कश्मीर राज्य

ये बडा गेम है : #जम्मू-कश्मीर आतंकवाद की मोडस आँपरेंडी यही है?

Beniyam Tajzeea
==========
लाँकडाऊन के तुरंत बाद जेम्स बाँन्ड ने दो बार बयान दिया था के आतंकवादी मजदूरो को धमका रहे है..

ऊस वक्त घाटी मे 7 लाख की फौज तैनात थी. ऊस वक्त लोगो ने कहा के लोग घरो मे बंद है और आतंकवादी 7 लाख फौज की मौजूदगी मे कैसे मुवमेंट कर सकते है ?
मगर इंटेलिजेंस के नाम से खबर प्लांट कर माहौल बना कर कर्फ्यू मे बंगाली मजदूरो को निबटा दिया गया..

बाद मे इन आतंकियो के साथ देविंदर सिंग पकडा गया तो देविंदर ने कहा “ये बडा गेम है आप इस मे मत पडीये ” देविंदर मामले पर सभी राष्ट्रभक्त और मिडिया मौन हो गया..
लाख ऊत्तेजित करने के बावजूद देविंदर के मुद्दे पर सभी मौन है..

क्या सभी राष्ट्रभक्त देविंदर जैसे अफसरो के जरीये चेक पाँईंटस् के बिच से हमलावर आतंकीयो को आसानी से गुजार कर हमले के नियोजित स्थान पर पहुँचा देते है ?
कश्मीर आतंकवाद की मोडस आँपरेंडी यही है ?

Vijay Shanker Singh
-===============
#जम्मूकश्मीर
कल रात से कश्मीर घाटी में रहने वाले 1400 हिन्दू सिख परिवार जम्मू पलायन कर गए। दिन तक 250 परिवार और आ रहे हैं। यह आधिकारिक है। पलायन करने वाले अधिकतर परिवार विभिन्न सरकारी दफ्तरों में मुलाज़िम है। दो साल 370 को हटाए हो गए, पांच लाख सुरक्षा बल केवल घाटी में है। इसके बावजूद श्रीनगर में बड़ी संख्या में नागरिकों का मारा जाना चिंता की बात है। सन 1990 की तरह हालात हैं। लोगों की आपसी साझेदारी और भरोसे को तोड़ा जा रहा है। सरकार ने भी गैर हिन्दू सरकारी कर्मचारियों को दस दिन की छुट्टी दे दी है।
( Pankaj Chaturvedi )

 

barkha dutt
@BDUTT
Oct 7
A street vendor, a chemist and now two teachers shot inside a school in Srinagar, a Pandit and a Sikh- part of the pattern of targeted assaults on religious minorities in the #Kashmir valley this week. Beyond words. How much emotional depletion and tragedy can a people take?

 

 

Vivek Ranjan Agnihotri
@vivekagnihotri
Oct 7
TRF has taken the responsibility for the killings in #Kashmir. This is exactly how JKLF used to issue letters after killings in 90s.

It seems that the abrogation of Article 370 will remain only on paper as long as we give in to terrorists.

 

 

 

 

डिस्क्लेमर : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार, जानकारियां लेखक के निजी विचार हैं. लेख सोशल मीडिया फेसबुक/व्हाट्सप्प पर वायरल है, इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति तीसरी जंग हिंदी उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार तीसरी जंग हिंदी के नहीं हैं, तथा तीसरी जंग हिंदी उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *