विशेष

ये हैं भारती सिंह, 86.5 ग्राम गांजे के साथ पकड़ी गईं थीं, #NCB ने ही पकड़ा था : 21 नवम्बर 2020 को गिरफ़्तार हुईं और 22 नवम्बर को ज़मानत मिल गई थी!

Archana Singh
@BPPDELNP
ये हैं भारती सिंह ! मशहूर स्टैंड अप कॉमेडीयन ! 86.5 ग्राम गांजे सहित अपने मनसेदू के साथ पकड़ी गईं थीं ! #NCB ने ही पकड़ा था !

21 नवम्बर 2020 को गिरफ़्तार हुईं और 22 नवम्बर 2020 को मजिस्ट्रेट कोर्ट से 15000 रुपये के मुचलके पर जमानत मिल गई !

कारण दिख रहा है न ?


चौधरी यतेंद्रसिंह
@yatendrasingh53
गले में पड़ा पट्टा बहुत कुछ कहता है ।


Archana Singh
@BPPDELNP
#इतिहास पढ़ने पर भारत की #आज़ादी के आंदोलन में #एनी_बेसेंट जैसे तमाम #अंग्रेज भी. भारत और #लंदन में लड़ते मिल जाएँगे ….

लेकिन

#RSS का कोई बंदा नहीं मिलता ऐसा क्योँ ?

मिलेगा भी कैसे?
अंग्रेज़ी हुकूमत की चड्डी-बनियान कौन धोएगा ?

हेडगेवार?

खीमपुर में मारे गए भाजपा कार्यकर्ता शुभम मिश्रा के घर जाने की घटना पर खेद प्रकट किया है

किसान नेता योगेंद्र यादव ने शुक्रवार को एक बयान जारी कर लखीमपुर में मारे गए भाजपा कार्यकर्ता शुभम मिश्रा के घर जाने की घटना पर खेद प्रकट किया है। उन्होंने कहा है कि भारतीय संस्कृति यही सिखाती है कि दुख की घड़ी में हमें विरोधियों के साथ भी खड़े हो जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि वह शुभम मिश्रा के घर उसकी शान में कसीदे पढ़ने के लिए नहीं गए थे, लेकिन मानवीय संवेदना के तहत उनके परिवार के पास पहुंचे थे।

साथी किसानों को अवगत न कराना गलती
यादव ने कहा कि आज किसान आंदोलन देश की उम्मीदों पर खरा उतरने में सफल साबित हुआ है। यह करोड़ों लोगों की उम्मीदों की आखिरी किरण के समान है और ऐसे में इसकी एकता को बरकरार रखा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि शुभम मिश्रा के घर जाने के पहले अपने निर्णय से साथी किसानों को अवगत न कराना एक गलती थी। उन्होंने कहा कि किसान संगठन में एकता बरकरार रखने और अपने किसान भाइयों की भावनाओं का सम्मान करते हुए वे उस घटना पर खेद प्रकट कर रहे हैं।

किसान संगठऩ अभी भी नाराज
हालांकि, योगेंद्र यादव के इस बयान के बाद भी किसान संगठनों में उनके प्रति गुस्सा भरा हुआ है। आज गुरनाम सिंह चढूनी गुट ने एक बयान जारी कर कहा कि यदि योगेंद्र यादव अपने बयान पर खुलकर माफी नहीं मांगते हैं तो उन्हें किसान संगठन से हमेशा के लिए बर्खास्त कर दिया जाना चाहिए। जाहिर है कि किसान संगठन योगेंद्र यादव द्वारा दी गई सफाई से बहुत ज्यादा संतुष्ट नहीं हैं। लेकिन आंदोलन की एकता को बनाए रखने के लिए सभी किसान संगठन इस घटना से आगे बढ़ते हुए आंदोलन को आगे ले जाने के लिए तैयार हैं।

किसान संगठनों ने घोषणा की है कि मिशन उत्तर प्रदेश को आगे बढ़ाने के लिए आगामी 14 नवंबर से उत्तर प्रदेश के हर गांव, जिले और प्रमुख क्षेत्रों में आंदोलन को आगे बढ़ाने के लिए प्रदर्शन तेज किया जाएगा और आरोपी मंत्री की गिरफ्तारी की मांग की जाएगी।

डिस्क्लेमर : twitts में व्यक्त किए गए विचार, जानकारियां लेखक के निजी विचार हैं. लेख सोशल मीडिया फेसबुक/व्हाट्सप्प पर वायरल है, इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति तीसरी जंग हिंदी उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार तीसरी जंग हिंदी के नहीं हैं, तथा तीसरी जंग हिंदी उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *