देश

Video: मारवाड़ी युवक ने कबूल किया इस्लाम, घरवालों ने दुबारा हिन्दू बनने को कहा तो दी चेतावनी

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी और अन्य कट्टरवादी संगठन बजरँग दल आदि मुसलमानों की घर वापसी का प्रोग्राम चलाते रहते हैं,लेकिम इस्लाम की अच्छाई और अख़लाक़ से प्रभावित हुए बगैर कोई रह नही सकता है,भारतीय संविधान के अनुसार प्रत्यक भारतीय नागरिक को अपनी इच्छा के अनुसार किसी भी धर्म को अपनाने और छोड़ने का अधिकार है।

पिछले दिनों केरल की डॉक्टर हादिया के मामले सुप्रीम कोर्ट ने हिंदूवादी संगठनों को लताड़ लगाते हुए उसे उसके पति के साथ रहने की इज़ाज़त दी थी,अब खबर साउथ से ही आरही है कि तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई के रहने वाले एक मारवाड़ी युवक द्वारा इस्लाम कबूल करने की बात सामने आयी है। जब युवक के घरवालों ने उसे वापस हिंदू धर्म अपनाने की मांग की तो युवक ने अपने परिजनों के खिलाफ ही मुकदमा दर्ज करने की धमकी दी है।

मिड-डे की एक खबर के अनुसार, चेन्नई में रहने वाले इस्लाम रजा उर्फ जितेंद्र घीसाराम का पिछले कुछ सालों से इस्लाम धर्म की ओर झुकाव शुरु हुआ था। हालांकि इस दौरान इस्लाम उर्फ जितेंद्र ने अपने परिवार का बिजनेस संभाला, उसकी शादी भी हुई। लेकिन कुछ साल पहले जितेंद्र को अपने इस्लाम धर्म के प्रति प्यार के चलते धर्मांतरण का विचार आया। जिसके लिए जितेंद्र जनवरी, 2017 में चेन्नई से मुंबई आ गया।

मुंबई आने के बाद जितेंद्र ने एक कॉल सेंटर में जॉब करनी शुरु कर दी। इस दौरान उसका एक मुस्लिम दोस्त उसे कुर्ला स्टेशन के नजदीक एक मौलवी के पास लेकर गया। मौलवी की मदद से जितेंद्र ने 10 फरवरी, 2017 को धर्मांतरण कर इस्लाम स्वीकार कर लिया। जिसके बाद उसने अपना नाम मोहम्मद इस्लाम रजा खान रख लिया। इस्लाम का कहना है कि धर्मांतरण के बाद वह काफी खुश था और इसके बाद काफी समय मस्जिदों में गुजारने लगा था, जिससे उसे इस्लाम के बारे में और भी ज्यादा सीखने को मिला। इतना ही नहीं इस्लाम ने इसके बाद अपनी जॉब छोड़ दी और इस्लाम धर्म के बारे में और जानने के लिए अहमदनगर के एक मदरसे में 2 महीने के एक पाठ्यक्रम में एडमिशन भी ले लिया।

इसी बीच इस्लाम के परिजनों को उसके बारे में जानकारी मिली और वह उसे अपने साथ वापस चेन्नई ले गए। इस्लाम का कहना है कि उसके परिजनों ने उसे भावनात्मक रुप से ब्लैकमेल करने की कोशिश की, जिससे वह उनके साथ जाने के लिए तैयार हो गया। लेकिन वहां पहुंचकर इस्लाम के परिजनों ने उसे प्रताड़ित करना शुरु कर दिया और उसे वापस हिंदू धर्म में आने के लिए बुरी तरह मारा-पीटा। इस्लाम के परिजनों ने उसकी दाढ़ी और बाल कटवा दिए और उसे मंदिर जाने के लिए मजबू किया। इसी बीच एक दिन इस्लाम मौका पाकर घर से भाग गया।

अब इस्लाम के परिजनों का आरोप है कि इस्लाम घर से करीब 1.7 लाख रुपए और 53 ग्राम सोना लेकर भागा है। साथ ही इस्लाम के घरवालों का यह भी कहना है कि उसका इस्तेमाल देश-विरोधी गतिविधियों में किया जा सकता है औऱ यदि ऐसा होता है तो उसमें उनकी कोई जिम्मेदारी नहीं होगी। फिलहाल इस्लाम की सही लोकेशन का पता नहीं है, लेकिन उसने अपने घरवालों के खिलाफ मुकदमे की धमकी दी है। फिलहाल पुलिस इस्लाम की तलाश कर रही है और मामले की जांच में जुट गई है।