ब्लॉग

नाम से याद आया, नाम का ही तो सारा खेल है!

Wasim Akram Tyagi
===============
भारत में गाड़ियों के बड़े किस्से हैं, सिने जगत में गाड़ियों पर कई गीत भी फिल्माए गए हैं। 1958 में “चलती का नाम गाड़ी” मूवी आई थी। किसी का कारोबार सही चलने लगे तो लोग कहते हैं कि फलां की गाड़ी ठीक चल रही है, किसी का कारोबार बिगड़ जाए तब लोग कहते हैं कि फलां की गाड़ी से पटरी से उतर गई। हिंदी भाषी भारत में अक्सर गाड़ियों पर एक ‘शेर’ लिखा रहता है-

चलती है गाड़ी उड़ती है धूल
जलते हैं दुश्मन खिलते हैं फूल।

इन दिनों एक गाड़ी भारत में चर्चा का केंद्र बनी हुई है। गाड़ी का नाम ‘थार’ है, गाड़ी इस देश के गृह राज्यमंत्री के पुत्र की है। यह वही गाड़ी है जिससे यूपी के लखीमपुर के तिकुनिया में तीन अक्टूबर को किसानों को कुचला गया है, इसमें कई लोगों की जान गई। चूंकि यह गाड़ी गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के ‘लाडले’ की है इसलिये इस गाड़ी को यह हक़ है कि वह अपनी मर्ज़ी से चल सकती है, किसी पर भी चढ़ाई जा सकती है, किसी को भी कुचल सकती है, किसी की भी जान ले सकती है। क्या हुआ? हद से हद थानेदार एक रिपोर्ट लिखी, जरूरत पड़ी तो ‘पूछ-ताछ’ के नाम पर मंत्री के बेटे को ‘निमंत्रण’ भेजकर कह गया कि हुजूर आइए! आपके साथ कप चाय पीनी है। सुप्रीम कोर्ट ने चाबुक दिखाया तो आवभगत के बाद ‘गिरफ्तारी’ कर ली गई।

बहरहाल! जैसा कि ऊपर बताया गया कि भारत में गाड़ियों के बहुत किस्से हैं। इसी कड़ी में एक किस्सा भाजपा सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर की गाड़ी का भी है। लेकिन यह ‘थार’ नहीं बाइक है। दरअस्ल महाराष्ट्र के मालेगांव में 2008 में बम धमाके हुए इन धमाकों में पहली बार ‘लीक’ से हटकर हिंदुवादी संगठनों के लोगों का नाम सामने आया। मालेगांव ब्लास्ट में नमाज़ पढ़कर लौट रहे कई नमाज़ी मारे गए थे और कई घायल हुए थे। इन धमाकों के बाद, हमेशा की तरह, सुरक्षा एजंसियों ने मुसलमान युवकों को गिरफ्तार किया। महाराष्ट्र के आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) के तत्कालीन प्रमुख हेमंत करकरे ने जब इस घटना की बारीकी से जांच की तो यह सामने आया कि धमाकों के लिए इस्तेमाल की गई मोटरसाइकिल साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर की थी। आगे की जांच में इन धमाकों में स्वामी दयानंद पांडे, सेवानिवृत्त मेजर उपाध्याय, रामजी कालसांगरा और स्वामी असीमानंद की संलिप्तता भी प्रकट हुई। ये सभी अतिवादी हिंदू दक्षिणपंथी थे। जब हेमंत करकरे इस मामले की जांच कर रहे थे और आए दिन इसमें हिंदुओं के शामिल होने की बात सामने आ रही थी तब बाल ठाकरे ने ‘‘सामना’’ में लिखा, अपने लेख में उन्होंने करकरे पर भड़ास निकालते हुए लिखा कि ‘‘हम करकरे के मुंह पर थूकते हैं’’। उस वक्त हमारे “प्रधानसेवक” गुजरात के मुख्यमंत्री हुआ करते थे, उन्होंने करकरे को ‘‘देशद्रोही’’ बताया था। लालकृष्ण आडवाणी ने भी करकरे को फटकारा। इसी दौरान मुंबई पर 26/11 हमाल हुआ, इस हमले में हेमंत करकरे शहीद हो गए। नरेंद्र मोदी, जिन्होंने करकरे को देशद्रोही बताया था, तत्काल मुंबई पहुंचे और उनकी पत्नी को एक करोड़ रूपए का चैक भेंट करने की पेशकश की। करकरे की पत्नी ने इस राशि को स्वीकार करने से इंकार कर दिया।करकरे की शहादत की बाद आतंकवाद के आरोप में ‘हिंदुवादियों’ की गिरफ्तारी, खुलासे का मामला भी लगभग शांत हो गया।

