साहित्य

राम नाम की महिमा : देव राज बंसल के तीन भजन आप भी जपें!

Dev Raj Bansal लेखक Lives in Hyderabad From Kasauli ============= राम जी का भजन राम किन्हें मिला करते उन भक्तों की क्या पहचान क्या भाग्य में मेरे लिखा है मैं उनको सकता जान अगर कोई त्रुटि है मुझ में प्रभु नहीं पा सकता हूं दुर्भाग्य मेरा इतना बड़ा है नाम भी नहीं गा सकता हूं […]

साहित्य

#राजपूत शब्द की उत्पत्ति राजपुत्र से हुई है, राजपूत केवल राजकुल में ही पैदा होते हैं….By-B B Singh

B B Singh Lives in Jaunpur, Uttar Pradesh संवाददाता at Jaunpur City News ============== #राजपूत शब्द की उत्पत्ति राजपुत्र से हुई है, इसलिए राजपूतों के लिए यह भी काफी प्रचलित है कि राजपूत केवल राजकुल यानि कि राजा के कुल में ही पैदा होते हैं, हालांकि राजा के कुल में तो कई जातियां पैदा हुईं […]

साहित्य

तब गुरुजी हंसे और उन्होंने दर्पण का रुख शिष्य की ओर कर दिया, शिष्य दंग रह गया….By-B B Singh

B B Singh Lives in Jaunpur, Uttar Pradesh संवाददाता at Jaunpur City News =========== सभी मानव जाति में अवगुण से भरे है उनकी अवगुणों को नजरअंदाज कर सगुण को स्वीकार करे एक गुरुकुल के आचार्य अपने शिष्य की सेवा से बहुत प्रभावित हुए । विद्या पूरी होने के बाद जब शिष्य विदा होने लगा तो […]

साहित्य

दोस्तों, हमारी ख़ुशी दूसरों की ख़ुशी में छिपी हुई है, जब तुम औरों को खुशियां देना सीख जाओगे तो अपने आप ही तुम्हे तुम्हारी खुशियां मिल जाएँगी!

Raju Pathak From Ajmer =========== · *ओ३म्* *एक बार पचास लोगों का ग्रुप किसी सेमीनार में हिस्सा ले रहा था।* *सेमीनार शुरू हुए अभी कुछ ही मिनट बीते थे कि स्पीकर अचानक ही रुका और सभी प्रतिभागी को गुब्बारे 🏉 देते हुए बोला, ” आप सभी को गुब्बारे पर इस मार्कर से अपना नाम लिखना […]

साहित्य

निराशा से बचने के लिए जीवन में विविधता का होना भी आवश्यक : लक्ष्मी सिन्हा का लेख पढ़िये!

Laxmi Sinha =================== निराशा की एक बड़ी कारण होती है दूसरों से बड़ी-बड़ी अपेक्षाएं करना और जीवन के यथार्थ को स्वीकार नहीं कर पाना । जैसा हम सोचते हैं वैसे ही सारा संसार सोचने लगे, ऐसा सोच हमारी निराशा का कारण बनती है। वर्तमान को छोड़कर भूत एवं भविष्य में अत्याधिक विचारण करना भी निराशा […]

साहित्य

मछली अपने तालाब की सबसे होशियार लड़की थी…पढ़ने में तेज घर के सभी कामो में एकदम चतुर..,By-Dr.vijayasingh

Dr.vijayasingh ============ समय निकालकर पूरा अवश्य बढ़े….. एक तालाब था उसमें एक मछली रहती थी और पास में ही एक बगुला.. मछली अपने तालाब की सबसे होशियार लड़की थी.. पढ़ने में तेज घर के सभी कामो में एकदम चतुर.. बगुले की उसपर काफी समय से नजर थी.. उसने एक दिन उससे बात करने की कोशिश […]

साहित्य

तुम्हारे सिवा कुछ दिखा ही नहीं है, हुआ क्या हमें ये पता ही नहीं है…. **अंशू पांडेय** की तीन ग़ज़लें आपकी नज़र!

अंशू पांडेय · ========= फिल से प्राप्त ग़ज़ल और आपकी नज्र मतला – तुम्हारे सिवा कुछ दिखा ही नहीं है हुआ क्या हमें ये पता ही नहीं है हमारी खता क्या ज़रा तुम बताओ मिली जो सजा वो वज़ह ही नहीं है बहुत लेके आते हैं नेता तो वादे बहुत सुन चुके कुछ नया ही […]

साहित्य

बचपन के cricket के रुल्स….9 ईंटो की विकेट होगी….पहली try ball होगी…By-Aslam Khan

Aslam Khan ========== बचपन के cricket के रुल्स 😀😆 . 9 ईंटो की विकेट होगी 😁 . पहली try ball होगी 😁 . जो बाऊन्डरी के बाहर ball फेकेंगा, वो खुद वापस लेके आयेगा…. 😁 . बैटिंग टीम अम्पायरींग करेगी…. 😋 दिवार को डायरेक्ट लगा तो सिक्स, बॉल बाहर गयी तो आऊट…. 😍😍 . आखिरी […]

साहित्य

एक वैश्या मरी और उसी दिन उसके सामने रहने वाला बूढ़ा सन्यासी भी मर गया!

Dr.vijayasingh ====== एक वैश्या मरी और उसी दिन उसके सामने रहने वाला बूढ़ा सन्यासी भी मर गया, संयोग की बात है। देवता लेने आए सन्यासी को नरक में और वैश्या को स्वर्ग में ले जाने लगे। संन्यासी एक दम अपना डंडा पटक कर खड़ा हो गया, तुम ये कैसा अन्याय कर रहे हो? मुझे नरक […]

साहित्य

🌻🌸🌺🏵️इंसान कुएं का मेंढक🌼🌻🌸🌺-सीताराम “पथिक” की रचना ज़रूर पढ़ें!

Sitaram Pathik =================== 🏵️इंसान कुएं का मेंढक 🌼 🌺🌸🌻🌸🌻🌸🌺 हर बंदा कुएं का मेंढक है!, और सबको यहां गुमान बहुत। सबको लगता इस दुनिया में, है कोई उससे बड़ा नहीं, उसकी गुरुता के सम्मुख अब, हो सकता कोई खड़ा नहीं, दिखलाते हैं सब दूजों को, इस कारण झूठी शान बहुत। हर बंदा कुएं का मेंढक […]