इतिहास

#शेर अली अफ़रीदी एक ऐसा क्रान्तिकारी जिस को समझने के लिए आपको शेर अली #अफ़रीदी के बारे में जानना पड़ेगा!

भारत के मुस्लिम स्वतंत्रता सेनानी =========== · 🥏#शेर_अली_अफ़रीदी 🥏 🥏शेर अली अफ़रीदी एक ऐसा क्रान्तिकारी जिसके बारे में कम ही लोग जानते होंगे जिसका इतिहास की पुस्तकों में मुश्किल से ही विवरण मिलता है। 🥏 ये सच है ना किसी कोर्स की किताब में इस व्यक्ति का जिक्र किया गया है और ना कोई उसकी […]

इतिहास

रानी की रानी लक्ष्मीबाई की जयंती आज, वीरांगना को दीजिऐ श्रद्धांजलि, पढ़े पूरी कहानी?

19 नवंबर का दिन भारत के इतिहास का एक महत्वपूर्ण दिन है, इस दिन झांसी की रानी लक्ष्मीबाई की जयंती मनाई जाती है. रानी लक्ष्मीबाई एक बहादुर योद्धा और वीर स्वतंत्रता सेनानियों में से एक थीं. रानी लक्ष्मीबाई भारतीय स्वतंत्रता के पहले युद्ध के दौरान 1857 को ब्रिटिश राज के प्रतिरोध का प्रतीक बन गई […]

इतिहास

बाइबिल की कथाओं का ऐतिहासिक साक्ष्यों से मिलान : क्या आपको इन घटनाओं की सही तारीख या सही वर्ष याद है?

बाइबिल की कथाओं का ऐतिहासिक साक्ष्यों से मिलान करना एक मुश्किल काम है. नए शोध से पता चलता है कि भूचुंबकीय यानी जियोमैग्नेटिक आंकड़े बाइबिल के सैन्य अभियानों की तारीखों को बताने में मदद कर सकते हैं. यादें अस्थाई होती हैं. हो सकता है कि आपको अपनी वह यात्रा याद हो जब परिवार के साथ […]

इतिहास

जौनपुर : अकबर महान द्वारा वर्ष 1568-69 में गोमती नदी पर बना शाही पुल, 455 वर्षों से लोगों को सेवा प्रदान कर रहा है : रिपोर्ट

Imtiyaz Ahmed Siddiqui ============= जौनपुर: अकबर बादशाह द्वारा वर्ष 1568-69 में गोमती नदी पर बनाया गया शाही पुल, 455 वर्षों से ये ब्रिज लोगों को सेवा प्रदान कर रहा है और अभी भी अच्छी स्थिति में है, इसे अफगान आर्किटेक्ट अफजल अली ने डिजाइन किया था। जौनपुर शहर के मध्य से गुजरी गोमती नदी पर […]

इतिहास

मानगढ़ का वो आंदोलन जिसे राजस्थान का जलियावाला बाग़ हत्याकाण्ड कहा जाता है, इतिहास जानिये : कुशलगढ़ ज़िला बांसवाड़ा से धर्मेन्द्र सोनी की रिपोर्ट

मानगढ़ आंदोलन, राजस्थान का जलियावाला बाग हत्याकाण्ड १७ नवम्बर १९१३ को मानगढ़ में भील समुदाय के हज़ारों लोगों को अंग्रेज़ सरकार ने गोली बरसाकर हत्या कर दी थी। इसे ही मानगढ़ नरसंहार कहते हैं। स्थानीय लोग इस घटना को जलियावाला बाग हत्याकांड के समरूप बताते हैं। भारत के स्वतंत्रता संग्राम में अमृतसर के जलियांवाला बाग […]

इतिहास

महान मुग़ल साशक औरंगज़ेब ने अपने बेटे आज़म शाह के लिए हिंदी शब्दकोश तैयार किया था, मुग़ल बादशाहों की हिंदी कविता : रिपोर्ट

औरंगज़ेब को हिंदुओं से नफ़रत करने वाले कट्टर इस्लामी शासक के रूप में देखा और दिखाया जाता है, लेकिन औरंगज़ेब इतिहास का काफ़ी जटिल पात्र है जिसकी कहानी में कई ऐसी बातें हैं जो लोगों को चौंका सकती हैं. औरंगज़ेब का भाई दारा शिकोह एक उदारवादी शहज़ादे के रूप में मशहूर रहा है जिसने वेदों […]

इतिहास

उन्हें कुंजरा कहा जाता है वे पशुपालन खेती और व्यापार से जुड़े हैं : मुसलमानों की राईन जाति जिसे अशरफ़िया समूह ने ”कुंजरा” नाम दिया!

Ali Rahat =========== · राई (कुंजड़ा ) मुसलमानों की अन्य कामकाजी जातियों की तरह राईन भी एक कामकाजी जाती है । जिसका काम फल सब्जी मेवा इत्यादि की पैदावार करना और उसको बेचना है राईन जाति जिसके खुद्दार होने की वजह से अशरफिया समूह ने इसको कुंजरा नाम दे दिया और इस जाति के अंदर […]

इतिहास

सेठ रामदास जी गुड़वाले – इतिहास के पन्नों में कहाँ हैं ये नाम??

Ajeet Singh Yadav Rinku ================= · इतिहास के पन्नों में कहाँ हैं ये नाम?? सेठ रामदास जी गुड़वाले – 1857 के महान क्रांतिकारी, दानवीर जिन्हें फांसी पर चढ़ाने से पहले अंग्रेजों ने उन पर शिकारी कुत्ते छोड़े जिन्होंने जीवित ही उनके शरीर को नोच खाया । सेठ रामदास जी गुडवाला दिल्ली के अरबपति सेठ और […]

इतिहास

प्लासी और बक्सर की लड़ाई के बाद…अंग्रेज़ों के ख़िलाफ़ सशस्त्र प्रतिरोध का नेतृत्व भवानी पाठक, देवी चौधरी और मूसा शाह ने किया था, लेकिन…

My country mera desh ==============· ब्रिटिश राज की शुरुआत से ही भारतीयों ने इसका विरोध किया था. 1757 में प्लासी में शाही सेनाओं की हार और 1764 में बक्सर ने विदेशी औपनिवेशिक शक्ति के खिलाफ प्रतिरोध को समाप्त नहीं किया. किसान और आम लोग राज के खिलाफ उठ खड़े हुए. अक्सर यह माना जाता है, […]

इतिहास

🌺🌺औरंगज़ेब और हिन्दू मन्दिर🌺🌺🌺🌺आलमगीर हिन्दूकुश था, ज़ालिम था, सितमगर था”🌺🌺

My country mera desh ============== 🌺औरंगज़ेब और हिन्दू मन्दिर🌺 एक शायर ने बडे दर्द के साथ लिखा है: तुम्हें ले दे के, सारी दास्ताँ में, याद है इतना; कि आलमगीर हिन्दूकुश था, ज़ालिम था, सितमगर था”। बचपन में मैनें भी इसी तरह का इतिहास पढा था और मेरे दिल में भी इसी तरह की बदगुमानी […]