साहित्य

एक अनूठा उपहार!

‎Garima Chourey‎ ================ · एक अनूठा उपहार! मानस और रजत दोनों ही कॉलेज में सहपाठी थे। कॉलेज खत्म होने पर दोनों ही में सम्पर्क भी न के बराबर रह गया था। क्योंकि मानस आगे पढ़ाई के लिए विदेश चला गया और फिर वहीं बस गया था लेकिन कुछ दिनों के लिए वह अपने मामाजी के […]

साहित्य

एहसास…देखा आपने! एक बार भी मिलने नही आते हैं…

‎Anupa Harbola‎ ============= · एहसास “देखा आपने! एक बार भी मिलने नही आते हैं …कितना मन करता है उनसे बातें करने को, कमला दीदी कैसे अपने नाती पोते के बारे में बताती रहती हैं? और हम भरा- पूरा परिवार होने के बाद भी सूखे पेड़ की तरह एक -एक बूँद पानी को तरस रहे हैं […]

साहित्य

“सटीक़ क़दम“

‎Anita Jha‎ ============= · “सटीक क़दम “ वयः की उम्र आते आते उषा को ज़्यादा ही समझदारी आ गई थी ।सालों से ग्रामीण परिवार में पारिवारिक वर्चस्व बाबा ताऊ का , माँ पिता के प्रति दोहन होते देखते बड़ी हो गई । पिता तो हमेशा अपने खेतों की हरियाली रखवाली में व्यस्त होते । माँ […]

साहित्य

ओ मेरे कश्मीरी भाई…..ले ले मेरी इन आँखों को…..By_सरला माहेश्वरी

Arun Maheshwari ========= ओ मेरे कश्मीरी भाई ! सरला माहेश्वरी ओ मेरे कश्मीरी भाई ले ले मेरी इन आँखों को इन्हीं आँखों ने देखे थे तुम्हारे चाँदी के पहाड़ वो दूध की नदियाँ वो फूलों से ख़ूबसूरत चेहरे वो केसर के महकते खेत वो डल झील पर तैरते सपनों के घर ! ये कल की […]

साहित्य

बागों में बहार है ! सब ठीक है !

Arun Maheshwari · बागों में बहार है ! सब ठीक है ! सरला माहेश्वरी आप अथोरिटी हैं ! साक्षात सुपर मैन ! आप कुछ भी कर सकते हैं ! मतलब आप के हाथ ! जगन्नाथ ! कौन ! कब ! कैसे ! उठेगा, गिरेगा, हँसेगा, रोएगा, जीएगा, मरेगा … ग़ायब होगा या मार दिया जाएगा… […]

साहित्य

घातक बीमारियां आसान इलाज : बालों को गिरने से रोकने की दवा!

तिब्बे इस्लामी के विशेषज्ञ उसताद अब्बास तबरीज़ियान का विवरणः बालों के गिरने के बारे में जो सवाल किया गया है तो इस बारें में मैं यह कहना चाहता हूं कि बाल गिरने का कारण दो प्रकार के स्वभाव हो सकते हैं। हम इससे पहले यह बात कर चुके हैं कि इस्लामी तिब में लोगों को […]

साहित्य

हत्या…बलात्कार…दंगे…कुछ भी…जी भर कर खेलो ख़ूनी खेल

Arun Maheshwari ============= “हम अगर कहीं जाएंगे तो हमारे कंधे पर उन दबी हुई आवाजों की शक्ति होगी जिनको बचाने की बात हम सड़कों पर करते हैं। अगर व्यक्तिगत महत्वाकांक्षा होगी तो भगत सिंह जैसे शहीद होने की महत्वाकांक्षा होगी, न कि जेएनयू से इलेक्शन में गांठ जोड़कर चुनाव जीतने और हारने की महत्वाकांक्षा होगी […]

साहित्य

तब की यह तस्वीर, तब हम दाढ़ी रखते थे

Ish Madhu Talwar ========== #फिर_याद_आया_वैर_! ———————————————————— वैर (भरतपुर) की हवेली में हुई एक मुलाकात रांगेय राघव के बड़े भाई टीएनके आचार्य जी से। तस्वीर में मेरे पास बैठे हैं लेखक, रंगकर्मी दोस्त अशोक राही। यह 1980 की बात है, जब वैर में राजस्थान साहित्य अकादमी ने नवांकुर लेखक सम्मेलन आयोजित किया था। इससे पहले हम […]

साहित्य

औरत और मर्द

Shikha Singh – ============= · औरत और मर्द हर घर में होती है एक औरत औरतों की कहीं कमी नहीं हर घर में भी होते है मर्द मर्दो की भी कमी नहीं फिर क्यों लिखे जाते है दर्द जब जरुरी है औरत और मर्द क्यों उतारी जाती है औरत की इज़्ज़त क्यों किया जाता है […]

साहित्य

#रंडी…….वो तुम नीच नामर्द ही होते हो, जो…!~!

vaia : Shikha Singh =========== #रंडी ― कुछ साल पहले की बात है मारिया शारापोवा को “रंडी” सिर्फ़ इसलिए कहा गया क्योंकि वह सचिन तेंदुलकर को नहीं जानती थीं! ― सोना महापात्रा “रंडी” हो गयीं क्योंकि वो सलमान ख़ान की रिहाई सही नहीं मानती थीं! ― सानिया मिर्ज़ा से लेकर करीना कपूर तक हर वो […]