देश

हरियाणा में डेंगू का क़हर : उपचुनाव ड्यूटी में आए अर्द्धसैनिक बल के 26 जवान डेंगू की चपेट में आये!

हरियाणा में डेंगू का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है। प्रदेश में प्रतिदिन डेंगू के औसतन 70 मरीज मिल रहे हैं। कुल मरीजों का आंकड़ा पिछले साल के मुकाबले दो गुना पहुंच गया है। सिरसा जिले के ऐलनाबाद हलके के उपचुनाव ड्यूटी में आए अर्द्धसैनिक बल के 26 जवान डेंगू की चपेट में आ चुके हैं। वहीं, वीरवार रात को विधायक गोपाल कांडा के नजदीकी हलोपा नेता इंद्रोश गुज्जर की 9 साल की बेटी की डेंगू से मौत हो गई।

वर्ष 2020 में डेंगू के कुल 1377 मामले थे, जबकि इस बार अब तक 2646 केसों की पुष्टि हो चुकी है। आशंका जताई जा रही है कि अभी डेंगू के मामलों में और बढ़ोतरी हो सकती है। जींद जिले में डेंगू के लगातार बढ़ते केसों के साथ चिकनगुनिया का एक मरीज भी सामने आया है। गांव बुढ़ाखेड़ा निवासी एक व्यक्ति की रिपोर्ट चिकनगुनिया पॉजिटिव आई है। यह व्यक्ति फिलहाल पानीपत के एक निजी अस्पताल में उपचाराधीन है।


यह है जिलों की स्थिति

सिरसा : 8 नए केस मिले, अब तक 323 मरीज मिले, पांच डेंगू आशंकितों की मौत।
हिसार : 17 नए मरीज मिले, अब तक 134 संक्रमित। एक नाबालिग की हो चुकी है मौत। दो साल का रिकॉर्ड टूटा।
चरखी दादरी : आंकड़ा 85 पर पहुंचा। शुक्रवार को नया केस नहीं मिला।
भिवानी : 66 मरीज मिले चुके। नया केस नहीं मिला।
फतेहाबाद : 26 नए डेंगू मरीज मिले, 314 तक पहुंचा आंकड़ा
जींद- डेंगू के 27 नए केस मिले, अब तक 132 संक्रमित।
कैथल : 16 मरीज सामने आए, अब तक 151 मरीज मिले।
गुरुग्राम : डेंगू के 8 नए मरीज आए, कुल संख्या 203 पहुंची

प्रदेश के 22 जिलों में पंचकूला नंबर वन
डेंगू के मामलों में सबसे अधिक केस 396 पंचकूला में हैं। इसके बाद सिरसा, नूंह, गुरुग्राम, फरीदाबाद व सोनीपत का स्थान है। सिरसा जिले में डेंगू का पिछले 6 सालों का रिकॉर्ड टूट चुका है। अब तक के सबसे ज्यादा 323 केस मिल चुके हैं। स्वास्थ्य विभाग के 19 अक्तूबर के बुलेटिन के अनुसार, अंबाला में 122, भिवानी 63, चरखी दादरी 75, फरीदाबाद 173, फतेहाबाद 206, गुरुग्राम 184, हिसार से 86, झज्जर 57, जींद 86, कैथल 132, करनाल 38, कुरुक्षेत्र 82, महेंद्रगढ़ 109, नूंह 175, पलवल 20, पंचकूला 396, पानीपत 39, रेवाड़ी से 43, रोहतक से 75, सोनीपत से 192, यमुनानगर से 87 डेंगू के मरीज मिल चुके हैं।

लगातार फोगिंग कराई जा रही है और घर घर जाकर सैंपल लिए जा रहे हैं। घरों में लारवा मिलने पर नोटिस भी दिए जा रहे हैं और लोगों को डेंगू के प्रति जागरूक भी किया जा रहा है। लोगों को चाहिए कि वे अपने आस पास मच्छर न पनपनें दें। -डॉ. उषा गुप्ता, निदेशक, स्वास्थ्य विभाग।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *