साहित्य

डॉ. हरिओम पंवार की कविता…..’काला धन’

Dr Hariom Panwar ============================ मेरी कविता ‘काला धन’ प्रस्तुत है आपके लिए अग्रिम आभार सहित। मैं अदना सा कलमकार हूँ घायल मन की आशा का मुझको कोई ज्ञान नहीं है छंदों की परिभाषा का जो यथार्थ में दीख रहा है मैं उसको लिख देता हूँ कोई निर्धन चीख रहा है मैं उसको लिख देता हूँ […]

साहित्य

“रंडी”…वह चौदह साल की लड़की…!!!

Alka Singh ================ “हमसफर….❤’ तू इस तरह से मेरी जिंदगी में शामिल है….. तू इस तरह से…… गाते हुए मोहन.. रसोईघर में पहुंच गया…. क्या बना रही हो सुधा ….. जी कटहल की सब्जी ….भूल गए क्या कल आप ही ने तो लाकर दी थी..फेवरेट जो है आप बाप बेटे की …. हां भाई ….मेरी […]

साहित्य

पूजा मेम….आपको मालिक अपने केबिन में बुला रहे है…..

Alka Singh ============== “सुनहरा मोड़”….💖 पूजा मेम …..आपको मालिक अपने केबिन में बुला रहे है …..पियुन ने टेबल पर अपने काम मे व्यस्त सुधा से कहा…… ठीक है….. जाती हूं ….पूजा बोली….मगर मन मे सोचने लगी ….कम्पनी मालिक अरविंद जी ने मुझे क्यो बुलाया है खैर बुलाया है तो जाना पड़ेगा…. सर ….आपने मुझे बुलाया…. […]

साहित्य

बच्चा पैदा करने के लिए क्या आवश्यक है…?

Alka Singh ===================== बच्चा पैदा करने के लिए क्या आवश्यक है..? पुरुष का वीर्य और औरत का गर्भ…! लेकिन रुकिए …सिर्फ गर्भ…? नहीं… नहीं…!!! एक ऐसा शरीर जो इस क्रिया के लिए तैयार हो जबकि वीर्य के लिए 13 साल और 70 साल का वीर्य भी चलेगा लेकिन गर्भाशय का मजबूत होना अति आवश्यक है […]

साहित्य

कलेजा छलनी हुआ पड़ा है मनुवाद के तीर से…इस तरह हम चक्रवर्ती से चमार हो गये…गीता मानव की कविता!

Geeta Manav ============ .* जी करता है दिखा दूँ सीना चीर के,* * कलेजा छलनी हुआ पड़ा है, * मनुवाद के तीर से !!* * हमारे पूर्वज राक्षस और राक्षसों के, * अवतार हो गये !!* * इस तरह हम चक्रवर्ती से कुर्मी , * और कुम्हार हो गये !!* * ये आर्य भारत में […]

साहित्य

पूजा में यह अगरबत्ती लगा लेना….जानें, स्त्री-मन के कुछ राज़!

Alka Singh ================ पिता की तरफ से बेटी को अद्भुत भेंट 🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷 विवाह के बाद, पहली बार मायके आयी बेटी का स्वागत सप्ताह भर चला। सम्पूर्ण सप्ताह भर बेटी को जो पसन्द है, वही सब किया गया, वापिस ससुराल जाते समय, पिता ने बेटी को एक अति सुगंधित अगरबत्ती का पैकेट दिया, और कहा की, […]

साहित्य

उसे तो जैसे आज अलीबाबा की गुफ़ा ही मिल गई थी

Alka Singh ============= एक दिन एक महिला ने अपनी किचन से सभी पुराने बर्तन निकाले। पुराने डिब्बे, प्लास्टिक के डिब्बे, पुराने डोंगे, कटोरियां, प्याले और थालियां आदि। सब कुछ काफी पुराना हो चुका था। फिर सभी पुराने बर्तन उसने एक कोने में रख दिए और बाजार से नए लाए हुए बर्तन करीने से रखकर सजा […]

साहित्य

स्तुति माँ की….by मंजुल सिसोदिया

मंजुल सिसोदिया ==================== स्तुति माँ की हे जगत जननी, जगदंबिके ! इस जग की आधारभूता, शक्ति ,भक्ति दायिनी । सिद्धि, बुद्धि दायिनी तुम, भक्त वत्सला गुण दायिनी। हो अभय दायिनी तुम, सर्व दुःख निवारिणी। सर्व पाप हारिणी, जगत धारिणी, रत्न स्वरुपा,जगत तारिणी। रक्तबीज संहारिणी तुम, हो महिषासुर घातिनी। शिव शक्ति स्वरूपा,भगवती तुम, हो शंख चक्र, […]

साहित्य

उस दिन से मेरा गधा बहुत खुश है औऱ मेरी हर बात मानता है…!!!

Alka Singh ================= एक धोबी था। उसके पास एक छोटा सा गधा था। धोबी को अपने गधे से बहुत प्यार था। गधा भी अपने मालिक से बहुत प्रेम करता औऱ दिन रात उसका बहुत सारा काम करता था । एक दिन यूं ही रास्ते में चलते हुए धोबी को एक पत्थर पड़ा दिखा। पत्थर बहुत […]

साहित्य

मैंने अपने जीवन में चमत्कार देखे हैं : डॉ. प्रतिभा पॉल

Pratibha Paul =========== कश्मीर में केवल हिन्दुओं एवं सिक्ख समुदाय के लोगों की हत्या केवल एक आतंकवाद से जुड़ा समुदाय अथवा व्यक्ति ही कर सकता है। कोई भी धर्मगुरु,अल्लाह, ईश्वर ,भगवान, वाहेगुरु जी ऐसे किसी कृत्य पर प्रसन्न नहीं हो सकते।अगर ख़ुदा ने अपनी ही सूरत पर इन्सान को बनाया है तो फिर हम सब […]