दुनिया

चीन ने रूस से कहा, अफ़ग़ान तालिबान ने अपनी ज़मीन का इस्तेमाल किसी भी मुल्क के ख़िलाफ़ नहीं होने देने का वादा किया है!

सोमवार को चीनी विदेश मंत्रालय की दैनिक प्रेस कॉन्फ़्रेंस में चाइना डेली ने सवाल पूछा कि अफ़ग़ान तालिबान ने अंतरिम सरकार का उद्घाटन समारोह रद्द कर दिया है. रूसी राष्ट्रपति के प्रेस सेक्रेटरी दिमित्री पेस्कोव ने कहा था कि अफ़ग़ानिस्तान की नई सरकार के उद्घाटन समारोह में रूस शामिल नहीं होगा. इस आपकी क्या टिप्पणी है?

इस सवाल के जवाब में चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता चाओ लिजिअन ने कहा, ”अफ़ग़ानिस्तान की अंतरिम सरकार का उद्घाटन समारोह होगा या नहीं, ये उनका आंतरिक मामला है. इसके साथ ही सभी देशों को अधिकार है कि वे किसी के उद्घाटन समारोह में जाएं या नहीं जाएं. चीन सभी देशों के फ़ैसलों का सम्मान करता है.”

चाओ लिजिअन ने एक और टिप्पणी में कहा कि अफ़ग़ान तालिबान ने अपनी ज़मीन का इस्तेमाल किसी भी मुल्क के ख़िलाफ़ नहीं होने देने का वादा किया है और उसे इस वादो को निभाना चाहिए.

संयुक्त राष्ट्र: अफ़ग़ानिस्तान में मानवीय त्रासदी टालने के लिए 60 करोड़ डॉलर की ज़रूरत

संयुक्त राष्ट्र ने कहा है कि अफ़ग़ानिस्तान के लिए सहायता के लिए साठ करोड़ अमेरिकी डॉलर की ज़रूरत है.

यूएन ने साफ़ कहा है कि अफ़ग़ानिस्तान एक बड़े मानवीय संकट का सामना कर रहा है.

संयुक्त राष्ट्र के प्रमुख एंटोनियो गुटेरेस ने सोमवार को जिनेवा में एक सम्मेलन के दौरान बताया कि अफ़ग़ानिस्तान में “तत्काल भोजन, दवा, स्वास्थ्य सेवाओं, सुरक्षित पानी की आवश्यकता है.”

उनका कहना था कि लोगों को राहत के लिए 60 करोड़ अमेरिकी डॉलर जुटाने होंगे.

António Guterres
@antonioguterres
The people of Afghanistan are facing a humanitarian calamity.

This is the time for the international community to extend a lifeline and do everything we can – and everything we owe – to help them hold on to hope.

 

एंटोनियो गुटेरेस ने कहा, “दशकों की जंग के बाद अब वक़्त आ गया है कि दुनिया अफ़ग़ान लोगों के साथ खड़ी हो. पिछले हफ़्तों के नाटकीय घटनाक्रम से पहले भी अफ़ग़ानिस्तान, दुनिया भर में सबसे ख़राब मानवीय संकट से जूझ रहा था. लेकिन अब लाखों लोग बेघर हैं. साथ ही देश में भयानक सूखा पड़ने के आसार हैं.”

उन्होंने कहा कि अफ़ग़ानिस्तान के बहुत सारे लोगों के पास इस महीने के आख़िर तक खाने के लिए कुछ नहीं होगा.

संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि अफ़ग़ानिस्तान को एक लाइफ़लाइन की ज़रूरत है, वरना वहां के हालात भयावह हो सकते हैं.

तालिबान ने प्रधानमंत्री अखुंद की ताज़ा तस्वीर जारी की

तालिबान ने सोमवार को अफग़ानिस्तान के अंतरिम प्रधानमंत्री मुल्ला हसन अखुंद की अभी की तस्वीर ट्विटर पर पोस्ट की है.

क़तर की राजधानी दोहा में तालिबान के दफ़्तर के प्रवक्ता मोहम्मद नईम ने ये तस्वीर पोस्ट की है. नईम ने तस्वीर के साथ लिखा है, ”राष्ट्रपति भवन में इस्लामिक अमीरात अफ़ग़ानिस्तान के प्रधानमंत्री मुल्ला हसन अखुंद.”

तस्वीर में दिख रहा है कि अखुंद कुर्सी पर बैठे हुए हैं. इससे पहले मुल्ला हसन अखुंद के जवानी के दिनों के तस्वीर ही लोगों ने देखी थी. इस तस्वीर में अखुंद बुज़ुर्ग दिख रहे हैं.

1999 में अखुंद अफ़ग़ानिस्तान के विदेश मंत्री के तौर पर पाकिस्तान आए थे और उन्होंने तत्कालीन पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ से मुलाक़ात की थी. दोनों नेताओं की गर्मजोशी के हाथ मिलाते हए तस्वीर आज भी सोशल मीडिया पर शेयर की जाती है.

ये वही मुल्ला अखुंद हैं, जिन्होंने 2001 में बामियान में बुद्ध की मूर्तियाँ तुड़वाई थीं.

Dr.M.Naeem
@IeaOffice
السيد الملا محمد حسن آخند رئيس وزراء إمارة أفغانستان الإسلامية. في القصر الرئاسي.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *