दुनिया

यमन में अमरीका का डर्टी गेम हुआ शुरु, रिपोर्ट

एक यमनी वेबसाइट का कहना है कि अमरीका, देश के तेलों से मालामाल तटों पर क़ब्ज़ा करना चाहता है।

यमन की एक वेबसाइट ने अमरीकी प्रतिनिधिमंडल के यमन के हज़रमूत प्रांत के दौरे के बाद लिखा है कि अमरीकी प्रतिनिधिमंडल का इस प्रांत विशेषकर इसके तटवर्ती शहरों का दौरा, यमन के तेल से मालामाल इलाक़ों में अमरीका के इरादों को ज़ाहिर करता है।

फ़ार्स न्यूज़ एजेन्सी की रिपोर्ट के अनुसार इस सप्ताह रविवार को एक अमरीकी प्रतिनिधिमंडल “सिविल अफ़ेयर्ज़ टीम” की आड़ में यमन के हज़रमूत के क्षेत्र बोरोम में दाख़िल हुआ और इस क्षेत्र के स्थानीय अधिकारियों से मुलाक़ात की।

26 सितम्बर नामक वेबसाइट ने इस मामले पर अपनी एक रिपोर्ट में लिखा है कि अमरीकी सेना की सिविल अफ़ेयर्ज़ टीम के शीर्षक के अंतर्गत और सर्विस प्रोजेक्ट्स के निरिक्षण के बहाने अमरीकी प्रतिनिधिमंडल का तटवर्ती शहर बोरोम का दौरा, उनके इरादों की सच्चाई और यमन में एक सैन्य अड्डा बनाने, तटवर्ती और अहम इलाक़ों पर नियंत्रण करने के अमरीका के शत्रुतापूर्ण इरादों को ज़ाहिर करता है।

इस यमनी वेबसाइट ने इस बात पर बल दिया कि यह कार्यवाही यमन के विरुद्ध अतिक्रमण के सच्चे लक्ष्यों को ज़ाहिर करती है और बाक़ी केवल इन लक्ष्यों को व्यवहारिक बनाने के हथियार हैं।

26 सितम्बर नामक वेबसाइट ने लिखा कि अमरीकी पुलिसकर्मी कुत्तों और बक्तरबंद गाड़ियों के साथ हज़रमूत शहर में खुलेआम और धड़ल्ले से घूमते रहे और अमरीकी सैनिकों की भड़काऊ उपस्थिति और शहर की गलियों में चौकियों की स्थापना ज़ाहिर करती है कि अमरीकियों के हज़रतमूत में राजदूत, सैन्य प्रतिनिधि मंडल और अधिकारियों से मुलाक़ात, अमरीकी सेना की तैनाती हज़रमूत की सेना और सुरक्षा मामले उनके हवाले करने की भूमिका है ताकि तेल की दौलत से मालामाल इस प्रांत पर नियंत्रण प्राप्त करने के लिए पहला क़दम उठाया जा सके।

कुछ समय पहले एक यमनी वेबसाइट ने यमन में अमरीकी राजदूत के हज़रमूत दौरे और अमरीका की ओर से मकरान सागर के निकट रैयान हवाई अड्डे के निकट सैन्य अड्डे की स्थापना के बारे में सूचना दी थी। (