देश

यूपी के ‘बुलडोज़र जस्टिस’ को ख़त्म करने के लिए सीजेआई से हस्तक्षेप की मांग, 90 पूर्व नौकरशाहों ने सीजेआई के नाम खुला ख़त लिखा

भारत के सेवानिवृत नौकरशाहों के एक समूह ने भारत के मुख्य न्यायाधीश एनवी रमना को पत्र लिखकर कहा है कि वे ‘बुलडोज़र द्वारा किए जा रहे न्याय’ के मामले में हस्तक्षेप करें और इस क़वायद को समाप्त करें।

उन्होंने कहा कि यह चलन अब अपवाद के बजाय कई राज्यों में आम होता जा रहा है।

कॉन्स्टिट्यूशनल कंडक्ट ग्रुप का हिस्सा 90 पूर्व लोकसेवकों ने सीजेआई के नाम एक खुला पत्र लिखते हुए कहा है कि पैग़म्बरे इस्लाम (स) पर भाजपा प्रवक्ताओं की टिप्पणियों के ख़िलाफ़ प्रदर्शनों के बाद उत्तर प्रदेश में ‘अवैध हिरासत, बुलडोज़र से लोगों के मकान गिराने और प्रदर्शनकारियों पर पुलिस की हिंसा’ का सुप्रीम कोर्ट को स्वत: संज्ञान लेना चाहिए।

उन्होंने पत्र में कहा है कि उत्तर प्रदेश में तोड़फोड़ अभियान और राजनीतिक उद्देश्यों के लिए म्युनिसिपल व नागरिक क़ानूनों का दुरुपयोग प्रशासन और पुलिस प्रणाली को क्रूर बहुसंख्यक दमन के साधन में तब्दील करने की एक बड़ी नीति का सिर्फ़ एक अंश है।

पूर्व सरकारी अधिकारियों ने दावा किया कि किसी भी विरोध को बुरी तरह कुचलने के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम 1980 और उत्तर प्रदेश गैंगस्टर्स व असमाजिक गतिविधि अधिनियम-1986 लगाने के ‘स्पष्ट निर्देश’ हैं।

पत्र में कहा गया है कि इस नीति को सरकार के शीर्ष स्तर से मंज़ूरी प्राप्त है और जबकि शक्तियों के निरंकुश व मनमाने इस्तेमाल के लिए स्थानीय स्तर के अधिकारी और पुलिसकर्मी निस्संदेह जवाबदेह होते हैं, इसलिए वास्तविक दोष राजनीतिक कार्यपालिका के शीर्षतम स्तर में निहित है, यह संवैधानिक शासन के ढांचे का वह भ्रष्टाचार है जिसके लिए जरूरत है कि सुप्रीम कोर्ट आगे आकर इसके और अधिक फैलने से पहले इसके खिलाफ कार्रवाई करे।

पत्र में आगे कहा गया है कि इससे भी अधिक चिंताजनक ‘बुलडोज़र न्याय का विचार है, जिसके तहत जो नागरिक क़ानूनी तरीक़े से विरोध करने या सरकार की आलोचना करने या क़ानूनी तरीक़े से असंतोष व्यक्त करने का साहस करते हैं, उन्हें कठोर सजा दी जाती है, यह कई भारतीय राज्यों में अब अपवाद के बजाय आम होता जा रहा है।

उन्होंने कहा कि हमने प्रयागराज, कानपुर, सहारनपुर और अन्य शहरों- जहां बड़ी मुस्लिम आबादी है, में देखा है कि एक पैटर्न का पालन किया जाता है और वह राजनीतिक रूप से निर्देशित होता है।