोई से बात नहीं कर पाते, तो इससे परिवार टूट जाते हैं.

मेरा परिवार, पूर्वी भारत के बिहार से आता है. ये देश के सबसे ज़्यादा आबादी वाले बड़े इलाक़ों में से एक है और नेपाल से लगा हुआ है.

गंगा नदी इसके मैदानी इलाक़ों को लगभग बीच से काटती हुई गुज़रती है. मेरा बचपन बड़े रूढ़िवादी माहौल में गुज़रा. दूसरे परिवारों की तरह, हमारे यहां भी सेक्स ऐसा मसला था, जिसके बारे में खुलकर बात नहीं होती थी.

मेरे मां-बाप कभी सबके सामने न तो एक दूसरे का हाथ पकड़ते थे और न ही एक दूसरे को गले लगाते थे. पर, ऐसा मेरे माँ-बाप के साथ ही नहीं था. हमारे समुदाय में कोई भी इस तरह अपने लगाव का इज़हार नहीं करता था.

सेक्स को लेकर मेरी पहली जानकारी मुझे 14 बरस की उम्र में मिली.

एक दोपहर की बात है. उकताहट में मैं अपने पिता की अलमारी में रखी किताबों को उलट-पलट रही थी. तभी उनके उपन्यासों और इतिहास की किताबों के बीच से एक छोटा सा पैम्फलेट गिरा.

इसमें सेक्स की रहस्यमयी और गोपनीय दुनिया से जुड़ी कई छोटी कहानियां थीं, जिसमें मर्द और औरत एक दूसरे के जिस्मों के बारे में पड़ताल कर रहे थे. ये तो साफ़ था कि ये साहित्य की किताब नहीं थी. उसमें उससे ज़्यादा नटखट क़िस्म की बातें लिखी थीं.

एक कहानी एक ऐसी लड़की के बारे में थी, जिसने दीवार में एक छेद इसलिए बनाया था, जिससे कि वो अपनी जान-पहचान वाले एक शादीशुदा जोड़े को जिस्मानी ताल्लुक़ात बनाते देख सके. उस किताब में मुझे एक बेहद मुश्किल शब्द चुंबन मिला, जिसका मतलब समझने के लिए मुझे डिक्शनरी की मदद लेनी पड़ी थी.

मेरे ज़हन में बहुत से सवाल पैदा हो गए थे. लेकिन, इस बारे में मुझसे बात करने वाला कोई नहीं था.

मैं या मेरे दोस्तों ने सेक्स क्या, इसके आस-पास की भी किसी बात पर चर्चा नहीं की थी.

वो किताब पढ़ने में मैं इतनी मशगूल हो गई थी कि मुझे उस दुनिया से बाहर आने और अपनी माँ की आवाज़ सुनने में भी वक़्त लग गया, जो दूसरे कमरे से मुझे कब से आवाज़ दे रही थीं.

वो 1990 के दशक के आख़िरी दिन थे. उस समय, मुझे ये नहीं पता था कि मैंने कुछ ग़लत नहीं किया था. उस उम्र में दुनिया के बहुत से बच्चे नज़दीकी रिश्तों के बारे में जानने समझने लगते थे, वो भी स्कूलों में.

बेल्जियम में बच्चों को सात साल की उम्र से ही सेक्स के बारे में पढ़ाया जाने लगता है. लेकिन, भारत ऐसा देश नहीं है, जहाँ सेक्स एजुकेशन सिलेबस का अनिवार्य हिस्सा हो.

सच तो ये है कि 2018 में जाकर स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने स्कूलों में सेक्स एजुकेशन की गाइडलाइन जारी की थी.

भारत के दर्जन भर से ज़्यादा राज्यों ने इन दिशा निर्देशों को लागू नहीं करने का फ़ैसला किया. द टाइम्स ऑफ़ इंडिया के मुताबिक़, ग्रामीण भारत की आधी से ज़्यादा लड़कियों को नहीं पता कि माहवारी क्या है. या ये क्यों होती है.

