दुनिया

चीन ने कहा, अब वह ताइवान द्वीप को अपने मेनलैंड के साथ बल पूर्वक जोड़ेगा

चीन की कम्युनिस्ट पार्टी (CCP) द्वारा जारी श्वेतपत्र में चीन ने एक बार फिर ताइवान को अपना हिस्सा बताया है। साथ ही श्वेत पत्र में कहा गया है कि हम शांतिपूर्ण मिलन का प्रयास करते हैं अगर ताइवान इसका विरोध करता है, तो हम बल प्रयोग के विकल्प को चुनेंगे।

ताइवान मुद्दे पर चीन ने एक बार फिर धमकी दी है। बुधवार को जारी एक श्वेतपत्र के अनुसार चीन ने कहा है कि अब वह ताइवान द्वीप को अपने मेनलैंड के साथ जोड़ेगा।

ताइवान के मुद्दे पर चीन का यह तीसरा श्वेतपत्र है। पहला श्वेतपत्र 1993 में आया था जिसमें ताइवान को स्वायत्तता देने के साथ साथ कई और वादे किए गए थे। इसके बाद 2000 में दूसरा श्वेत पत्र जारी हुआ था जिसमें चीन ने वादा किया था कि चीनी सैनिक ताइवान की मीडियन लाइन को नहीं पार करेंगे। इस बार के श्वेतपत्र में चीन ने ताइवान को मेनलैंड के साथ जोड़ने की बात कही है।

जब अमेरिकी हाउस की स्पीकर नैंसी पेलोसी ने ताइवान की धरती पर कदम रखा, उसके बाद चीन की सैन्य हरकतें तेज हुई हैं। पेलोसी के दौरे के बाद चीन ने अपना सबसे बड़ा मिलिट्री अभ्यास शुरू कर दिया था ‘वन चाइना पॉलिसी’ के तहत चीन ताइवान को अपना हिस्सा मानता है इसलिए पेलोसी के दौरे पर चीन ने अमेरिका को भी धमकी दी थी। चीन ने कहा कि अमेरिका आग से न खेले, वरना इसके परिणाम भुगतने होंगे।