देश

कैथल, एडीजीपी श्रीकांत जाधव के दिशानिर्देशों नशा मुक्ति जागरूकता कार्यक्रम के अंतर्गत तीन स्थानों पर किया जागरूक : रवि जैस्ट की रिपोर्ट

Ravi Press
========
एडीजीपी श्रीकांत जाधव के दिशानिर्देशों एवं मार्गदर्शन में नशा मुक्ति जागरूकता कार्यक्रम के अंतर्गत तीन स्थानों पर किया जागरूक
जिला शिक्षा अधिकारी शमशेर सिंह सिरोही ने कहा बहुत ही सराहनीय प्रयास
उप निरीक्षक डॉ. अशोक कुमार वर्मा ने औषधि विक्रेताओं से विशेष भेंट कर उन्हें दिए निर्देश

कैथल। हरियाणा राज्य नारकोटिक्स कण्ट्रोल ब्यूरो प्रमुख, प्रयास इंडिया के संस्थापक एवं अम्बाला मंडल के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक श्री श्रीकांत जाधव भारतीय पुलिस सेवा के दिशानिर्देशों एवं मार्गदर्शन में कैथल ज़िले में एक साथ तीन विभिन्न स्थानों पर जागरूकता कार्यक्रम आयोजित कर विद्यार्थियों एवं शिक्षकों को नशे के दुष्परिणामों से परिचित कार्याय गया। जागरूकता कार्यक्रम में हरियाणा राज्य नारकोटिक्स कण्ट्रोल ब्यूरो के जागरूकता कार्यक्रम एवं पुनर्वास प्रभारी उप निरीक्षक डॉ. अशोक कुमार वर्मा अपने सहयोगी सहायक उप निरीक्षक राजेंद्र कुमार के साथ मुख्य वक्ता के रूप में पहुंचे और विद्यार्थियों को नशे के दुष्परिणामों से परिचित करा उन्हें नशे से दूर रहने के लिए परामर्श दिया।

सबसे पहले राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय साकरा में विद्यार्थियों को नशे से दूर रहने के लिए जागरूक किया गया। तत्पश्चात राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय कौल में जागरूकता कार्यक्रम किया और तीसरा राजकीय उच्च विद्यालय चूहड़ माजरा में जागरूकता कार्यक्रम के पश्चात पौधारोपण किया गया।

तीनों विद्यालयों में अलग अलग से जागरूकता कार्यक्रम के अंतर्गत ब्यूरो के जागरूकता कार्यक्रम एवं पुनर्वास प्रभारी उप निरीक्षक डॉ. अशोक कुमार वर्मा ने विद्यार्थियों को नशे के दुष्परिणामों से विस्तारपूर्वक बताया और सचेत करते हुए कहा कि जो वस्तु हमे माता पिता ने खाने को नहीं दी और जिससे वे दूर रहने के लिए कहते हैं वे हमारे जीवन के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होती हैं। उन्होंने कहा कि कोई भी माता पिता अपनी संतान का बुरा नहीं चाहती। यही कारण है कि हमे उन द्वारा दिए गए परामर्श को अपने जीवन में अपनाना चाहिए। उन्होंने कहा कि भारत सरकार द्वारा एक बहुत ही कठोर अधिनियम बनाया है जिसके अंतर्गत कोई भी व्यक्ति प्रतिबंधित नशों का सेवन नहीं करेगा, न रखेगा, न तस्करी करेगा और न ही ऐसे कार्यों में किसी भी व्यक्ति की सहायता करेगा। नशे से दूर रहकर ही व्यक्ति अपने जीवन का विकास कर सकता है और यदि एक बार नशे की चंगुल में फंस जाता है तो इससे बाहर निकलना बहुत कठिन हो जाता है क्योंकि यह नशा उसके रक्त में समाहित होकर उस व्यक्ति को उसका आदि बना देता है।

व्यक्ति नशा छोड़ना चाहता है लेकिन नशा उसे नहीं छोड़ता। इसीलिए ब्यूरो प्रमुख श्री श्रीकांत जाधव साहब के दिशानिर्देशों से प्रत्येक व्यक्ति को नशे से दूर रहने के लिए नियमित जागरूक किया जा रहा है। उन्होंने विद्यार्थियों से इस विषय पर खुलकर परिचर्चा करते हुए ब्यूरो द्वारा जारी रामबाण रुपी टोलफ्री नंबर 9050891508 पर गुप्त सूचनाएं देने के लिए प्रेरित किया और कहा कि नशा छोड़ने वाले भी इस पर सम्पर्क कर सकते हैं और लाभ उठा सकते हैं। उन्होंने कहा कि हरियाणा राज्य नारकोटिक्स कण्ट्रोल ब्यूरो किसी भी ऐसे व्यक्ति को नहीं छोड़ेगी जो नशे के व्यापार में संलिप्त होगा। ऐसे व्यक्तियों के लिए कठोर चेतावनी है कि वे समय रहते सुधर जाएँ अन्यथा कठोर परिणाम के लिए तैयार रहें। सभी विद्यार्थियों और शिक्षकों ने जीवन में नशा न करने का वचन दिया।

कार्यक्रम के अंत में विद्यालय के प्रांगण में एक पौधा प्रयास के नाम रोपित किया गया जिसमे विद्यार्थियों ने भाग लिया। कैथल जिला के जिला शिक्षा अधिकारी शमशेर सिंह सिरोही से विशेष भेंट के अंतर्गत एनसीबी के कार्यों की चर्चा की तो उन्होंने कहा कि यह अभियान और अधिक गति से चलाने की आवश्यकता है ताकि अधिक से अधिक लोगों को समय से जागरूक किया जा सके। उन्होंने एवं साकरा विद्यालय के प्राचार्य विरेन्द्र कुमार, कौल प्राचार्य अश्वनी अरोड़ा और चुहड़माजरा के प्रभारी उमेश कुमार ने एनसीबी प्रमुख श्रीकांत जाधव साहब के प्रयासों की मुक्त कंठ से प्रशंसा की। इस अवसर पर साकरा के सरपंच डॉ. सतपाल, शिक्षकगण डॉ. रामपाल, राकेश कुमार, राजेश कुमार आदि उपस्थित रहे। कौल के औषधि विक्रेताओं से विशेष भेंट कर डॉ. अशोक कुमार वर्मा ने कहा कि कोई भी प्रतिबंधित औषधि अथवा टीके न रखें और यदि रखते हैं तो ब्यूरो द्वारा जारी दिशानिर्देशों का पालन करते हुए पूरा रिकॉर्ड बनाएं अन्यथा उल्लंघन करने पर उचित कानुनी करवाई की जाएगी।