पिता की किताबों के बीच मिले उस पर्चे से सेक्स के बारे में नई तलाश का सिलसिला नहीं शुरू हुआ. सच तो ये है कि वो बात मेरे ज़हन में कहीं दबकर रह गई, और हिंदुस्तान में बड़ी होती तमाम लड़कियों की तरह मैं भी पारंपरिक लड़की बनी रही.

मैंने 25 साल की उम्र में अपनी वर्जिनिटी गंवाई और दो साल बाद जब मेरा ब्याह किया गया, तब भी मैं सेक्स को लेकर नातजुर्बेकार ही थी.

मेरी सुहागरात को आप बड़ी नाकामी कह सकते हैं. मैंने जब ससुराल में हमारे लिए तैयार किए गए बिस्तर पर नज़र डाली, तो मुझे हंसी आ गई.

बिस्तर पर फूलों के क़तरे बिखेरे हुए थे. कमरे की पतली सी दीवार के उस पार परिवार और रिश्तेदार के लोग बातें कर रहे थे. वो क़रीब दर्जन भर लोग रहे होंगे, जो शहर से दूर से आए थे, हमारी शादी में शरीक होने. वो सब हमारे कमरे के बाहर ही लेटे हुए थे, क्योंकि घर में कहीं और जगह नहीं थी.

मेरी माँ ने मुझे समझाया था कि मैं अपने पति को यही बताऊं कि मैं कुंवारी हूँ. तो, मुझे सुहागरात पर शर्मीली होने का नाटक भी करना था.

मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था कि क्या करूं. मैंने और मेरे पति ने बमुश्किल ही एक दूसरे से बात की थी और अचानक से एक बेडरूम में हम दोनों साथ थे. वहां पर मुझसे उम्मीद यही थी कि मैं बीवी होने का फ़र्ज़ अदा करूं.

मैं कुंवारी तो नहीं थी, लेकिन मैं उस रात के लिए तैयार भी नहीं थी. आज भी मुझे ऐसे दर्जनों मैसेज मिलते हैं, जब लोग ये पूछते हैं कि सुहागरात को क्या किया जाए; ये सवाल सिर्फ़ शारीरिक संबंध के बारे में नहीं होता, बल्कि उस रात को लेकर बर्ताव के बारे में भी होता है- लोग ये भी जानना चाहते हैं कि वो कैसे न ज़्यादा शर्मीले लगें और न ही बिल्कुल अनुभवहीन लगें.

मैं और मेरे पति क़रीब पाँच बरस साथ रहे. शुरू से ही ऐसा लगने लगा था कि मैंने ग़लत आदमी से शादी कर ली है. तो, उसके साथ सेक्स करना मेरे लिए बेहद डरावना एहसास बन गया था. हम सेक्स के लिए वक़्त और तारीख़ पर मोल-भाव किया करते थे.

जब मैं अपने साथ काम करने वाले के बारे में कल्पनाएं करने लगी, तो जाकर मुझे ये एहसास हुआ कि मेरा शादीशुदा रिश्ता अब आगे नहीं चल सकता. मैं उस कामकाजी साथी के साथ आगे तो नहीं बढ़ी, क्योंकि मैं नहीं चाहती थी कि शादीशुदा होने के बावजूद मैं ऐसे किसी रिश्ते की डोर से ख़ुद को बांध लूं. हमारी शादी टूट गई.

32 साल की उम्र में मैं एक बच्चे की अकेली मां थी. अचानक से मेरे ऊपर कोई दबाव नहीं था. मैं एक तलाक़शुदा औरत थी और समाज की नज़रों में पहले ही गिर चुकी थी.

