विशेष

आज आप कात्या के डर से ये जगह छोड़ रहे हैं कल को गांव में कोई कात्या पैदा हो गया तो कहा जाओगे???

लक्ष्मी कान्त पाण्डेय ============ घातक एक कल्ट क्लासिक रचना है… ऐसी फिल्म अब दोबारा से बन ही नहीं सकती…इस फिल्म को लोग ” ये मजदूर का हाथ है कात्या” जैसे डायलॉग की वजह से याद रखते हैं लेकिन ये फिल्म उससे कहीं अधिक है। फिल्म के एक सीन में काशी का पिता अस्पताल में भर्ती […]

साहित्य

“आइना….मेरे मम्मी पापा को मेरी पसन्द-नापसन्द की कोई फ़िक्र ही नहीं

लक्ष्मी कान्त पाण्डेय ============ “आइना…. चोरी-छिपे मोबाइल फोन पर दोनों घंटों बात करते रहते थे सुबह व्हाट्सएप पर गुड मॉर्निंग से देर रात गुड़ नाइट तक क्या कर रहे हो ….क्या खाया…. कहा थे…. यही सब चलता रहता था दोनों एक-दूसरे को चाहते थे अक्सर बहाने से मिलते भी रहते थे कोचिंग क्लास से शुरू […]

साहित्य

ये कहानी नही सच्ची घटना है….!!…बहु तुम कहीं जा रही हो?

लक्ष्मी कान्त पाण्डेय =========== ये कहानी नही सच्ची घटना है….!! तुम अब मायके कभी नहीं जाओगी…!! अब तुम मायके नहीं जाओगी। कभी भी नहीं। घर में रहो और अपना घर संभालो। अब इस मुद्दे पर मैं दोबारा कोई बात नहीं करना चाहता ” मयंक ने माधवी से दो टूक बात की और अपने ऑफिस रवाना […]

विशेष

क्या भगवान वैसे हैं जैसा आप सोचते हैं ❓…By-लक्ष्मी कान्त पाण्डेय

लक्ष्मी कान्त पाण्डेय ============= क्या भगवान वैसे हैं जैसा आप सोचते हैं ❓ गाँँव के मन्दिर में एक बडे धर्मात्मा पुजारी थे वे कभी किसी से दान-दक्षिणा की मांग नही करते थे। वे इतने स्वाभिमानी व्यक्ति थे कि जितना मंदिर चढ़ावे की राशि आती, उसमें से भी वे केवल उतनी ही राशि लेते थे जिससे […]

Uncategorized

विवाह योग्य युवक युवती के परिवार वाले ध्यान से पढ़े..!!…By-लक्ष्मी कान्त पाण्डेय

लक्ष्मी कान्त पाण्डेय =========== “भाग्य…. विवाहयोग्य युवक युवती के परिवार वाले ध्यान से पढ़े..!! एक 26 वर्षीय लड़की के पिताजी को उसके नजदीक के परिजन ने एक योग्य वर के बारे में बात की…. लड़का शहर में नौकरी करता है दिखने में सुस्वरूप है…. अच्छे संस्कार वाला है…. लड़के के माँ बाप भी सुस्थिति में […]

साहित्य

“असली हकदार……!!

लक्ष्मी कान्त पाण्डेय =============== “असली हकदार……!! रंजन बाबू बिस्तर पर भीगी हुई पलको को साफ करते हुए हरपल बस यही प्रार्थना करते रहते ईश्वर उन्हे जल्दी से अपने पास बुला ले लगभग साठ वर्ष पार कर चुके रंजनबाबू को कई बीमारियों ने धर दबोचा था ….. बिस्तर पर ही मलमूत्र त्यागने के चलते उनका बेटा […]

साहित्य

ज्योति हाट बाज़ार से सब्ज़ी ख़रीद कर घर लौटी तो देखा….

लक्ष्मी कान्त पाण्डेय =================== स्पेशल पोस्ट फोर ज्योति गर्ग….!! Jyoti Garg ज्योति हाट बाजार से सब्जी खरीद कर घर लौटी तो देखा घर में काफी शांति पसरी हुई थी। दोनों बच्चे चुपचाप बरामदे में बैठे अपनी पढ़ाई कर रहे थे। रोज धमा चौकड़ी मचाने वाले उसके पाँच और तेरह साल के बेटे चुपचाप बैठकर पढ़ाई […]

साहित्य

एक और कर्ण……!!

लक्ष्मी कान्त पाण्डेय =========== दिल्ली की कंपकंपाती सर्दी में भी कुणाल अपनी सैर करने की आदत को छोड़ नहीं पाता था। हमेशा की तरह आज भी वह तैयार होकर सैर के लिए बाहर निकला। दरवाजा खोलते ही शीत लहरी उसके पूरे बदन को कंपकंपा गई। लेकिन वह तो जैसे उनसे मुकाबला करने को तैयार था […]

साहित्य

अभी कुछ ही दिनो पहले की बात है….!!—-By – लक्ष्मी कान्त पाण्डेय

लक्ष्मी कान्त पाण्डेय ============ अभी कुछ ही दिनो पहले की बात है….!! एक यजमान लड़की का कॉल आया मेरे पास…उसने कहा मेरी एक सहेली है वो आपसे बात करना चाहती हैं अपने ग्रह नक्षत्र के बारे मे जानना चाहती हैं…!! मैंने कहा कॉल करने कहियेगा उनको… दोपहर दो बजे से लेकर रात्रि के 10 बजे […]