इतिहास

ऐतिहासिक खोज : इस्राएल में मिले 1200 साल से ज़यादा पुरानी एक मस्जिद के अवशेष : तस्वीरें देखें

 

इस्राएल में 1200 साल पुरानी एक मस्जिद के अवशेष मिले हैं. जानकारों का कहना है कि ये अवशेष इस इलाके में ईसाइयत से इस्लाम तक के परिवर्तन पर रोशनी डालते हैं.

ऐतिहासिक खोज
मस्जिद के अवशेष इस्राएल के नेगेव रेगिस्तान में राहत नाम के शहर में मिले हैं. राहत बेडुइन नाम से जाने जाने वाले अरबी खानाबदोशों का शहर है. शहर में एक नए मोहल्ले के निर्माण के समय ये अवशेष मिले. जानकारों का मानना है कि ये अवशेष 1,200 साल से भी ज्यादा पुराने हैं.

मस्जिद के सबूत
अवशेषों में “एक चौकोर कमरा और मक्का की दिशा में खड़ी एक दीवार” है. उस दीवार में एक अर्धगोलाकार निशान भी है जो दक्षिण की तरफ इशारा करता है. इस्राएल के प्राचीन काल की वस्तुओं के विभाग का कहना है, “ये अनूठी पुरातत्व विशेषताएं दिखाती हैं कि इस इमारत का इस्तेमाल एक मस्जिद के रूप में किया गया था.” विभाग ने यह भी कहा कि ऐसा लगता है कि उस समय कुछ दर्जन नमाजी यहां नमाज पढ़ते होंगे.

धनी लोगों का इलाका
मस्जिद से थोड़ी ही दूर एक “भव्य एस्टेट इमारत” के अवशेष भी मिले हैं, जिसमें मिले खाने के बर्तन और शीशे का सामान इस बात के संकेत हैं कि वहां धनी लोग रहते थे. तीन साल पहले इसी इलाके में एक और मस्जिद के अवशेष मिले थे और वो भी ईसा पश्चात सातवीं से आठवीं सदी के थे. विभाग का कहना है कि दोनों मस्जिदें “दुनिया में सबसे पुरानी” मस्जिदों में से हैं.

बदलाव के गवाह
विभाग का कहना है कि दोनों मस्जिदें, एस्टेट और आस पास में मिले घरों के अवशेष “उत्तरी नेगेव में इस्लाम के रूप में एक नए धर्म को लाए जाने के बाद हुई ऐतिहासिक प्रक्रिया पर” रोशनी डालते हैं. विभाग के मुताबिक “एक नए धर्म, एक नई राजशाही और एक नई संस्कृति की धीरे धीरे स्थापना हुई, जिसने इससे पहले के बाइजेंटाइन सरकार और यहां सैकड़ों सालों से स्थापित ईसाई धर्म की जगह ले ली.”

मस्जिदों का संरक्षण
इस इलाके में इस्लाम का विस्तार सातवीं शताब्दी के पहले 50 सालों में हुआ. विभाग का कहना है कि राहत की मस्जिदों का इन्हीं स्थानों पर संरक्षण किया जाएगा. इस तस्वीर में उसी स्थल पर काम कर रहे मुस्लिम फलस्तीनी श्रमिक नमाज अदा कर रहे हैं. (एएफपी)