भारत की राजधानी दिल्ली में रहते हुए मैंने कई लोगों से यौन संबंध बनाए. ऐसे रिश्ते, जिनका कोई भविष्य नहीं था. मैंने इस बारे में कई तजुर्बे किए. मैंने उम्र दराज़ और शादीशुदा लोगों के साथ सेक्स किया. जैसे जैसे मेरे ज़हन में और खुलापन आया, तो उन बातों में भी बदलाव आया, जो मैं लोगों से किया करती थी.

मेरे शादीशुदा दोस्त मेरे पास मशविरे लेने आने लगे. मेरी ख़ुदमुख़्तारी से प्रेरित होकर मेरी माँ भी हमारे पास रहने आ गईं. वैसे भी उनके अंदर हमेशा से ही बग़ावत की एक चिंगारी थी.

मेरे इर्द-गिर्द बहुत सी महिलावादी चर्चाएं हुआ करती थीं. जिसमें सेक्स और महिलाओं के अधिकारों की बातें होती थीं. 2012 में दिल्ली में चलती बस में एक युवती से बलात्कार ने पूरे शहर को हिलाकर रख दिया था.

लेकिन, मेरे लिए चिंता की बात ये थी कि ये बातें सेक्स को हिंसक घटना के तौर पर पेश कर रही थीं. वो सेक्स को ऐसी चीज़ नहीं बता रही थीं जिसका लुत्फ़ उठाया जाए.

वैसे भी हिंदुस्तान की महिलाएं किसी से नज़दीकी को लुत्फ़ लेने वाली ऐसी बात नहीं मानतीं, जिस पर उनका नियंत्रण हो. इसे लेकर बहुत ख़ामोशी और शर्मिंदगी का भाव है. यही वजह है कि जब युवाओं का शोषण होता है, तो अक्सर उन्हें इस बात का एहसास तक नहीं हो पाता.

महिलाओं के ख़िलाफ़ अपराध

– वर्ष 2019 (सबसे ताज़ा आंकड़े इसी साल के उपलब्ध हैं) में प्रति दिन भारत में बलात्कार के 87 और बच्चों के यौन शोषण के 100 से ज़्यादा मामले दर्ज हो रहे थे.

– 2019 में महिलाओं के ख़िलाफ़ कुल मिलाकर 405,861 अपराध दर्ज किए गए.

– अगर हम प्रति व्यक्ति आबादी पर यौन अपराधों की बात करें, तो विश्व जनसंख्या समीक्षा के मुताबिक़, भारत की गिनती सबसे ख़राब स्थिति वाले देशों में होती है.

हालांकि, उस समय मैं कस्टमर सेल्स के पेशे से जुड़ी थी. लेकिन, मैंने अपने करियर में बदलाव के बारे में सोचना शुरू कर दिया.

मुझे एहसास हुआ कि एक ऐसी जगह बनाई जा सकती है, जहाँ पर किसी के बारे में कोई राय क़ायम किए बिना खुलकर सेक्स के बारे में बात की जा सकती है. एक ऐसा मंच जहाँ लोग मुझसे सवाल कर सकते हैं.

मैंने सेक्स और न्यूरो लिंगुइस्टिक प्रोग्रामिंग कोच की ट्रेनिंग लेनी शुरू कर दी. मैंने इंस्टाग्राम पर अपना पेज बनाया. यहां मैंने लोगों से कहा कि वो मुझसे सवाल कर सकते हैं. बातचीत के लिए लोगों का हौसला बढ़ाने के लिए मैंने सेक्स से जुड़े अपने अनुभवों के बारे में भी विस्तार से लिखा.

इसका असर हुआ. लोग मुझसे सलाह मशविरे के लिए संपर्क करने लगे. वो सेक्सुअल फैंटेसी, हस्तमैथुन के बारे में कही जाने वाली बुरी बातों, सेक्स से विहीन शादीशुदा ज़िंदगी और तमाम दूसरे मसलों पर मुझसे सलाह लेते. इसमें यौन शोषण का सवाल भी शामिल था. कई सवाल बच्चों के माँ-बाप के होते थे.