एनआईए ने 13 मई, 2016 को अदालत में एक नया आरोपपत्र दाखिल कर प्रज्ञा सिंह ठाकुर को सभी आरोपों से मुक्त कर दिया और कर्नल पुरोहित व अन्यों पर लगे गंभीर आरोप हटा लिए। इसके बाद क्या हुआ! वह सबके सामने है, 2019 के आम चुनाव में भाजपा ने साध्वी को प्रताशी बनाया, साध्वी ने दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह को भारी मतों से चुनाव हराया और भारतीय संसद की सदस्य बन गईं। माननीय बनने के बाद साध्वी ने गोडसे का महिमामंडन किया, करकरे की शहादत को अपना “श्राप” देना बताया, और इन दिनों देशभक्ति के सर्टिफिकेट बांटती है। ध्यान रहे मालेगांव ब्लास्ट में जो बाइक इस्तेमाल की गई थी, वह साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर की थी।

अब एक और गाड़ी का किस्सा सुनिए। यह किस्सा बाइक का नहीं बल्कि कार का है। रूबीना की कार! रूबीना महाराष्ट्र के पुणे की यरवदा सेंट्रल जेल (लेडीज विंग) में उम्र क़ैद की सज़ा काट रही हैं। रूबीना का गुनाह यह है कि वे उस कार की मालकिन थीं जिसका इस्तेमाल मुंबई में 1993 में हुए सीरियल ब्लास्ट के लिए विस्फोटकों को ढोने के लिए किया गया था। यहां यह भी बताना जरूरी है कि रूबीना उस कार को चला नहीं रही थीं। ये क़िस्से सिर्फ गाड़ी का नहीं हैं, बल्कि इन्हीं गाड़ियों में ‘चलने’ वाली इस देश की न्याय व्यवस्था का भी किस्सा है, ये वही गाड़ियों हैं जो अपने पीछे धूल की जगह सवाल छोड़ गईं हैं। रूबीना की गाड़ी का इस्तेमाल मुंबई ब्लास्ट में हुआ, रूबीना उम्रक़ैद की सज़ा काट रही है, साध्वी की मोटरसाइकिल का इस्तेमाल मालेगांव ब्लास्ट में हुआ साध्वी संसद में बैठी है। अपनी-अपनी क़िस्मत है! अपना-अपना नाम है, नाम से याद आया, नाम का ही तो सारा खेल है। इस लेख में आपको दो गाड़ियों पर आए अदालत के ‘फैसले’ बताए गए हैं, तीसरी गाड़ी का किस्सा अदालत तक पहुंचेगा भी या नहीं, इसका जवाब भविष्य के गर्भ में छिपा है। फिलहाल गाड़ियों पर लिखी एक ‘तुकबंदी’ याद आ रही है ‘दम तो पास कर, वरना बर्दाश्त कर’।

– न्यूज़ क्लिक पर प्रकाशित

आर्यन ख़ान से किसी भी तरह की कोई ‘ड्रग’ बरामद नहीं हुई
आर्यन ख़ान की मेडिकल जाँच नहीं करायी गयी
आर्यन ख़ान को ड्रग सुप्प्लायर भी नहीं माना गया है
……..मगर आर्यन ख़ान, मुस्लमान है इसलिये ‘संघ’ के राज में ‘मुस्लिम मुक्त’ भारत की मुहिम चल रही है

 

डिस्क्लेमर : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार, जानकारियां लेखक के निजी विचार हैं. लेख सोशल मीडिया फेसबुक/व्हाट्सप्प पर वायरल है, इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति तीसरी जंग हिंदी उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार तीसरी जंग हिंदी के नहीं हैं, तथा तीसरी जंग हिंदी उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *