देश

कैथल, अंतर्राष्ट्रीय वृद्घजन दिवस के अवसर पर 80 वर्ष से अधिक आयु के वरिष्ठ मतदाताओं को किया सम्मानित : रवि जैस्ट की रिपोर्ट

Ravi Press
==========
अंतर्राष्ट्रीय वृद्घजन दिवस के अवसर पर जिला के 80 वर्ष से अधिक आयु के वरिष्ठ मतदाताओं को किया सम्मानित
कैथल, 1 अक्तूबर ( ) एसडीम संजय कुमार ने कहा कि भारत निर्वाचन आयोग को अत्यधिक खुशी हो रही है कि लोकतांत्रिक प्रक्रिया मे भाग लेकर और इस तरह भारतीय लोकतत्र को सुदृढ करने के अपने जोश एवं समर्पण भाव से आपने देश के युवाओं के लिए एक उदाहरण पेश किया है।

एसडीएम संजय कुमार ने लघु सचिवालय स्थित कार्यालय में अंतर्राष्ट्रीय वृद्घजन दिवस के अवसर पर जिला के 80 वर्ष से अधिक आयु के वरिष्ठ मतदाताओं को देश की निर्वाचन प्रक्रिया मे निरंतर योगदान के लिए मुख्य चुनाव आयुक्त नई दिल्ली द्वारा जारी आभार पत्र देकर सम्मानित सम्मानित किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि बुजुर्ग हमारे लिए ईश्वर का अवतार होते हैं, जिनके आशीर्वाद से हमारा पालन पोषण होता है, उनके प्रति मन में सम्मान और अटूट होता है। इससे भी महत्वपूर्ण होता है, उस अवस्था में उनके साथ होना, जब वे असहाय और अक्षम होते हैं। यही उनके प्रति हमारा प्रेम और सच्ची श्रद्घा होती है। इस मौके पर निर्वाचन कानूनगो शमशेर सिंह व सुदेश, जूनियर प्रोग्रामर राजेंद्र कुमार के अलावा वृद्घजनों में करतार सिंह, लखमी चंद, हरनाम कौर, ओमपति देवी, डॉ. गुलाब सिंह, मास्टर टेक चंद, करतारी देवी, सेवा सिंह आदि उपस्थित रहे।

राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार के लिए आवेदन 15 अक्टूबर तक :डीसी
कैथल, 1 अक्तूबर ( ) डीसी डॉ. संगीता तेतरवाल ने बताया कि भारतीय बाल कल्याण परिषद ने राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार के लिए बहादुर बच्चों के लिए आवेदन आमंत्रित किए है। आवेदन करने की अंतिम तिथि 15 अक्टूबर, 2022 निर्धारित की है। पुरस्कार पाने वाले बच्चों की आयु 6 वर्ष से 18 वर्ष के बीच होनी चाहिए और उन द्वारा बहादुरी का कार्य 1 जुलाई, 2021 से 30 सितंबर, 2022 तक किया हुआ हो।
डीसी ने ऐसे बहादुर बच्चों और संस्थानों से कहा है कि वे निर्धारित तिथि तक आवेदन भारतीय बाल कल्याण परिषद को सभी निर्धारित नियमों सहित भेजना सुनिश्चित करें। भारतीय बाल कल्याण परिषद ने ऐसे बहादुर बच्चों को सम्मानित करने का फैसला किया हुआ है, जिन्होंने जोखिम परिस्थितियों में बहादुरी का कार्य किया हो। उन्होंने कहा कि परिषद ने चार स्तर के पुरस्कार रखे हैं तथा परिषद द्वारा देश भर में 25 बहादुर बच्चों