तभी, दो साल पहले मुझे टेड टाक के लिए कहा गया. मुझे इस बात की अहमियत पर चर्चा करनी थी कि आख़िर क्यों माँ-बाप को अपने बच्चों से सेक्स और सहमति के बारे में बात करनी चाहिए.

मैं साड़ी पहनकर मंच पर पहुंची. मेरा मक़सद ये दिखाना था कि केवल पश्चिमी रंग ढंग वाली महिलाएं ही सेक्स नहीं करतीं. मैंने अपने श्रोताओं को एडल्ट वेबसाइट पोर्नहब के उस आँकड़े का हवाला दिया, जिसमें कहा गया था कि दुनिया में सबसे ज़्यादा भारत के लोग पोर्नोग्राफी देखते हैं, जबकि बहुत सी वेबसाइट भारत में प्रतिबंधित हैं. ज़ाहिर है हम छुप- छुपाकर सेक्स कर रहे थे और इस लुका-छिपी का कोई फ़ायदा नहीं हो रहा था.

उस टेड टाक के बाद मेरे पास हर दिन सेक्स से जुड़े 30 से ज़्यादा सवाल आने लगे और हर दिन सेक्स की कोचिंग देने के प्रस्ताव भी मिलने लगे.

कभी कोई महिला ये जानना चाहती थी कि सेक्स टॉय का इस्तेमाल कैसे करें. और कभी कोई पुरुष ये जानना चाहता था कि कोरोना से उबरने के बाद हस्तमैथुन करना ठीक होगा या नहीं (मेरा जवाब ये है कि कोरोना के दौरान हस्तमैथुन से आप थकान महसूस कर सकते हैं. लेकिन, बीमारी से उबरने के बाद मास्टरबेशन करना बिल्कुल सामान्य है और इससे कोई नुक़सान नहीं).

इनमें से बहुत से सवाल मुझे ये याद दिलाते हैं कि हमारी ज़िंदगी के बहुत से तकलीफ़देह मसले सेक्स को लेकर बात न करने के संस्कार के कारण पैदा होते हैं.

कई बार तो सेक्स कोई मसला ही नहीं होता. मेरे माँ-बाप के बीच जो कुछ हुआ, उसकी एक बड़ी वजह ये भी थी कि वो इंसानी ज़िंदगी के बेहद आम से एक मसले के बारे में बात नहीं कर पाए थे. मेरी अपनी शादी में यौन संबंध की कमी भी इसी वजह से थी कि हम आपस में बात ही नहीं करते थे.

मेरा बेटा अभी आठ बरस का है और मुझे पता है कि अगले कुछ बरसों में उसे इस बारे में जानने की जिज्ञासा होगी. जब मैंने उसे दूध पिलाना बंद किया, तभी ये समझाया था कि अब उसकी ऐसी उम्र हो गई है कि उसे महिलाओं के शरीर के कुछ अंगों को नहीं छूना चाहिए. उस समय वो बहुत छोटा था, लेकिन वो मेरी बात समझ गया.

जब उसके शारीरिक रूप से सक्रिय होने की उम्र होगी, तो मुझे ये उम्मीद है कि मैंने उसे इस तरह पाला पोसा है, ऐसा माहौल दिया है कि उसे सेक्स के बारे में सही जानकारी होगी और वो सुरक्षित रहेगा. उसे इस बात का यक़ीन होगा कि मैं उसके बारे में कोई राय नहीं कायम करूंगी.

माँ-बाप को पल्लवी बर्नवाल सलाह

शुरुआत ये समझने से करें कि आपके बच्चे को सेक्स के बारे में जानना क्यों ज़रूरी है

सेक्स और सेक्सुआलिटी के बारे में बात करने से आपके बच्चे बाद की ज़िंदगी में बहुत सी समस्याओं से बच जाएंगे. ख़ुद को लेकर एहसास-ए-कमतरी, अपने शरीर को लेकर चिंता, यौन शोषण, बोझ बन जाने वाले रिश्तों और सेक्स को लेकर उपभोक्तावाद जैसी कुछ दूरगामी समस्याएं हैं, जिनका सामना बच्चे बड़े होकर करते हैं.

