दुनिया

तुर्की, पाकिस्तान और आज़रबाइजान के मुक़ाबले में ईरान, भारत और आर्मेनिया नज़दीक आ रहे हैं : रिपोर्ट

ग्रीक सिटी टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक़, ईरान और भारत समेत यूरेशियन देशों के बीच ट्रांज़िट मार्ग से आज़रबाइजान को हटा दिया गया है और उसकी जगह आर्मेनिया ने ले ली है।

रिपोर्ट के मुताबिक़, सोमवार को बीबीसी के एक रिपोर्टर ने ईरान के व्यापार विकास संगठन के प्रमुख अलीरज़ा पैमान पाक के हवाले से बताया कि ईरान और यूरेशियाई देशों के बीच आवाजाही के दो मार्ग आज़रबाइजान से होकर जाने वाले मार्ग की जगह ले लेंगे।

पहला मार्ग आर्मेनिया से होकर गुज़रेगा और पुनर्निमाण कार्य ख़त्म होने के एक महीने के बाद उसे खोल दिया जाएगा, जबकि दूसरा मार्ग समुद्री होगा।

पैमान पाक ने इस संदर्भ में उत्तर-दक्षिण अंतर्राष्ट्रीय परिवहन गलियारे (INSTC) का उल्लेख किया। यह बड़ी आर्थिक परियोजना 7,200 किमी लंबी है, जिसमें रेल, सड़क और जल मार्ग शामिल हैं, और इसका उद्देश्य यात्रा के समय और लागत को कम करना है।

इस रिपोर्ट के मुताबिक़, उत्तर-दक्षिण अंतर्राष्ट्रीय परिवहन कॉरिडोर से रूस, ईरान, मध्य एशिया, भारत और यूरोप के बीच व्यापार बढ़ेगा। यह कॉरिडोर वर्तमान कॉरिडोर की तुलना में न केवल 30 फ़ीसद कम ख़र्चे वाला और 40 फ़ीसद छोटा है, बल्कि ईरान और भारत के साथ बिगड़ते संबंधों के मद्देनज़र इससे आज़रबाइजान और अधिक अलग-थलग पड़ जाएगा।

वर्तमान उत्तर-दक्षिण अंतर्राष्ट्रीय परिवहन कॉरिडोर भारत, ईरान, आज़रबाइजान और रूस से होकर गुज़रता है।

इस दिशा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए आज़रबाइजान की आर्थिक प्रतिबद्धता के बावजूद, उसकी नीतियों का ईरान और भारत के साथ उसके संबंधों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ा है।

हालिया दिनों में आज़रबाइजान ने कश्मीर को लेकर भारत की नीतियों की निंदा की है और सार्वजनिक रूप से पाकिस्तान के लिए समर्थन जताया है।

जनवरी में आज़रबाइजान, तुर्की और पाकिस्तान के विदेश मंत्रियों ने नागोर्नो-कराबाख़, साइप्रस, पूर्वी भूमध्यसागर और कश्मीर में एक-दूसरे की महत्वाकांक्षाओं के समर्थन में एक संयुक्त बयान जारी किया था।

तुर्की, आज़रबाइजान और पाकिस्तान की ओर से शत्रुता बढ़ने के कारण, भारत और ईरान ने घोषणा की है कि आर्मेनिया के रास्ते रूस पहुंचने के लिए आज़रबाइजान के बजाय अगले महीने से नए उत्तर-दक्षिण अंतर्राष्ट्रीय परिवहन कॉरिडोर का संचालन शुरू हो जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *