दुनिया

अमेरिका इस्लामाबाद के साथ मज़बूत दोतरफा संवाद करना चाहता है : अमेरिकी राजदूत डोनाल्ड ब्लोम

पाकिस्तान में नए अमेरिकी राजदूत डोनाल्ड ब्लोम ने कहा है कि उनका देश इस्लामाबाद के साथ मजबूत दोतरफा संवाद करना चाहता है।

प्राप्त समाचारों के अनुसार पाकिस्तान में नए अमेरिकी राजदूत डोनाल्ड ब्लोम ने कहा है कि उनका देश इस्लामाबाद के साथ मजबूत दोतरफा संवाद करना चाहता है और अमेरिका का इरादा पूर्व पीएम इमरान खान द्वारा अमेरिका पर लगाये गये ‘‘सत्ता परिवर्तन’के आरोपों को अनदेखा करके आगे बढ़ने का है।

गौरतलब है कि पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान ने आरोप लगाया था कि उन्हें ‘सत्ता परिवर्तन’ के लिए एक अमेरिकी साजिश के तहत हटाया गया था। ज्ञात रहे कि इमरान खान को 10 अप्रैल को अविश्वास प्रस्ताव के जरिये सत्ता से हटा दिया गया था। हालांकि अमेरिका इमरान खान के आरोपों का कई बार खंडन कर चुका है। ब्लोम ने ‘डॉन’ अखबार को दिए एक इंटरव्यू में इमरान खान के ‘सत्ता परिवर्तन’ के आरोप को खारिज किया था।

अमेरिकी राजदूत ने कहा कि हालांकि, मुझे लगता है कि एक सबसे अच्छी बात जो हम आगे कर सकते हैं, यह है पाकिस्तानी समाज के सभी स्तरों पर जुड़ना जारी रखना। यह काम हम पिछले 75 वर्षों से लगातार कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह जुड़ाव केवल सरकार तक ही सीमित नहीं होगा बल्कि राजनीतिक नेताओं, व्यापारिक समुदाय, नागरिक समाज और युवाओं तक होगा। उन्होंने कहा कि इस दोतरफा संचार में वह सुनेंगे और समझेंगे कि यहां क्या हो रहा है और वाशिंगटन को उस समझ से अवगत कराएंगे।

अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन और पाकिस्तान के विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो-जरदारी ने 18 मई को न्यूयॉर्क में एक खाद्य सुरक्षा सम्मेलन के मौके पर मुलाकात की थी। ब्लोम ने कहा कि दोनों विदेश मंत्रियों द्वारा अपनी बैठक में तय किये गये एजेंडे के आधार पर कई योजनाएं बनाई जा रही हैं। राजदूत ने वैश्विक कोविड-19 महामारी के खिलाफ दोनों देशों के बीच साझेदारी को अच्छे उदाहरण के रूप में याद किया। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य, जलवायु परिवर्तन और शिक्षा सहित कई अन्य क्षेत्रों में भी सहयोग का विस्तार किया जा सकता है।