साहित्य

कैसे बर्दाश्त किया होगा तुमने, सती माँ की जय-जयकार करती उस उन्मादित भीड़ को…

Arun Maheshwari ============== आज आधुनिक भारत के रचयिता, भारतीय नवजागरण के अग्रदूत राजा राममोहन राय का जन्मदिन है। ये राजा राममोहन राय ही थे जिनके अथक प्रयासों से सती प्रथा जैसी क्रूर और अमानवीय प्रथा को रोकने के लिये क़ानून बनाया गया। आज उन्हें याद करते हुए यह कविता जो 1987 में दिवराला में रूपकंवर […]

साहित्य

ए सड़कों तुम ठंडी रहना…सूरज की नाफ़रमानी करना!

Ravish Kumar =============== ए सड़कों तुम ठंडी रहना ए सड़कों तुम ठंडी रहना सूरज की ना फ़रमानी करना गुज़र रहे हैं श्रम जीवी काँधे लाधे अम्मा- बीबी कोई बेटे का शव लटकाये चला जा रहा शीश झुकाए रोने से करता परहेज क्वारंटींन में दें न भेज जहाँ फेंक कर मिलती रोटी निर्धन को नियति की […]

साहित्य

आत्मनिर्भर का मतलब यह नहीँ है….

Reema Kapoor =========== आत्मनिर्भर का मतलब यह नहीँ है की आई फोन की जगह लावा का फोन इस्तेमाल करना शुरु कर देना है। इसका मतलब है आई फोन जैसे फोन को निर्माण करने की क्षमता विकसित करनी है। आत्मनिर्भर का मतलब यह नहीं है की तुरन्त BMW को फेककर मारुती पर आ जाना है। इसका […]

साहित्य

इस बार मूर्ख महासम्मेलन में सभापति आप ही रहेंगे

Sumit Ranjan Tripathi ============= #महामूर्ख सम्मेलन संसद भवन. प्रधानमंत्री का कक्ष. तब #नेहरूजी प्रधानमंत्री थे. मैं मिलने गया. मिलने क्या गया, अपनी पुस्तके भेट करने गया. संसद चल रही थी. बीच में ही वहां से उठकर नेहरूजी आये. उनकी दाहिनी ओर तत्कालीन केंद्रीय मंत्री श्री राजबहादुर और बाईं ओर उनके सखा एवं संसद-सदस्य श्री महावीर […]

साहित्य

◆ स्त्री और कला ◆ : क्या स्त्री होना मनुष्य होने के पहले है!

Narendra Tiwari =========== ◆ स्त्री और कला ◆ क्या स्त्री होना मनुष्य होने के पहले है? क्या काया के वार्डरोब से पहले एक ‘आत्म’ है जो तमाम किस्म के संवेदनात्मक विभेदों और प्रभावों को अतिक्रान्त करते हुए अपनी तरह से सर्वभौम है? यदि ऐसा है भी तो भी क्या इस खगोलीय सर्वात्मा के अनन्तर जिज्ञासाओं […]

साहित्य

पहले यह बताओ वह लेडी कौन थी

Sk Yadav  ==================== Lady with Cigarette : An interesting story. बात जुलाई 1993 की है, इन दिनों मैं इलाहाबाद के प्रमुख अखबार नार्दन इंडिया पत्रिका और अमृत प्रभात में न्यूज़ फोटोग्राफर के तौर पर कार्यरत था। मैं अच्छी तरह जानता था कि अखबार का पाठक रोज-रोज धरना प्रदर्शन उद्घाटन सेमिनार हिंसा मारपीट, नेताओं की तस्वीरें […]

साहित्य

तुझे क्या कहूं…बन्द रहेंगे मंदिर मस्ज़िद, खुली रहेंगी मधुशाला।

Reema Kapoor Lives in Patna, India =============== बन्द रहेंगे मंदिर मस्ज़िद, खुली रहेंगी मधुशाला। ये कैसी महामारी है, सोच रहा ऊपरवाला।। 😐 नशा मुक्त हो जाता भारत तो कैसे चलती मधुशाला व्यवसाय रुका है उन गरीबों का, जो नोट की जपते थे माला।।😐 नहीं मिल रहा राशन पानी, मगर मिलेगी मधुशाला। भाड़ में जाए जनता […]

साहित्य

नदी के द्वीप……‘अज्ञेय’

Ikkyu Tzu ============= किताब का नाम- नदी के द्वीप, लेखक- हीरानंद सचिदानंद वात्सायन ‘अज्ञेय’ “संतान को पढ़ा-लिखा कर फिर अपनी इच्छा पर चलाना चाहने का मतलब है स्वयं अपनी दी हुई शिक्षा-दीक्षा को अमान्य करना, अपने को अमान्य करना, क्योंकि बीस बरस में माँ-बाप संतान को स्वतंत्र विचार करना भी न सिखा सके तो उन्होंने […]

साहित्य

कि सब कुछ को बदलकर, ख़ुद कभी नहीं बदलना…

मृणालिनी कश्यप ================== (पूरी कविता जरूर पढ़िए) देह की धीमी आँच-आवाज़ सुनो कितना बोलती है, मन के बराबर तौलती है उसके मौन में भी कितने निमंत्रण कितनी स्वीकृतियाँ खुशियाँ-उदासियाँ-पाबंदियाँ आदि परम्पराएँ-सभ्यता-संस्कृतियाँ सब पिघलते रहते हैं साँस लेते रहते हैं चुपचाप होकर एकाकार बदलते रहते हैं रूपाकार बस हो एक देह की पुकार सिवाय देह के […]

साहित्य

मैं वो नंबर 11 हूँ

DEMO pic : ramazan top ‘cananon’ UAE Mukul Anindya Mishra ========== सभी राज्यों में जागरूकता, गहरी नींद में भी । प्रश्नकर्ता: सोते समय आप क्या करते हैं? महाराज: मुझे नींद आने से वाकिफ है । Q: क्या नींद बेहोश की स्थिति नहीं है? एम: हाँ, मैं बेहोश होने के बारे में वाकिफ हूँ । Q: […]