साहित्य

देह मेरी, हल्दी तुम्हारे नाम की……आरती दुबे की रचना

Aarti Dubey ============== · देह मेरी, हल्दी तुम्हारे नाम की । हथेली मेरी, मेहंदी तुम्हारे नाम की । सिर मेरा, चुनरी तुम्हारे नाम की । मांग मेरी, सिन्दूर तुम्हारे नाम का । माथा मेरा, बिंदिया तुम्हारे नाम की । नाक मेरी, नथनी तुम्हारे नाम की । गला मेरा, मंगलसूत्र तुम्हारे नाम का । कलाई मेरी, […]

साहित्य

जेब कतरा : कुमार मुकेश की कृति

Kumar Mukesh · जेब कतरा: ——— भक्क सल्ला इतना देर तक उसके पीछे-पीछे घुमता रहा लेकिन हाथ क्या लगा? दस रुपये के दो नोट. पाकीट (पॉकेट) तो इतना फुला लग रहा था मानो लाख-दो-लाख होगा, नहीं भी तो कम से कम बीस-पचास हज़ार तो होगा ही. पुरा चार घंटा उसके पीछे लगा रहा, मूड तो […]

साहित्य

दीप्ति के मन में अपने इस जीजाजी के लिए…

Poonam Jarka ========== बच्चों की छुट्टियां कल खत्म होने वाली थी, जिस वजह से हम आज रात ही सपरिवार ससुराल से छुट्टियां बिताकर वापस अपनी कर्मस्थली गोरखपुर की ओर प्रस्थान करने वाले थे। हँसी मजाक का दौर आज भी अन्य दिनों की भांति ही अपने चरम पर था। थोड़ी थोड़ी देर पर दीप्ति बीच महफिल […]

साहित्य

*_”ऑफ़लाईन माँ..”_*

Naem Parvez Khan ====================== पांचवीं कक्षा के छात्रों से बात करने के बाद शिक्षक ने उन्हें एक निबंध लिखने को दिया कि वे *”कैसी माँ’ पसंद करते हैं?* सभी ने अपनी *माँ* की प्रशंसा करते हुए विवरण लिखा। उसमें एक छात्र ने निबंधपाठ का शीर्षक लिखा- *_”ऑफ़लाईन माँ..”_* *मुझे “माँ” चाहिए, पर मुझे ऑफ़लाईन चाहिए। […]

साहित्य

अतीत की भांति भविष्य का भी यही हाल तय है और तब यह भी तय है कि तब हम इसी तरह रोते-पीटते कलपते रह जाने वाले हैं

via Shikha Singh ============= · राजीव थेपडा जी की वाॅल से *अगर आपका इस पोस्ट को सच्चे मन से पढ़ने का दिल चाहे !!* —————————————————- *समाज का एक तबका उद्विग्न है,स्त्री के प्रति जघन्य अपराध बढ़ते ही जा रहें हैं,लोग सरकारों को कोस रहे हैं,धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं और हर अगले दिन कई स्थानों पर […]

साहित्य

क़ाशिफ़ अहसन क़ाश कन्नौजी की एक ग़ज़ल : ज़र्द चेहरे पे मर मिटा था मैं….

काशिफ अहसन काश कन्नौजी ================ ___________💐💐ग़ज़ल // غزل💐💐_________ जब बुरा वक़्त टल गया मेरा दिल ज़रा में उछल गया मेरा جب برا وقت ٹل گیا میرا دل ذرا میں اچھل گیا میرا बेवफाई तो उसने की लेकिन पर ये चेहरा बदल गया मेरा بے وفائی تو اس نے کی لیکن پر یہ چہرہ بدل گیا […]

साहित्य

लिव इन….”Will U Marry me “

Poonam Jarka · ================ लिव इन आज फिर माँ का फ़ोन आया, वही पुराना राग, शादी कब करनी है? यूएस मे कोई अच्छा भारतीय लड़का नहीं मिल रहा तो थोड़े दिन की छुट्टी ले कर इंडिया आ जाओ |माँ बोलती जा रही थी और वो सिर्फ सुन रही थी |सब कुछ बोलने के बाद माँ […]