इतिहास

भोपाल सल्तनत के साहबज़ादे उमर फ़ारूक़ अली और उनकी पत्नी जैसलमेर की राजकुमारी बालाजी योगेश्वरी भाटी


भोपाल सल्तनत के साहबज़ादे उमर फ़ारूक़ अली और उनकी पत्नी जैसलमेर की राजकुमारी बालाजी योगेश्वरी भाटी (अंजली)। राजपूतो और मुग़लों नवाबों के रिश्ते कई पीढ़ियों से है और ये सबसे नई पीढ़ी है जिनकी शादी 2014 में हुई। उमर फ़ारूक़ भोपाल नवाब हमीदुल्लाह खान के बड़े भाई नवाब उबैदुल्लाह खान के वंशज हैं और योगेश्वरी भाटी पूर्व MLA महाराजा चंद्रवीर सिंह की बेटी हैं।

ये तस्वीर उस वक़्त की है जब भोपाल के ऐतिहासिक शौक़त महल की मरम्मत करने के बजाए इसका ऊपरी हिस्सा ढहाया जा रहा था। और आज मध्यप्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री ने भोपाल झील के सामने लक्ज़री ताज होटल का उद्घाटन किया और कहा इससे पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा, सैलानियों की तादाद बढ़ेगी। लेकिन जनाब मामा जी जब ये ऐतिहासिक धरोहर ही नही बचेगी तो सैलानी देखने क्या आएंगे?
#mughal_saltanat


इलाहाबाद का ये मुग़ल कालीन ख़ुलदाबाद गेट अब सिर्फ तस्वीरों में रह गया है। 2018 में विकास प्राधिकरण ने इसे सड़क निर्माण के दौरान ढहा दिया था। मुग़ल बादशाह अक़बर ने 1583 में इलाहाबाद शहर की बुनियाद रखी तो शहर के इस आख़री हिस्से में खुल्दाबाद सरायं और दाख़िल दरवाज़े की तामीर करवाई थी। शहर में दाख़िल होने वाले मुसाफ़िर खुल्दाबाद सरांय में ठहरते थे। ये सब अब सिर्फ इतिहास के पन्नों तक रह गया। अब ना खुल्दाबाद गेट रह गया और ना सरांय।
#mughal_saltanat

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *