देश

भारतीय नरक की लम्बी लाईन…इतनी बुरी है भाजपा…?


Farid Bharti
===================
उम्मीदवार परेशान एक वोट किसके नाम करूं शाह जी या नमो जी…?
हमेशा नये रिकार्ड कायम कर रही है 600 करोड़ वोट लेकर सत्ता मैं पहुंची भाजपा, वैसे मोदी जी कहते हैं मैने अब तक एक झूंठ नहीं बोला, मगर तमिलनाडु स्थानीय निकाय चुनाव में भाजपा उम्मीदवार को मिला महज 1 वोट, परिवार ने भी नहीं समझा वोट के काबिल, इतनी बुरी है भाजपा…?

चेन्‍नई- तमिलनाडु में हाल ही में हुए स्थानीय निकाय चुनाव में भाजपा के प्रत्‍याशी डी कार्तिक बुरी तरह पराजित हुए, भाजपा उम्मीदवार डी कार्तिक को परिवार में पांच सदस्य होने के बावजूद केवल एक वोट मिला है, वोट भी ख़ुद ही का है, अब उस वोट को किसके नाम करें शाह या मोदी…?

डी कार्तिक कोयंबटूर जिले के पेरियानाइकनपालयम संघ में वार्ड सदस्य के पद के लिए चुनाव लड़ा था। इस घटना से उनकी उम्मीदवारी का मजाक बन गया और यह खबर मीडिया में फैल गई और #Single_Vote_BJP के साथ वायरल हो गई जो ट्विटर पर ट्रेंड करने लगी।


लेखिका और कार्यकर्ता मीना कंदासामी ने ट्वीट करते हुए कहा, “स्थानीय निकाय चुनावों में भाजपा उम्मीदवार को केवल एक वोट मिलता है। अपने घर के चार अन्य मतदाताओं पर गर्व है जिन्होंने दूसरों को वोट देकर जिताया।

कांग्रेस के एक अशोक कुमार ने कहा, “पांच सदस्य उनके परिवार हैं और वार्ड सदस्य पद के लिए चुनाव लड़ने वाले इस भाजपा उम्मीदवार को कोयंबटूर में एक वोट मिला!” इस तरह तमिलनाडु बीजेपी को संभालता है। वहीं एक ने ट्वीट किया, “उनके परिवार के पांच सदस्यों में से, भाजपा उम्मीदवार केवल एक वोट सुरक्षित कर सका।

राज्य में स्थानीय निकाय चुनाव 6 और 9 अक्टूबर को हुए थे। कुल 27,003 पदों के लिए 79,433 उम्मीदवारों ने चुनाव लड़ा था। कार्तिक ने अपने पोस्टरों के साथ पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह जैसे केंद्रीय नेतृत्व के प्राथमिक चेहरों के साथ भारी प्रचार किया, फिर भी वह केवल एक वोट सुरक्षित कर सके…?

Farid Bharti
================
भारतीय नरक की लम्बी लाईन क्यूं…?

Ashok Omar की वाल से
एक व्यक्ति मरकर नर्क में पहुंचा, वहां उसने देखा कि प्रत्येक व्यक्ति को किसी भी देश के नर्क में जाने की छूट है, उसने सोचा, चलो अमेरिकी नर्क में जाकर देखे, जब वह वहां पहुंचा तो द्वार पर पहरेदार से पूछा – क्यों भाई अमेरिकी नर्क में क्या-क्या होता है…?

पहरेदार बोला – कुछ खास नहीं, सबसे पहले आपको एक इलेक्ट्रिक चेयर पर एक घंटा बैठाकर करंट दिया जाएगा, फ़िर एक कीलों के बिस्तर पर आपको एक घंटे लिटाया जाएगा, उसके बाद एक दैत्य आकर आपकी जख्मी पीठ पर पचास कोड़े बरसायेगा.

इस तरह से वो भुक्तिभोगी कई देशों के नरक के चक्कर लगाता रहा और सब देशों की सजा देने की पद्धति एक जैसी लगी अरबों का नरक तो और भी बहुत खरनाक लगा आखिरकार बहुत चक्कर लगाने के बाद एक जगह पहुंचा, जहां दरवाजे पर लिखा था – “भारतीय नर्क”.

दरवाजे के बाहर उस नर्क में पहरेदार से वही प्रश्न पुछा तो पहरेदार बोला – इलेक्ट्रिक चेयर तो वही अमेरिकन है, लेकिन बिजली नहीं है कीलों वाले बिस्तर में से कीलें कोई निकाल ले गया है और कोडे़ मारने वाला दैत्य सरकारी कर्मचारी है, आता है, दस्तखत करता है और चाय-नाश्ता करने चला जाता है और कभी गलती से जल्दी वापस आ भी गया तो एक-दो कोडे़ मारता है और पचास लिख देता है.

इसीलिए भारतीय नरक में जाने के लिये लम्बी लाईन लगी हुई थी, लोग भारतीय नर्क में जाने को उतावले हो रहे थे, यहाँ ज़रूर सजा कम मिलती होगी.
जय हिन्द.

 

डिस्क्लेमर : लेख, समाचार में व्यक्त किए गए विचार, जानकारियां लेखक के निजी विचार हैं. लेख सोशल मीडिया फेसबुक/व्हाट्सप्प पर वायरल है, इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति तीसरी जंग हिंदी उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार तीसरी जंग हिंदी के नहीं हैं, तथा तीसरी जंग हिंदी उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *