यूपी-उत्तराखंड राज्य

भाजपा सरकार देश को ‘जय जवान-जय किसान‘ की जगह ‘रुष्ट जवान और रुष्ट किसान‘ के बुरे हालात में ले आई है : अखिलेश यादव

Samajwadi Party
===========
समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा का रवैया शुरू से ही किसान और नौजवान विरोधी रहा है। भाजपा का दो करोड़ नौकरी प्रतिवर्ष देने का वादा धोखा साबित हुआ है। डबल इंजन भाजपा सरकार ने उत्तर प्रदेश में पांच वर्ष में 70 लाख नौकरी देने का वादा किया था। राज्य के नौजवान ढूंढ़ रहे कि नौकारी कहां है? कोरोना काल में लॉकडाउन के दौरान बड़ी तादाद में हुए विस्थापन में तमाम जाने गई थीं। जो बचे उन्हें कहां कौन नौकरी दी गई? इस सबसे देश के युवाओं में वर्तमान के प्रति हताशा और निराशा, भविष्य के प्रति असुरक्षा और आशंका का भाव देश के विकास के लिए घातक होता है।

सैन्य भर्ती में खानापूर्ति करने वाला जो लापरवाह रूख अपनाया जा रहा है, वह देश के युवाओं में आक्रोश पैदा कर रहा है। चतुर्दिक हो रहा यह विरोध दर्शा रहा है कि भाजपा ने जनाधार खो दिया है। असल में यह सोच बुनियादी तौर पर गलत है कि लोग फौज में नौकरी करने जाते हैं जबकि युवा देशभक्ति के जज्बे से सेना में जाते हैं और अपना जीवन बलिदान करते है। वो क्या जाने सेना और सेना के जज्बे को जिन्होंने स्वतंत्रता आंदोलन तक में हिस्सा न लिया हो?

युवा शक्ति का इस्तेमाल रचनात्मक होना चाहिए। राष्ट्र के निर्माण में युवाओं की सकारात्मक भूमिका होनी चाहिए। सरकारों का दायित्व देश के वर्तमान को सुधारना और भविष्य को संवारना होता है। इस दृष्टि से सरकारों की जिम्मेदारी है कि नौजवानों की ऊर्जा को सही दिशा मिले और देश की सुरक्षा में नौजवानों के भविष्य से खिलवाड़ न हो।

फौज में युवाओं के रोजगार की तमाम संभावनाएं हैं। फौज में उनकी संख्या में वृद्धि हो, अतः पहले जैसी सेना भर्ती प्रक्रिया लागू होनी चाहिए। नौजवानों की आशंकाओं का निराकरण किया जाना चाहिए। यह भी स्पष्ट होना चाहिए कि भाजपा देश के लिए सैन्य बल तैयार करने में रूचि रखती है या अपने भाजपा कार्यालयों के लिए सिक्योरिटी गार्ड की ट्रेनिंग दिलवाने की योजना लागू करने जा रही है।

अग्निपथ की नीति सरकार ने बनाई है। इसलिए सरकार और सत्ताधारी दल के प्रवक्ता किसी और को आगे न करें। अमीर उद्योगपतियों की आय की सुरक्षा से अधिक देश की सुरक्षा जरूरी है। इसलिए जो भी बजट कम पड़ रहा है, सरकार कारपोरेट पर अतिरिक्त कर लगाए पर देश की सुरक्षा के साथ समझौता न करे। ठेकेदारीकरण देश के सच्चे देशभक्त युवकों के साथ विश्वासघात है।

भाजपा सरकार देश को ‘जय जवान-जय किसान‘ की जगह ‘रुष्ट जवान और रुष्ट किसान‘ के बुरे हालात में ले आई है। सत्ता का ऐसा दुरुपयोग देश की राजनीति में किसी भी सरकार ने नहीं किया है। भाजपा पूरी तरह मनमानी पर तुली है। इससे भविष्य में देश के सामने संकट और भी ज्यादा गहरायेगा।
(राजेन्द्र चौधरी)
मुख्य प्रवक्ता