बच्चों को अपने तजुर्बे के बारे में बताएं

बच्चे अपने मां-बाप के अनुभवों से ख़ुद को बहुत जल्दी जोड़ लेते हैं. उन्हें ये जानने में बहुत दिलचस्पी होती है कि जब आप बड़े हो रहे थे, तो आपका अनुभव कैसा था. वो आपको असली और भरोसे के क़ाबिल इंसान के रूप में देखना चाहते हैं, जिन्होंने ख़ुद भी ग़लतियां की थीं. अगर आप बच्चों की उम्र के दौर में सेक्स को लेकर अपने अनुभवों, चुनौतियों, आशंकाओं और गफ़लतों के बारे में बात करेंगे, तो उससे आपके बच्चे आपसे ज़्यादा जुड़ाव महसूस करेंगे.
अपनी राय साझा करें

अपने बच्चों से सेक्स के मूल्यों के बारे में बात करें. आप नग्नता के बारे में, किशोर उम्र में डेटिंग के दौरान सेक्स, LGBT, समलैंगिक शादियों, गर्भपात, गर्भ निरोधक, विवाहेत्तर सेक्स, स्वस्थ संबंधों और सेक्स के लिए इंतज़ार करने की उम्र के बारे में क्या ख़याल रखते हैं, ये अपने बच्चों को भी बताएं. इससे आपके बच्चे को भी सेक्स को लेकर अपने लिए ऐसे मूल्य और सिद्धांत गढ़ने में सहूलत होगी, जिनमें जड़ता न हो.

उन्हें तथ्यों की जानकारी दें

आप अपने बच्चों को वो तथ्य बताएं, जो आप अलग अलग उम्र के लोगों के बारे में जानते हैं. जो बातें आपके बच्चे को दस से 14 साल की उम्र के दौरान पता होनी चाहिए, उनमें से कुछ इस तरह से हैं:

1. सेक्सुआलिटी को लेकर आपकी उम्मीदें और मूल्य.

2. औरत और मर्द के यौन अंगों के सही नाम.

3. शारीरिक संबंध क्या है और गर्भ धारण कैसे होता है.

4. माहवारी शुरू होने के बाद होने वाले शारीरिक और जज़्बाती बदलाव

5. माहवारी चक्र क्या है और इसका क्या काम है

6. LGBT रिश्ते, लिंग, हस्तमैथुन, गर्भपात

7. गर्भ निरोध क्या है

8. यौन संबंधों से होने वाली बीमारियां (STDs) क्या हैं और वो कैसे फैलती हैं

9. यौन शोषण क्या है और इसे कैसे रोक सकते हैं. यौन शोषण होने पर क्या करना चाहिए

10. हर जानकारी एक उम्र के लिहाज़ से जुड़ी है तो ये फ़ैसला आपको करना होगा कि कोई जानकारी आप कब अपने बच्चों को दें और कितनी तादाद में दें.

हफ्ते में कितनी बार सेक्स करना चाहिए, इसका नॉर्मल स्टैंडर्ड क्या है?

डॉ. अशोक गुप्ता,
सेक्स एक्सपर्ट, चांदनी चौक, नई दिल्ली।

सवाल : मैं एक 28 वर्षीय शादीशुदा युवक हूं। मेरी शादी को 3 साल हो गए हैं। काम के बिजी शेड्यूल के कारण मैं और मेरी पत्नी हफ्ते में एक बार सेक्स करते हैं। मेरी पत्नी का मानना है कि हमारी फ्रिक्वेंसी बहुत कम है। चूंकि अब वह कंसीव करना चाहती है, तो इस बात को लेकर हम दोनों में बहुत बहस होती है। कृपया बताएं कि हमें हफ्ते में कितनी बार सेक्स करना चाहिए? इसका नॉर्मल स्टैंडर्ड क्या है?


जवाब : हम सभी चाहते हैं कि हमारा वैवाहिक जीवन सुखी हो। इसके लिए खूब कोशिशें भी की जाती हैं, लेकिन फिर भी अधिकांश लोगों को अपने दाम्पत्य जीवन में पति या पत्नी से शिकायत होती है। वास्तव में हम सुखी दाम्पत्य के तीन प्रमुख सूत्र आदर, विश्वास और प्रेम को भूलते जा रहे हैं। इसके इतर एक दंपति के जीवन में प्रेम की सबसे बड़ी बुनियाद है सेक्स। कुछ लोगों का मानना है कि हफ्ते में बस एक या दो बार सेक्स करना पर्याप्त होता है, जबकि कुछ मानते हैं कि महीने में एक या दो बार काफी होता है। सभी लोगों की राय अलग-अलग होती है, इसलिए बेहतर यही होगा कि किसी सर्वमान्य स्टैंडर्ड या गिनती के पचड़े में न पड़कर बस सेक्स का इच्छानुसार भरपूर आनंद उठाएं। क्योंकि संख्याओं से ज्यादा जरूरी है सेक्स का आनंद उठाना।

महत्वपूर्ण बात यह नहीं कि कोई कितनी बार सेक्स करता है, बल्कि यह है कि वह कैसे करता है, उसे सेक्स के दौरान कितनी संतुष्टि मिलती है। हकीकत में सेक्स का मतलब होता है- समान भोग या समान आनंद। इस क्रिया से दोनों पार्टनरों को बराबर आनंद मिलना चाहिए। कामसुख से मिलनेवाले सुख की तुलना दूसरे कामों से मिलनेवाले सुख से नहीं की जा सकती। यह वह परम आनंद है, जिसका अहसास दो लोग एक साथ मिलकर करते हैं। हालांकि दोनों का ऑर्गेज्म पर एक साथ पहुंचना जरूरी नहीं। महिलाओं और पुरुषों को यह समझना होगा कि सेक्स की चरम अवस्था का आनंद उठाने के लिए जल्दबाजी न करें। प्यार भरे स्पर्श के साथ सेक्स प्रक्रिया का आरंभ करें। एक-दूसरे को चुंबन के द्वारा शारीरिक और मानसिक तौर पर सेक्स के लिए तैयार करें ताकि आप ऑर्गेज्म प्राप्ति का आनंद उठा सके। सेक्स की प्रक्रिया में फोरप्ले का बड़ा महत्व है। प्यार भरी बातों और स्पर्शों के द्वारा आप अपने साथी को सेक्स के लिए पूरी तरह से तैयार कर सकते हैं।

तो शारीरिक संबंध भी संतोषप्रद होगा

सेक्स का आनंद लेने के बाद दोबारा फॉरप्ले को दोहराया जा सकता है। इससे आप दोबारा ज्यादा मादकता से भरे सुख को पाने के लिए तैयार हो सकेंगे और ऑर्गेज्म की प्राप्ति होगी। इसके साथ ही नए तरह के सेक्स पोजीशन आजमाने की कोशिश कीजिए, जो आपके साथी को पसंद हो, क्योंकि यह प्रक्रिया शारीरिक से ज़्यादा भावनात्मक होता है। भावनात्मक संबंध जितना गहरा होगा, शारीरिक संबंध उतना ही संतोषप्रद होगा। सेक्स कभी भी गंभीर अवस्था में शुरू नहीं हो सकता है। इसको शुरू करने के लिए अच्छी और मजेदार बातें करें। ताकि धीरे-धीरे मन और माहौल दोनों अच्छा होने लगे। अपने साथी के साथ शरारत भरी बातें करें, छेड़खानी करें। फिर सेक्स का भरपूर आनंद लें।

बुखार में शारीरिक संबंध बनाने के लिए पति करता था परेशान

बॉलीवुड एक्ट्रेस चाहत खन्ना की पर्सनल लाइफ में काफी उतार चढ़ाव रहे. अभी भी वो काफी मुश्किल दिनों से गुज़र रही हैं. चाहत ने एक औरत की जिंदगी के दर्द के बारे में बात करते हुए कहा कि मां होने की वजह से उन्हें काम नहीं मिल रहा है. उन्हें समझ नहीं आ रहा कि वो क्या करें. इसलिए उन्होंने अपना ये दुख दोस्तों से बांटने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया. चाहत ने कहा काम न मिलने की वजह से उन्हें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. गुजर बसर तक करना मुश्किल हो गया है. मैं दो बेटियों की मां हूं. इस नाते डायरेक्टर को लगता है कि मैं उतनी हिम्मत से पहले से काम नहीं कर सकती. लेकिन उन्हें ये पता होना चाहिए मां बनने के बाद एक औरत की स्ट्रांग हो जाती है.

चाहत ने कहा कि मेरे पास अब थोड़े से पैसे बचे हैं जिनसे मैं अपनी बेटियों को पाल रही हूं. मुझे काम चाहिए. मैं अब पहले से भी बेहतर काम कर सकती हूं. बता दें, चाहत खन्ना Chahatt Khanna घरेलू हिंसा का शिकार हो चुकी हैं.

निशा रावल की ही तरह चाहत खन्ना ने पति फरहान मिर्जा पर घरेलू हिंसा का केस दर्ज किया था और कई आरोप लगाए थे. चाहत ने अपने पति के बारे में कहा था कि उनका पति फरहान निकम्मा है. उन्हें पैसों के लिए तंग करता है. कोई काम नहीं करता है. उन्हें नीचा दिखाने में कोई कसर नहीं छोड़ता है.

चाहत ने बताया था उनका पति उनके साथ जबरदस्ती करता था जब वो साथ थीं. यहीं नहीं बीमार होने के बावजूद वो सेक्स की डिमांड करता था. अब मैं अलग हो गई हूं.


चाहत खन्ना Chahatt Khanna की दो शादियां हो चुकी हैं. पहले पति से रिश्ता टूटने के बाद उन्होंने फरहान मिर्जा से शादी की, लेकिन ये शादी भी न चल सकी.

चाहत खन्ना के पति ने भी उन पर गंभीर लगाते हुए कहा कि एक्ट्रेस का मेरे भाई से अफेयर चलता है.

टीवी सीरियल बड़े अच्छे लगते हैं कि एक्ट्रेस चाहत खन्ना ने अपने पति फरहान पर आरोप लगाते हुए कहा था कि वो साइकोपैथ है. चाहत ने कहा कि फरहान ने उन्हें धमकी दी थी कि मैं अगर कभी शादी करनी की सोची भी तो वो हमें मार देगा. वो एक साइकोपैथ की तरह बिहेव करता है.

स्पर्म काउंट बढ़ाने के लिए खाएं ये दाल

हालांकि कई बार शादी के कुछ साल गुजरने पर जब पुरुष पिता नहीं बन पाता तो उसकी यौन क्षमता पर सवाल उठने लगते हैं. ऐसी शर्मिंदगी भरी स्थिति कभी आपके सामने न आए, इससे बचने के लिए आज हम आपको 5 ठोस उपाय बताने जा रहे हैं. जिन्हें अपनाने से आपके स्पर्म काउंट (Sperm Count) बढ़ जाएंगे और आप यौन क्षमता (Sexual Ability) में ‘बाहुबलि’ बन जाएंगे.

स्पर्म काउंट बढ़ाने के लिए करें बेरीज का सेवन
अगर आप भी स्पर्म काउंट कम होने की समस्या से परेशान हैं तो आपको बेरीज खानी चाहिए. ये बेरीज कई प्रकार की होती हैं, जैसे ब्लूबेरी, स्ट्रॉबेरी, क्रेनबेरी और ब्लैकबेरी. इन बेरीज का नियमित सेवन करने से स्पर्म काउंट तेजी से बढ़ते हैं. जिससे आपके पिता बनने की संभावना भी पहले से ज्यादा बढ़ जाती है.

