धर्म

गुजरात : घोघा गांव की 1400 साल पुरानी मस्जिद, आज भी मौजूद है जिसका क़िबला रुख बैतूल मुक़दस की तरफ़ है : सैय्यद याहिया

Syed Yahiya Seodrntpso =========== गुजरात के भावनगर के गांव घोघा मे शायद भारत कि लगभग 1400 साल पुरानी मस्जिद आज भी मौजूद है जिसका किबला रुख बैतूल मुक़दस की तरफ है… इस मस्जिद का निर्माण अत्यंत जीर्ण अवस्था में है मस्जिद के अंदर लगभग 25 लोग एक साथ नमाज पढ़ सकते है मस्जिद में 12 […]

धर्म

तसवूफ़ एक बदनाम लफ़्ज़ होकर रह गया है….तसवूफ़ क्या है? : Part-7

  Razi Chishti ================= · (7) अगर कुरान की आयात के ज़ाहिरी मआनी सब कुछ हैं तो अल्लाह swt बार बार क्यों फ़रमा रहा है कुरान में ग़ौर करो और जो ग़ौर नहीं करता उसके लिए फ़रमा रहा है कि तुम ग़ौर क्यों नहीं करते क्या तुम्हारे अक्लों पर ताले पड़े हुए हैं(47:24) और जो […]

धर्म

तसवूफ़ एक बदनाम लफ़्ज़ होकर रह गया है….तसवूफ़ क्या है? : Part-6

  Razi Chishti ================== · (6) नबी करीम saw फ़रमाते हैं कि “जिसने पहचाना अपनी ज़ात(नफ़्स) को उसने पहचाना अपने रब को” हज़रत अबू बक़र ra ने फ़रमाया है कि “पाक है वो ज़ात जिसने अपनी पचान का ज़रिया इंसान के सिवा कुछ बनाया ही नहीं”. इसी पहचान की बिनाअ पर नेजाते ख़ास मिलेगी. अल्लाह […]

धर्म

तसवूफ़ एक बदनाम लफ़्ज़ होकर रह गया है….तसवूफ़ क्या है? : Part-5

  Razi Chishti =============== · (5) अल्लाह swt ने फ़रमाया, “मोमिनो! इस्लाम में पूरे पूरे दाख़िल हो जाओ, और शैतान की इत्तबा(नक़ल) न करो”(2:208). अल्लाह swt शैतान के नक़्शे क़दम पर चलने से मना फ़रमा रहा है इसलिए यह जानना ज़रूरी है कि शैतान का अमल क्या है? शैतान ने जब सजदा करने से इंकार […]

धर्म

तसवूफ़ एक बदनाम लफ़्ज़ होकर रह गया है….तसवूफ़ क्या है? : Part-4

Razi Chishti ====================== · (4) नबी करीम saw फ़रमाते हैं कि अगर कोई शख़्स यह गवाही देता है कि अल्लाह के सिवा कोई इबादत के लायक़ नहीं है और मुहम्मद saw अल्लाह के रसूल हैं, और नमाज़, रोज़ा, हज व ज़कात के अरकान पर पाबंदी से अमल पैरा है तो वह इस्लाम पर है और […]

धर्म

तसवूफ़ एक बदनाम लफ़्ज़ होकर रह गया है….तसवूफ़ क्या है? : Part-3

Razi Chishti ================ (3) अल्लाह swt फ़रमा रहा है कि आँखें उसको नहीं पासकतीं (6:103) और सूरह हज में फ़रमा रहा है कि बात यह है कि आँखें अंधी नहीं होती हैं लेकिन सीनों में जो दिल हैं वो अंधे होते हैं(22:46). इस तरह कुरान से दिल कि बीनाई साबित है फिर दिल से किस […]

धर्म

तसवूफ़ एक बदनाम लफ़्ज़ होकर रह गया है….तसवूफ़ क्या है? : Part-2

Razi Chishti ========== · (2) कुछ लोगों का यह कहना है कि इस्लाम में तसवूफ़ के लिए कोई जगह नहीं है. उनका कहना बिलकुल सही है. तसवूफ़ इस्लाम के मक़ाम की चीज़ ही नहीं है. यहाँ तक कि आयत 49:14 मज़कूर से वाज़ह है कि इस्लाम और ईमान यह दोनों अलग हैं. हदीस जिबराईल जिसका […]

धर्म

उनका दोस्त अल्लाह है कि उनको अँधेरों से निकाल कर रोशनी में ले जाता है और जो काफ़िर हैं…

Razi Chishti =================== चाँद का रुख़ जब तक सूरज की तरफ़ रहता है वो रोशन रहता है और जब उसका रुख़ सूरज की तरफ़ से हट जाता है तो वो बेनूर हो जाता है. कुछ ऐसा ही हमारे साथ हुआ है. हमने भी अपना रुख़ अल्लाह swt की तरफ़ से फेर लिया है और जो […]

धर्म

तसवूफ़ एक बदनाम लफ़्ज़ होकर रह गया है….तसवूफ़ क्या है?

Razi Chishti =============== तसवूफ़ क्या है? तसवूफ़ एक बदनाम लफ़्ज़ होकर रह गया है. तसवूफ़ का नाम सुनते ही लोगों के दिमाग़ में मज़ारों के रसुमात आने लगते हैं. जो लोग तसवूफ़ के खेलाफ़ हैं दर हक़ीक़त उनका भी कोई क़सूर नहीं हैं. आज मज़ारों के अक़ीदतमन्द लोग जो बातिनी रमूज़ ओ असरार से नाआशना […]