शतावरी सब्जी खाने से तेजी से बढ़ते हैं शुक्राणु
हम सबके घरों में हरी सब्जी खाया जाना सामान्य बात है. आप स्पर्म काउंट (Sperm Count) बढ़ाने के लिए शतावरी सब्जी को जरूर शामिल करें. इसमें पौष्टिक तत्वों का भंडार छिपा हुआ है. सप्ताह में तीन- चार बार शतावरी की सब्जी का उपयोग करने पर स्पर्म काउंट काफी हद तक बढ़ जाते हैं.

मसूर की दाल से बढ़ती है पुरुषों की यौन क्षमता
हमारी भोजन की थाली में अक्सर दाल जरूर होती हैं. इन्हें खाने से हमें प्रोटीन मिलता है. जिन लोगों को स्पर्म काउंट (Sperm Count) की समस्या है, उन्हें मसूर दाल खानी चाहिए. इस दाल में में फोलिक एसिड पाया जाता है, जो पुरुषों की प्रजनन क्षमताके लिए काफी एक्टिव रूप से कार्य करता है. कई लोग स्पर्म मोटेलिटी के लिए इस दाल का पानी पीना भी पीते हैं.

डार्क चॉकलेट से पौरुष शक्ति में होता है चमत्कार
चॉकलेट खाना आजकल फैशन स्टेटमेंट है. कम स्पर्म काउंट वाले पुरुषों को डार्क चॉकलेट के पाउडर को दूध के साथ इस्तेमाल करना चाहिए. डार्क चॉकलेट में टेस्टोस्टेरोन हार्मोन बढ़ाने का गुण पाया जाता है, जो स्पर्म काउंट बढ़ाने के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है.

जिंक वाले भोजन से बढ़ जाते हैं शुक्राणु
शुक्राणुओं की कम संख्या से जूझ रहे लोगों को जिंक के स्रोत वाले खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए. इन खाद्य पदार्थों में प्रमुख रूप से बीन्स, ओट्स, तिल, मूंगफली लहसुन जैसे फूड्स शामिल हैं. इन्हें आप अपने भोजन में अलग-अलग प्रकार से शामिल करके स्पर्म काउंट बढ़ाने का फायदा पा सकते हैं.

 

जानें क्यों लड़कियों को अंधेरे में सेक्स करने में आता हैं ज्यादा मजा…

सेक्स महिलाओं को काफी पसंद होता है। रात रोमांटिक होती है महिलाएं भी मूड में आ जाती हैं। सेक्सी कपड़े पहन वो अपने पार्टनर को रिझाती हैं और फिर बत्ती बंद कर शुरू कर देती हैं अपने साथी को प्यार करना। लेकिन बत्ती बंद क्यों? क्या आपने कभी ऐसा सोचा है? आज हम आपको बताएंगे कि आखिर क्यों महिलाएं सेक्स करते समय लाइट बंद कर देती हैं।

एक सर्वेक्षण में पता चला है कि ज्यादातर महिलाएं अंधेरे में सेक्स करती है। लेकिन इसके पीछे कारण क्या है। अध्ययन में पता चला है कि महिलाएं सेक्स करते समय यह नहीं चाहती कि उनका पार्टनर उनके फिगर को देखे। सर्वे में पता चला कि 60 फीसदी महिलाएं अंधेरे में इसलिए करती हैं पाकि उनके पति उनके खराब फिगर को नहीं देखें।

यह सर्वे ऑनलाइन करवाया गया। इस सर्वे में 73 फीसदी महिलाऔं ने माना कि ज्यादा वजन के कारण वे सेक्स का भरपूर मजा नहीं ले पाती और बेडौल काया को दिखाने में उन्हें शर्म आती है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *